ताज़ा खबर
 

2020 ओलंपिक में अगर भारत को चाहिए 10 मेडल, खर्च करने होंगे 480 करोड़

फिलहाल रियो ओलंपिक 2016 में भारत ने अब तक सिर्फ एक मेडल जीता है। दूसरे मेडल की उम्मीद पीवी सिंधु की जा रही है।

Author नई दिल्ली | August 18, 2016 6:50 PM
रियो में कांस्य पदक के साथ साक्षी मलिक। (पीटीआई फोटो)

भारतीय महिला पहलवान साक्षी मलिक ने 58 किग्रा वर्ग कुश्ती मुकाबले में रेपीचाज़ के दूसरे दौर में कजाकिस्तान की महिला पहलवान को हराकर रियो ओलंपिक में कांस्य पदक जीत लिया है। पदक जीतकर रोहतक गर्ल साक्षी मलिक ने देश का मान बढ़ाया है। साक्षी के बाद बैटमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु से ओलंपिक में देश के लिए मेडल जीतने की उम्मीद की जा रही है। साल 1980 मॉस्को ओलंपिक में भारत ने 14 मेडल जीते थे। उस लिहाज से 8.92 करोड़ लोगों के हिस्से में एक मेडल आएगा। इसी तरह भारत ने लंदन ओलंपिक में 6 मेडल हासिल किए थे। जिसमें दो सिल्वर और 4 ब्रॉन्ज मेडल शामिल थे।

फिलहाल रियो ओलंपिक 2016 में भारत ने अब तक सिर्फ एक मेडल जीता है। दूसरे मेडल की उम्मीद पीवी सिंधु की जा रही है। हाल में शूटर अभिनव बिंद्रा ने एक ट्वीट में लिखा था- ‘ब्रिटेन ने हर पदक पर 55 लाख पाउंड (भारतीय करेंसी में करीब 48 करोड़ रुपए) खर्च किए हैं। इतनी मात्रा में निवेश किए जाने की जरूरत है। जब तक देश में व्यवस्था को दुरुस्त नहीं किया जाता, तब तक पदक की उम्मीद नहीं की जानी चाहिए। बिंद्रा ने अपने ट्वीट के लिए ब्रिटेन के ‘द गार्डियन’ के एक लेख का हवाला दिया है। इस लेख में बताया गया है कि ब्रिटेन ने मेडल के लिए कितना खर्च किया है।

2020 में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक गेम्स में अगर उम्मीद करे कि भारत को 10 मेडल मिले। तो अभिनव बिंद्रा के ट्वीट के मुताबिक भारत को 10 मेडल के लिए करीब 480 करोड़ रुपए खर्च करने होंगे। बिंद्रा ने अपने ट्टीट के माध्यम से भारत की व्यवस्था पर निशाना साधा था। गौरतलब है कि बिंद्रा रियो ओलिंपिक की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा के फाइनल में चौथे स्थान पर रहे थे और कांस्य पदक से चूक गए।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App