scorecardresearch

ICC Rules Change 2022: थूक लगाकर नहीं चमका सकेंगे गेंद, आईपीएल का यह नियम भी होगा लागू, मांकडिंग को लेकर भी बदलाव; आईसीसी ने बदले 8 नियम

क्रिकेट के नियमों में बदलाव की बात करें तो थूक लगाकर गेंद चमकाने को पूरी तरह बैन कर दिया गया। इसके अलावा किसी बल्लेबाज के कैच आउट होने पर नया बल्लेबाज स्ट्राइक लेगा। सभी बदलाव 1 अक्टूबर 2022 से लागू होंगे।

ICC Rules Change 2022: थूक लगाकर नहीं चमका सकेंगे गेंद, आईपीएल का यह नियम भी होगा लागू, मांकडिंग को लेकर भी बदलाव; आईसीसी ने बदले 8 नियम
आईसीसी ने मांकडिंग को लेकर नियमों में बदलाव कर दिए हैं। (फोटो – आईपीएल)

ICC Rules Change 2022 : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने मंगलवार को मुख्य कार्यकारी समिति (सीईसी) की ओर से सौरव गांगुली की अगुआई वाली पुरुष क्रिकेट समिति की सिफारिशों को मंजूरी मिलने के बाद क्रिकेट के कई नियमों में बदलाव की घोषणा की। मुख्य बदलाव 1 अक्टूबर 2022 से प्रभावी होंगे। यानी ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप में ये सभी नए नियम देखने को मिलेंगे।

नियमों में बदलाव की बात करें तो थूक लगाकर गेंद चमकाने को पूरी तरह बैन कर दिया गया है। इसके अलाव किसी बल्लेबाज के कैच आउट होने पर नया बल्लेबाज स्ट्राइक लेगा। यह नियम आईपीएल 2022 में देखने को मिला था। अब इंटरनेशनल क्रिकेट में भी देखने को मिलेगा। इसके अलावा मांकडिंग भी रन आउट कहा जाएगा। आइए जानते हैं क्या हुए हैं बदलाव

कैच आउट होने पर नया बल्लेबाज लेगा स्ट्राइक

कोई बल्लेबाज अगर कैच आउट होता है तो नए बल्लेबाज के तौर पर क्रीज पर आने वाला बल्लेबाज अब स्ट्राइक लेगा। पहले नियम था कि अगर कोई बल्लेबाज गेंद हवा में खेल देता है और कैच होने से पहले स्ट्राइक बदल जाती है तो नॉन स्ट्राइक पर खड़ा बल्लेबाज स्ट्राइक लेता था। अब ऐसा नहीं होगा। आईपीएल 2022 में यह नियम लागू था।

गेंद चमकाने के लिए थूक का इस्तेमाल

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में दो साल से अधिक समय से गेंद को थूक लगाकर चमकाने पर रोक है। कोरोना महामारी आने के बाद इसपर रोक लगी थी।यह नियम तब लागू हुआ जब जुलाई 2020 में ब्रेक के बाद क्रिकेट फिर से शुरू हुआ। अब इसपर हमेशा के लिए रोक लगा दी गाई। खिलाड़ी पसीना लगाकर गेंद चमका सकते हैं।

क्रीज पर आने वाले नए बल्लेबाज को लेकर नियम में बदलाव

किसी बल्लेबाज के आउट होने के बाद क्रीज पर आने वाले नए बल्लेबाज अब टेस्ट और एकदिवसीय मैचों में दो मिनट के भीतर स्ट्राइक लेने के लिए तैयार होना होगा। टी20आई में यह नियम पहले की तरह 90 सेकंड का ही है। पहले बल्लेबाज के पास वनडे और टेस्ट में स्ट्राइक लेने के लिए तीन मिनट का समय होता था, लेकिन अब इसे कम कर दिया गया है। ऐसा करने में विफल रहने पर गेंदबाजी टीम का कप्तान टाइम आउट के लिए अपील कर सकता है।

पिच के अंदर रहकर खेलना होगा शॉट

इस नियम के अनुसार शॉट खेलते वक्त बल्लेबाज का बैट या शरीर पिच से बाहर चला जाता है तो रन नहीं माना जाएगा। अ उस गेंद को डेड बॉल दिया जाएगा। अगर किसी गेंद पर बल्लेबाज मजबूरी में पिच के बाहर जाताया है तो वो नो बॉल करार दी जाएगी।

गेंद फेंकते वक्त फील्डिंग टीम की ओर से मूवमेंट

गेंदबाज के गेंद फेंकने से पहले अगर कोई फील्डर किसी तरह की कोई मूवमेंट करता है,तो डेड बॉल मानी जाएगी और बैटिंग करने वाली टीम को 5 रन पेनल्टी के तौर पर मिलेंगे। पहले ऐसा करने पर केवल डेड बॉल दी जाती थी।

मांकडिंग अब होगा रन आउट

अगर कोई गेंदबाज गेंद फेंकने से पहले नॉन स्ट्राइकर के क्रीज से बाहर निकलने पर उसे मांकडिंग करके आउट करता है तो उसे रन आउट माना जाएगा। मांकडिंग को अब अनफेयर प्ले सेक्शन बाहर कर दिया गया है और अब इसे रन आउट के सेक्शन में डाल दिया गया है।

गेंद फेंकने से पहले स्ट्राइकर की ओर थ्रो फेंकना

पहले गेंदबाज गेंद फेंकने से पहले बल्लेबाज को क्रीज से बाहर निकलते देखता था तो वह स्ट्राइकर को रन आउट करने के प्रयास में गेंद थ्रो कर सकता था। अब ऐसा करने पर डेड बॉल कहा जाएगा।

तय समय पर ओवर पूरा न करने पर लगेगी पेनाल्टी

टी-20 में यह नियम पहले से लागू है। अब इसे वनडे में भी लागू कर दिया गया है। इसके अनुसार अगर कोई टीम तय समय पर पूरे 50 ओवर नहीं कर पाती है तो उसे बाकी के ओवर्स इनफील्ड में एकस्ट्रा फील्डर रखकर गेंदबाजी करनी होगी। वनडे में यह नियम 2023 में आईसीसी पुरुष क्रिकेट विश्व कप सुपर लीग के बाद से लागू होगा।

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.