ताज़ा खबर
 

लिएंडर पेसः अपना लक्ष्य हासिल करने की हिम्मत रखता हूं

अमेरिकी ओपन मिश्रित युगल का खिताब जीतने के बाद मार्टिना हिंगिस की तारीफ करते हुए भारत के अनुभवी टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने कहा कि उनके पास स्विट्जरलैंड की इस महान खिलाड़ी की बराबरी करने के लिए तकनीक या क्षमता नहीं ...

Author न्यूयॉर्क | Updated: September 12, 2015 5:14 PM
leander paesलिएंडर पेसः अपना लक्ष्य हासिल करने की हिम्मत रखा हूं

अमेरिकी ओपन मिश्रित युगल का खिताब जीतने के बाद मार्टिना हिंगिस की तारीफ करते हुए भारत के अनुभवी टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने कहा कि उनके पास स्विट्जरलैंड की इस महान खिलाड़ी की बराबरी करने के लिए तकनीक या क्षमता नहीं है लेकिन वह इसकी भरपाई अपनी दृढ़ता से करने की कोशिश करते हैं।

पेस ने हिंगिस के साथ मिलकर सैम क्वैरी और बेथानी माटेक सैंड्स की अमेरिकी जोड़ी को हराते हुए रिकार्ड नौवां ग्रैंडस्लैम खिताब जीता। अमेरिकी ओपन का खिताब जीतने के तुरंत बाद पेस ने कहा कि तकनीक से अधिक उनके कभी हार नहीं मानने के जज्बे ने उन्हें सफलता दिलाई।

मिश्रित युगल प्रारूप में सबसे सफल पुरूष खिलाड़ी बनने के बाद पेस ने कहा, ‘मार्टिना ने कुछ ऐसा कहा जो काफी दिलचस्प था। उसने कहा कि किसी चीज को हासिल करने के लिए आपके अंदर हिम्मत होनी ही चाहिए और मुझे नहीं लगता कि निजी तौर पर मेरे अंदर वह तकनीक या प्रतिभा की क्षमता है जो मार्टिना के पास है।’

उन्होंने कहा, ‘मेरे पास जो चीज है वह हिम्मत है। मैं इसके लिए कोशिश करता हूं। यह मेरे पूरे जीवन का हिस्सा दृढ़ता है, सफलता हासिल करने का तरीका ढूंढने का प्रयास करना।’ मिश्रित युगल में पेस से अधिक ग्रैंडस्लैम खिताब अब सिर्फ उनकी पूर्व जोड़ीदार मार्टिना नवरातिलोवा (10) ने जीते हैं।

पेस ने कहा कि मार्टिना के साथ उनके रिश्ते काफी अच्छे हैं जो किसी भी साझेदारी में महत्वपूर्ण होता है। उन्होंने कहा, ‘कभी कभी हालात आपके खिलाफ होते हैं, कभी ये आपको बेवकूफ बनाते हैं।

टीम के काम में मुझे यह चीज पसंद है कि किसी भी साझेदारी में एक व्यक्ति टीम में ऊर्जा लेकर आता है। ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जो सारा दबाव अपने कंधे पर ले और टीम को आगे ले जाए।’

पेस ने कहा, ‘मुझे पता है कि अगर मैं मार्टिना को खुश रखूंगा, अगर मैं उसे सहज रख पाउंगा तो टेनिस के बारे में मुझे सोचने की जरूरत नहीं है। यह युवा लड़की टेनिस कोर्ट पर और इसके बाद शानदार है।’ इस भारतीय दिग्गज ने कहा कि वे मैचों से पहले कड़ी ट्रेनिंग करते हैं लेकिन यह कभी उनके लिए तनाव नहीं बनती।

उन्होंने कहा, ‘जब हम अभ्यास कोर्ट पर होते हैं तो असल में यह हमारा सर्वश्रेष्ठ समय होता है। कल भी हम यहां थे। हम आस्ट्रेलियाई ओपन से पहले ही अभ्यास कोर्ट पर थे। हम फाइनल के लिए लगभग दो घंटे अभ्यास करते हैं। सिर्फ मजा करते हैं। मैंने उससे काफी कुछ सीखा है।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वनडे सिरीज: मोर्गन की पारी से इंग्लैंड की ऑस्ट्रेलिया पर जीत
2 भारतीय महिला पहलवान ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में फिर किया निराश
3 आजिंक्य रहाणेः कंफर्ट जोन से बाहर बैटिंग करना है मजेदार
ये पढ़ा क्या?
X