ताज़ा खबर
 

अपनी आधी सैलरी दान करने वाली हिमा दास ने 15 दिन के भीतर चौथा गोल्ड मेडल जीता

Hima Das, Gold Medal: हिमा दास ने 4, 7 और 13 जुलाई को भी अलग-अलग अंतरराष्ट्रीय इवेंट में 200 मीटर की रेस में अपने नाम गोल्ड मेडल अर्जित किया है।

हिमा दास ने जीता चौथा गोल्ड मेडल

भारत की स्टार धाविका हिमा दास का शानदार प्रदर्शन जारी है। 15 दिन के भीतर हिमा दास ने चौथा गोल्ड अपने देश को दिलाया है। महिलाओं की 200 मीटर रेस में हिमा ने चेक रिपब्लिक में चल रहे टबोर एथलेटिक्स मीट में 17 जुलाई को एक और गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया है। दास ने महज 23.25 सेकेंड में ये रेस पूरी कर ली और गोल्ड अपने नाम कर लिया है। 19 साल की हिमा ने अभी हाल ही में असम के बाढ़ पीड़ितो इलाकों के लिए अपनी आधे महीने की सैलरी भी दी थी और कॉरपोरेट घरानों से मदद की अपील भी की थी। असम के 33 में से 30 जिले बाढ़ के चलते प्रभावित हैं।

हिमा दास ने 4, 7 और 13 जुलाई को भी अलग-अलग अंतरराष्ट्रीय इवेंट में 200 मीटर की रेस में अपने नाम गोल्ड मेडल अर्जित किया है। वहीं, पुरुषों की 400 मीटर रेस में मोहम्मद अनस ने अपने नाम दूसरा गोल्ड मेडल जीता है। अनस ने ये रेस 45.40 सेंकेड में पूरा करते हुए देश का नाम गर्व से उंचा किया है।इससे पहले 13 जुलाई को क्लाद्नो मीट में अनस ने अपने राष्ट्रीय रिकॉर्ड में सुधार के साथ गोल्ड मेडल जीता था। भारतीय धावकों खासकर हिमा दास के लिए ये बड़ी उपलब्धि है।

बता दें कि हिमा दास ने 4 जुलाई को पोजनान एथलेटिक्स में गोल्ड मेडल जीता था जब उन्होंने 200 मीटर की रेस 23.65 सेकेंड में पूरी की थी। इसके बाद उन्होंने 7 जुलाई को पोलैंड में कुटनो एथलेटिक्स में 23.97 सेकेंड के समय में रेस पूरी करके गोल्ड मेडल जीता था और 13 जुलाई को चेक रिपब्लिक क्लांदो मेमोरियल में उन्होंने 23.43 सेकेंड में रेस पूरी करके गोल्ड मेडल अपने नाम किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एशेज में लागू हो सकता है नया नियम, मैच के दौरान खिलाड़ी के चोटिल होने पर सब्सीट्यूट बल्लेबाजी-गेंदबाजी भी कर सकेगा
2 विराट कोहली की मर्जी से नहीं चुना जाएगा टीम का कोच, कपिल देव करेंगे आखिरी फैसला
3 बचपन में फौजी ने उड़ाया था मजाक, निशानेबाजी में अनीस भनवाला ने रच दिया इतिहास