लीड्स में 54 साल से अजेय है टीम इंडिया, इस बार भी भारतीय स्पिनर्स बरपा सकते हैं कहर; ये है कारण

हेडिंग्ले लीड्स में शुरू होने वाले तीसरे टेस्ट मैच में भारतीय टीम का पलड़ा इंग्लैड पर भारी दिख रहा है। रिकॉर्ड्स भी भारत के पक्ष में नजर आ रहे हैं। इस मैदान पर भारतीय टीम पिछले 54 साल से अजेय रही है। वहीं आखिरी बार सौरव गांगुली की टीम ने 2002 में यहां जीत दर्ज की थी।

ind-vs-eng-3rd-test-team-india-test-records-in-leeds-unbeaten-since-54-years-indian-spinners-shines-ashwin-can-make-into-playing-11
लीड्स में भारतीय टीम को 1967 के बाद से कभी नहीं मिली हार, हमेशा भारतीय स्पिनर्स ने इस मैदान पर किया है कमाल (Source: Indian Express)

भारत और इंग्लैंड के बीच बुधवार से लीड्स में सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच खेला जाएगा। लॉर्ड्स में शानदार जीत दर्ज करने के बाद भारतीय टीम के हौसले भी बुलंद होंगे। वहीं हेडिंग्ले लीड्स में भारत के रिकॉर्ड पर नजर डालें तो भारत इस मैदान पर 54 साल से टेस्ट मैच नहीं हारा है। हालांकि इसके बाद भारत ने इस मैदान पर 3 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें से एक ड्रॉ रहा और दो बार भारत को जीत मिली है।

अगर कुल मुकाबलों की बात करें तो लीड्स में अब तक भारत ने 6 टेस्ट मैच खेले हैं। जिसमें से तीन में भारत को हार मिली है तो दो बार भारत ने इस मैदान पर जीत का भी स्वाद चखा है। इसके अलावा एक मुकाबला इस मैदान पर भारतीय टीम ने ड्रॉ भी खेला है।

भारत ने 1952 में पहली बार इस मैदान पर टेस्ट मैच खेला था और आखिरी टेस्ट मैच भारत ने 2002 में खेला था जब भारत को जीत मिली थी। सौरव गांगुली के नेतृत्व में भारतीय टीम ने लीड्स के मैदान पर तिरंगा लहराया था। इस जीत में अहम योगदान रहा था भारतीय स्पिनर्स की सर्वश्रेष्ठ जोड़ी हरभजन सिंह और अनिल कुंबले का। कुंबले ने इस मुकाबले में 7 विकेट लिए थे जबकि हरभजन सिंह ने 3 इंग्लिश खिलाड़ियों को वापस पवेलियन भेजा था।

54 साल से लीड्स में अजेय भारत

भारतीय टीम को आखिरी बार 1967 में इस मैदान पर हार का सामना करना पड़ा था। उस वक्त टीम के कप्तान ने मंसूर अली खान पटौदी जब भारत को इंग्लैंड ने 6 विकेट से हराया था। इसके बाद 1979 में भारत ने मुकाबला ड्रॉ करवाया था और फिर 1986 में कपिल देव की कप्तानी में भारत ने शानदार 279 रनों से जीत दर्ज की थी। इसके बाद 2002 में सौरव गांगुली की कप्तानी में भारत को इस मैदान पर पारी और 46 रनों से बड़ी जीत मिली थी। स्पिनर्स ने इस मैच में अहम भूमिका निभाई थी।

लीड्स में भारतीय स्पिनर्स का रहा है बोलबाला

अगर बात करें लीड्स में भारतीय स्पिनर्स के प्रदर्शन की तो इस मैदान पर हमेशा से भारतीय स्पिनर्स का बोलबाला रहा है। इस मैदान पर गुलाम अहम ने 1952 में 7 विकेट झटके थे इसके बाद भारतीय दिग्गज अनिल कुंबले ने भी इसी मैदान पर 2002 में खेले गए टेस्ट मैच में 7 विकेट लिए थे। इसके अलावा बिशन सिंह बेदी ने 1967 में 6, हरभजन सिंह ने 2002 में 4 विकेट इसी मैदान पर लिए थे। 1986 में मनिंदर सिंह ने भी इस मैदान पर टेस्ट मैच में 4 विकेट लिए थे।

यानी इतिहास गवाह है कि यहां स्पिनर्स को मदद मिलती है। ऐसे में भारतीय टीम की प्लेइंग इलेवन में इंडिया के वर्तमान में बेस्ट स्पिनर रविंचंद्रन अश्विन की वापसी हो सकती है। अब देखना होगा कि क्या इस मैदान पर भी कप्तान कोहली 4 तेज गेंदबाजों के साथ उतरेंगे या फिर तीन तेज गेंदबाज और दो स्पिनर टीम की गेंदबाजी की बागडोर संभालेंगे।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट