scorecardresearch

IND vs AUS: पेट दर्द और बुखार के बाद भी खेले सूर्यकुमार यादव, अक्षर पटेल से इंटरव्यू में बताया फिजियो से क्या बोले थे

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टी 20 से पहले सूर्यकुमार यादव पेट दर्द और बुखार से जूझ रहे थे। निर्णायक मैच होने के कारण उन्होंने मेडिकल स्टाफ से कुछ भी करके और उन्हें खेल के लिए तैयार करने की बात कही।

IND vs AUS: पेट दर्द और बुखार के बाद भी खेले सूर्यकुमार यादव, अक्षर पटेल से इंटरव्यू में बताया फिजियो से क्या बोले थे
सूर्यकुमार यादव और अक्षर पटेल। (फोटो – बीसीसीआई स्क्रीनग्रैब)

भारतीय बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव ने खुलासा किया है कि वह रविवार को हैदराबाद में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टी 20 से पहले पेट दर्द और बुखार से जूझ रहे थे। निर्णायक मैच होने के कारण उन्होंने मेडिकल स्टाफ से कुछ भी करके और उन्हें खेल के लिए तैयार करने का आग्रह किया। मध्यक्रम के बल्लेबाज ने सीरीज के अंतिम टी20 में शानदार पारी खेली। उन्होंने 36 रन में पांच चौकों और इतने ही छक्कों की मदद से 69 रन बनाए और टीम इंडिया ने 19.5 ओवर में छह विकेट खोकर 187 रनों का लक्ष्य हासिल कर लिया।

32 वर्षीय क्रिकेटर को उनकी शानदार पारी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। bcci.tv पर प्लेयर ऑफ द सीरीज अक्षर पटेल के साथ बातचीत में उन्होंने इस बात पर खुल कर बात की कि कैसे वह तबीयत खराब होने के बावजूद खेलने में सफल रहे। उन्होंने कहा, “मौसम बदलने और यात्रा के कारण मेरे पेट में दर्द हो रहा था और फिर मुझे बुखार भी हो गया। मुझे पता था कि यह निर्णायक मैच था। तो मैंने डॉक्टर और फिजियो से कहा अगर ये वर्ल्ड कप फाइनल होता तो मैं कैसे रिएक्ट करता?”

सूर्यकुमार ने आगे कहा, “मैं इस तरह बीमार नहीं रह सकता। कुछ भी करो, मुझे कोई दवा या इंजेक्शन दो, लेकिन मुझे खेलने के लिए तैयार करो। मैदान पर पहुंचने और जर्सी पहनने के बाद एक अलग ही इमोशन होता है।” सूर्यकुमार और विराट कोहली (48 गेंद पर 63 रन) ने रविवार को भारत के लिए तीसरे विकेट के लिए 104 रन जोड़े। ओपनर बल्लेबाज केएल राहुल (1) और रोहित शर्मा (17) के सस्ते में आउट होने के बाद उनकी साझेदारी ने मेन इन ब्लू को मजबूती दिलाई।

पिछले साल मार्च में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने के बाद से सूर्यकुमार टी 20 प्रारूप में भारतीय बल्लेबाजी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहे हैं। अपनी शानदार सफलता के पीछे के कारण के बारे में पूछे जाने पर मुंबई के बल्लेबाज ने जवाब दिया, “मैं नेट्स में उसी तरह अभ्यास करता हूं जिस तरह से मैं मैच में बल्लेबाजी करता हूं। मैं हमेशा खुद को व्यक्त करने में विश्वास करता हूं। अगर ऐसा करने में मेरी सफलता दर 75 प्रतिशत से अधिक है, तो क्यों नहीं? अगर चीजें मेरे लिए अच्छी चल रही हैं, तो मैं उस फेज में ही मैच खत्म करने की कोशिश करता हूं।”

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 26-09-2022 at 05:25:21 pm
अपडेट