ताज़ा खबर
 

पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने बताई शिखर धवन की खराब फॉर्म की वजह

धवन ने एशिया कप में सर्वाधिक रन बनाए थे लेकिन इसके बाद 15 पारियों में उन्होंने 376 रन बनाए और उनका औसत 26.85 रहा। इस बीच वह केवल दो अर्धशतक जमा पाए।

Author March 6, 2019 10:27 PM
Shikhar Dhawan, poor form, ICC World Cup 2019, Virat Kohli, Ind vs Aus, Former Indian cricketer, India vs Australia,शिखर धवन(Source: File)

भारत के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन इन दिनों खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पिछली 3 पारियों में धवन ने 14, 0 और 21 रन की पारी खेली है। वर्ल्ड कप से पहले धवन की खराब फॉर्म टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के लिए चिंता का सबब बनी हुई है।

भारत के पूर्व खिलाड़ियों ने धवन की खराब फॉर्म को लेकर अपनी राय दी है। पूर्व खिलाड़ियों का मानना है कि शिखर धवन की लंबे समय से चल रही खराब फॉर्म तकनीक नहीं बल्कि उनकी मानसिकता की वजह से है। धवन ने एशिया कप में सर्वाधिक रन बनाए थे लेकिन इसके बाद 15 पारियों में उन्होंने 376 रन बनाए और उनका औसत 26.85 रहा। इस बीच वह केवल दो अर्धशतक जमा पाए। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हैदराबाद में पहले वनडे में तेज गेंदबाज नाथन कूल्टर नाइल ने उन्हें आउट किया जबकि नागपुर में दूसरे मैच में ग्लेन मैक्सवेल ने उन्हें गच्चा दिया।

प्रथम श्रेणी मैचों में धवन के साथ पारी की शुरुआत कर चुके आकाश चोपड़ा और दिल्ली की टीम में धवन के कप्तान और कोच रहे विजय दहिया दोनों ने स्वीकार किया कि बाएं हाथ का यह बल्लेबाज बुरे दौर से गुजर रहा है। वहीं, पूर्व भारतीय विकेटकीपर दीप दासगुप्ता ने कहा, ‘मानसिकता एक मसला है क्योंकि धवन हमेशा रन बनाने के तरीके ढूंढ लेते हैं।’

चोपड़ा ने कहा, “इसका खंडन नहीं किया जा सकता कि धवन बुरे दौर से गुजर रहे हैं। लेकिन अब केवल तीन अंतरराष्ट्रीय मैच बचे हैं और मुझे नहीं लगता कि कोई बड़ा बदलाव होगा।” उन्होंने कहा, “उनका बहुराष्ट्रीय टूर्नामेंट (वर्ल्ड कप, चैंपियंस ट्रॉफी, एशिया कप) में शानदार रिकॉर्ड रहा है। वह किसी भी समय फॉर्म में वापसी कर सकते हैं।”

दहिया का मानना है कि धवन का मसला मानसिकता से जुड़ा है और वह तेजी से रन बनाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “मैं यह नहीं कहूंगा कि यहां तकनीक बड़ा मसला है क्योंकि उन्‍होंने जितने भी चौके लगाए वह विकेट के सामने से लगाए। भले ही वे ऑफ साइड में नहीं थे लेकिन वे विकेट के पीछे के शॉट नहीं थे।” दहिया ने कहा, “वह तेजी से रन बनाने की कोशिश कर रहे हैं। मैक्सवेल के खिलाफ ऐसा ही हुआ। उन्‍होंने सोचा कि मैक्सवेल कामचलाऊ स्पिनर हैं तो वह तेजी से रन बना सकते हैं इसलिए उन्‍होंने पुल शॉट खेला।”

दासगुप्ता ने कहा, “नागपुर में वह क्रीज पर पांव जमा चुके थे और आसानी से उस गेंद को लांग ऑफ या लॉन्‍ग ऑन पर खेल सकते थे। ऐसा तब होता है जबकि आप थोड़ा भ्रम की स्थिति में होते हो। शिखर अगर पहले दो ओवरों में ही अपना अगला पांव काफी आगे निकालकर कवर ड्राइव खेल रहे हैं। आप समझ सकते हो कि वह अच्छी लय में है।”

प्रतिस्पर्धा का दबाव किसी मानसिकता को प्रभावित कर सकता है और केएल राहुल ने अपनी फॉर्म हासिल कर ली है और दहिया का मानना है कि यह बात धवन के दिगाम में हो सकती है। दहिया ने कहा, “जब कोई आपकी जगह लेने के लिये तैयार हो तो आप दबाव महसूस करते हो। ऐसी परिस्थितियों में आपका दिमाग कैसे काम करता है यह महत्वपूर्ण होता है।”

Next Stories
1 Ind vs Aus: जब महेंद्र सिंह धोनी से उनकी टीचर ने पूछा- तुम सिंह हो या धोनी, बदले में मिला ये मजेदार जवाब
2 IPL 2019: जब रोड रोलर लेकर पहुंचे धोनी, विराट ने भी कहा, नेम छोड़ गेम दिखा, देखें मजेदार VIDEO
3 पंड्या और केएल राहुल की बढ़ सकती हैं मुश्किलें! सीओए ने लिया यह फैसला
आज का राशिफल
X