ताज़ा खबर
 

ICC World Cup 2019: कैसे तय होती है वर्ल्ड कप की मेजबानी? कहां होगा 2023 का विश्व कप, जानिए यहां

ICC World Cup 2019: साल 2006 में ही आईसीसी ने विश्व कप 2019 की मेजबानी के लिए इंग्लैंड के नाम पर मुहर लगा दी थी। दूर-दराज के देशों से अपनी टीमों को समर्थन के लिए पहुंचे क्रिकेटप्रेमी आईसीसी द्वारा इंग्लैंड में विश्व कप कराने के लेकर सवाल उठा चुके हैं।

ICC World Cup 2019: आईसीसी विश्व कप की मेजबानी कुछ इस तरह से मिलती है।(Photo-ICC and Reuters)

ICC World Cup 2019: आईसीसी विश्व कप 2019 के आयोजन को लेकर आईसीसी को काफी आलोचना झेलनी पड़ी है। दरअसल, इस विश्व कप में चार मुकाबले अबतक बारिश की भेंट चढ़ चुके हैं। इंग्लैंड और वेल्स में आयोजित इस मुकाबले को लेकर लोगों ने सोशल मीडिया पर भी आईसीसी को खरी खोटी सुनाई है। इंग्लैंड को मिली इस मेजबानी के लिए आईसीसी जिम्मेदार नहीं है।
बीबीसी के मुताबिक साल 2006 में ही आईसीसी ने विश्व कप 2019 की मेजबानी के लिए इंग्लैंड के नाम पर मुहर लगा दी थी। दूर-दराज के देशों से अपनी टीमों को समर्थन के लिए पहुंचे क्रिकेटप्रेमी आईसीसी द्वारा इंग्लैंड में विश्व कप कराने के लेकर सवाल उठा चुके हैं। लेकिन इसके लिए आईसीसी को दोष नहीं दिया जाना चाहिए। 2006 में सभी देशों ने मिलकर 2007 से 2019 तक के आईसीसी के बड़े इवेंट का आयोजकों का चुनाव किया था।

साल 1983 के बाद से आईसीसी के पास रोटेश्नल पॉलिसी है। इस नीति के तहत 20 साल में एक बार सभी देशों के पास विश्व कप आयोजन करने का मौका होना चाहिए। लेकिन क्रिकेट जगत में भारतीय बोर्डके दबदबे के चलते इस नीति का सख्ती से पालन नहीं किया गया। साल 1987 में भारत और पाकिस्तान को विश्व कप की मेजबानी मिली। ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को 1992 में, भारत, श्रीलंका, और पाकिस्तान को 1996 में, इंग्लैंड को साल 1999 में, साउथ अफ्रीका को 2003 में और वेस्टइंडीज को 2007 में मेजबानी का मौका मिला।
साल 2011 के विश्व कप की मेजबानी ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को मिलनी थी लेकिन एशियाई देशों के चलते इन दोनों देशों के बजाए भारत को मेजबानी मिली। दरअसल, आईसीसी की बैठक में एशिया में विश्व कप कराने के लिए 10 वोट मिले थे जबकि ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को सिर्फ तीन ही वोट मिले थे। चुनाव में इस जीते के चलते विश्व कप की मेजबानी एशिया में आई।रोटेश्नल पॉलिसी के हिसाब से साल 2015 की मेजबानी ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को मिल चुकी है। इंग्लैंड ने साल 1999 में आयोजन के बाद 2019 का आयोजन अपने नाम किया है।

भारत के वर्चस्व के चलते 2023 के क्रिकेट विश्व कप की मेजबानी भारत को मिली है। वहीं, 2027 के विश्व कप की मेजबानी को लेकर अभी फैसला नहीं लिया जा सका है। अगर रोटेश्नल पॉलिसी का पालन सख्ती से किया गया होता तो, साल 2011 का विश्व ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में आयोजित हुआ होता। 2015 का विश्व कप एशिया में हुआ होता और 2019 की मेजबानी फिर भी भारत को ही मिलती।
आपको अब यह पता ही चल गया होगा की क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के लिए रोटेश्नल पॉलिसी का इस्तेमाल करती है। रोटेश्नल पॉलिसी का सही से अगर पालन किया जाता है तो साल 2027 का विश्व अफ्रीकी महाद्वीप में होगा।

Next Stories
1 ‘कभी नहीं सोचा था कि ऐसी पारी खेलूंगा’, वर्ल्ड कप में 17 छक्के लगाने वाले मोर्गन बोले
2 पाकिस्तान क्रिकेट टीम पर बैन लगवाने के लिए कोर्ट पहुंचा शख्स, चयन समिति को भी बर्खास्त करने की मांग
3 Eng vs Afg: जिस से खौफ खाते थे दुनिया के सभी बल्लेबाज, उसी के नाम हुआ विश्वकप का ये सबसे शर्मनाक रिकॉर्ड
ये पढ़ा क्या?
X