ताज़ा खबर
 

रिकी पोंटिंग-एलन बॉर्डर ने चेतेश्वर पुजारा को जमकर लताड़ा, भारतीय बल्लेबाज के बचाव में उतरे टॉम मूडी

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान एलन बॉर्डर ने तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन भारतीय बल्लेबाजी रणनीति की आलोचना की। उन्होंने कहा कि चेतेश्वर पुजारा शॉट खेलने में डरे हुए थे। ऐसा लग रहा था कि वह रन बनाने के बजाय क्रीज पर टिके रहने के लिए खेल रहे थे।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: January 10, 2021 8:23 AM
Australia India Cricketभारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने पहली पारी में बेहद धीमी बल्लेबाजी करते हुए 176 गेंदों पर 50 रन बनाए। (सोर्स- एपी)

भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के भरोसेमंद बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा सोशल मीडिया पर ही नहीं ऑस्ट्रेलियाई दिग्गजों के भी निशाने पर हैं। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान एलन बॉर्डर और रिकी पोंटिंग ने काफी धीमी बल्लेबाजी पर उन्हें जमकर लताड़ा है। हालांकि, इस बीच, ऑस्ट्रेलिया के ही एक पूर्व ऑलराउंडर टॉम मूडी उनके बचाव में उतर आए हैं।

बॉर्डर ने शनिवार को तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन भारतीय बल्लेबाजी रणनीति की आलोचना की। उन्होंने कहा कि चेतेश्वर पुजारा शॉट खेलने में डरे हुए थे और ऐसा लग रहा था कि वह रन बनाने के बजाय क्रीज पर टिके रहने के लिए खेल रहे थे। बार्डर ने ‘फाक्सस्पोर्ट्स डॉट कॉम डॉट एयू’ से कहा, ‘वह (पुजारा) शॉट खेलने के लिये बिलकुल डरा हुआ लग रहा है, क्या ऐसा नहीं है? वह रन जुटाने के बजाय अपना विकेट बचाये रखने के लिये खेल रहा है।’ उन्होंने कहा, ‘इस श्रृंखला में उसका ज्यादा प्रभाव नहीं रहा है, उसने अपने रन जुटाने में इतना लंबा समय लिया, ऐसा लग रहा है कि वह क्रीज पर स्थिर हो गया है और इसका भारतीय बल्लेबाजी पर असर पड़ा। वे ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी पर हावी होते नहीं दिखे।’

बॉर्डर ने कहा, ‘श्रेय गेंदबाजी को दिया जाना चाहिए जो काफी अच्छी रही और ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें कभी भी दबाव से बाहर नहीं निकलने दिया। आधी जंग तो यही है, गेंदबाजों को विकेट लेने में काफी मुश्किल हो रही थी लेकिन अगर स्कोरबोर्ड ही नहीं बढ़ रहा तो अंत में यह आपका इनाम ही है।’ पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग ने भी पुजारा की बल्लेबाजी की आलोचना की। उन्होने कहा, ‘उन्हें अपनी स्कोरिंग गति में थोड़ा तेज होना चाहिए था क्योंकि मुझे लगता है कि इससे उनके बल्लेबाजी जोड़ीदारों पर ज्यादा ही दबाव पड़ रहा था।’

हालांकि, पूर्व ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर टॉम मूडी का मानना है कि पुजारा अपना नैसर्गिक खेल खेल रहे थे और स्कोरबोर्ड को चलायमान रखने की जिम्मेदारी कप्तान अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी की थी। मूडी ने ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो’ से कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि इसमें पुजारा की कोई गलती है, अपने करियर में उसने आमतौर पर इसी तरह का क्रिकेट खेला है और टीम का उनसे अपनी नैसर्गिक शैली के उलट खेल की मांग करना अनुचित होगा।’

उन्होंने कहा, ‘मैं इसे रहाणे और विहारी पर डालूंगा। विहारी आये और 38 गेंदों में चार रन बनाये। मेरे हिसाब से इन दोनों खिलाड़ियों को स्कोर को बढ़ाते रहने की जरूरत थी, उन्हें पुजारा की इस श्रृंखला में ही नहीं बल्कि अन्य श्रृंखलाओं में भी भूमिका को समझना चाहिए कि उन्होंने भारत के लिये टेस्ट क्रिकेट खेला है।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मजबूत शुरुआत दे रोहित-शुभमन पवेलियन लौटे, अब पुजारा-रहाणे पर जिम्मेदारी निभाने की बारी
2 BBL 10: सैम बिलिंग्स की विस्फोटक पारी, फिर भी हारा सिडनी थंडर; कॉलिन मुनरो और झाए रिचर्डसन ने पर्थ स्कॉर्चर्स को जिताया
3 India vs Australia: भारत को लगा बड़ा झटका, रविंद्र जडेजा का अंगूठा टूटा; टेस्ट सीरीज से हुए बाहर
आज का राशिफल
X