ताज़ा खबर
 

गौतम गंभीर ने बयां क‍िया दर्द- मेरे साथ के कुछ ख‍िलाड़ी दो-तीन वर्ल्‍ड कप खेले, पर मुझे नहीं म‍िला दूसरा मौका

गौतम ने कहा कि, इस बात की खुशी हमेशा रहेगी कि मैं विश्व विजेता टीम में था। अगर कोई ऐसी कामयाबी दर्ज करता है तो उसे निश्चित रूप से एक मौका मिलना चाहिए था।

गौतम गंभीर (फोटो सोर्स : PTI)

टीम इंडिया की रीढ़ की हड्डी रहे बल्लेबाज गौतम गंभीर ने मंगलवार (4 नवंबर) को क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से सन्यास लेने का ऐलान कर दिया था। संयास लेने के बाद अब गौतम गंभीर ने अपना दर्द बयां किया है। अक्सर महेंद्र सिंह धोनी और गंभीर में अनबन पर खबरें आईं। इस पर भी गौतम ने सफाई दी है। इसके साथ ही गौतम ने 2015 वर्ल्ड कप पर भी बयान दिया है। गंभीर ने इन मुद्दो पर बातें एक इंटरव्यू के दौरान कीं।

2011 में टीम इंडिया को विश्वकप जिताने में बड़ी भूमिका निभाने वाले गंभीर संयास के बाद अपना दर्द बयां करते हुए कहा कि, आज भी उन्हें इस बात का अफसोस है कि साल 2015 के विश्वकप में टीम में शामिल तक नहीं किया गया। एनबीटी को दिए इंटरव्यू में गंभीर ने धोनी के साथ रिश्तों पर सफाई देते हुए कहा कि, एमएस के साथ उनका कोई विवाद नहीं है।

गंभीर ने कहा, मुझे 2015 वर्ल्ड कप की टीम में शामिल नहीं किया गया। मुझे अपने देश के खिताब को बचाए रखने का मौका मिलना चाहिए था। उन्होंने कहा- मेरे साथ के कुछ खिलाड़ियों ने दो-तीन वर्ल्ड कप खेले। लेकिन मेरी किस्मत में यह सौभाग्य सिर्फ एक बार ही आया।

गौतम ने कहा कि, इस बात की खुशी हमेशा रहेगी कि मैं विश्व विजेता टीम में था। अगर कोई ऐसी कामयाबी दर्ज करता है तो उसे निश्चित रूप से एक मौका मिलना चाहिए था। मैं चाहता था कि देश का खिताब बचाए रखने के लिए मैं टीम के साथ हूं। लेकिन मुझे 2015 वर्ल्ड कप में मौका नहीं दिया गया। इंटरव्यू में गंभीर से विदाई मैच पर सवाल हुआ तो उन्होंने कहा कि, मुझे नहीं लगता कि किसी क्रिकेटर के लिए फेयरवेल मैच होना चाहिए।

बता दें कि, दिल्ली और आंध्र प्रदेश के बीच गुरुवार से फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेला जा रहा रणजी मुकाबला गम्भीर के शानदार क्रिकेट करियर का आखिरी मैच होगा। गंभीर ने ट्विटर पर अपने संयास की घोषणा की थी। गंभीर ने लिखा था कि, ‘जिंदगी में कड़े फैसले हमेशा भारी मन से लिए जाते हैं। भारी मन से वह फैसला ले रहा हूं, जिसको लेने के ख्याल मात्र से ही मैं जिंदगी भर डरता रहा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App