ईशा देओल को युवराज सिंह में पसंद हैं ये 2 बातें, T10 क्रिकेट लीग टीम की मालकिन भी रह चुकी हैं हेमा मालिनी और धर्मेंद्र की बेटी

हेमामालिनी और धर्मेंद्र की बेटी ईशा देओल ने 2011 में हुए आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप से पहले कहा था, ‘मैं सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान मानती हूं। उनकी महानता का वर्णन करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।’

Esha Deol Yuvraj Singh
ईशा देओल के क्रिकेट लीग के मालकिन होने की जानकारी हरभजन सिंह की पत्नी गीता बसरा ने दी थी।

बॉलीवुड की ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी (Hema Malini)और धर्मेंद्र (Dharmendra) की बेटी ईशा देओल (Esha Deol) एक टी10 क्रिकेट लीग की टीम की मालकिन भी रह चुकी हैं। हालांकि, इसकी पुष्टि उन्होंने नहीं, बल्कि हरभजन सिंह की पत्नी और एक्ट्रेस गीता बसरा ने की थी।

यही नहीं, ईशा देओल सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान मानती हैं, लेकिन दो चीजों के कारण युवराज सिंह को बहुत पसंद करती हैं। यह बात उन्होंने एक न्यूजपेपर से बात करते हुए कही थी। बात 28 मई 2016 की है। उस दिन बॉक्स क्रिकेट लीग-पंजाब (Box Cricket League-Punjab) के पहले सीजन की शुरुआत हुई थी।

उस टूर्नामेंट में अम्बरसरिये हॉक्स (Ambersariye Hawks), जालंधरिये पैंथर्स (Jalandhariye Panthers), लुधियानवी टाइगर्स (Ludhianvi Tigers), चंडीगढ़िए यंकीस (Chandigarhiye Yankies) और रॉयल पटियालवी (Royal Patialvi) ने हिस्सा लिया था।

इससे पहले जुलाई 2015 में जालंधरिये पैंथर्स की मालकिन गीता बसरा ने बताया था कि ईशा बॉक्स क्रिकेट लीग पंजाब का हिस्सा हैं। गीता ने यह भी कहा था, ‘हां, मैं बॉक्स क्रिकेट लीग पंजाब में जालंधर टीम की मालकिन हूं। जालंधर हमेशा से मेरे दिल के करीब रहा है, क्योंकि मेरा परिवार वहीं से है। मैं उनके साथ जुड़कर बहुत खुश हूं और एक अद्भुत समय की प्रतीक्षा कर रही हूं।’

रोडीज जज रहीं ईशा देओल ने 2011 में हुए आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप से पहले ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से बातचीत में कहा था, ‘मैं सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान मानती हूं। उनकी महानता का वर्णन करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।’

फिर युवराज सिंह की तारीफ करते हुए ईशा ने कहा था, ‘लेकिन मुझे युवराज सिंह को खेलते हुए देखने में बहुत मजा आता है। वह एक सॉलिड जाट हैं। उनकी छक्के मारने की क्षमता कमाल की है। उनके पास एक विशाल खेल भावना है। वह हमेशा ऊर्जा से भरा रहते हैं।’

टीम इंडिया के 2011 विश्व कप जीतने में युवराज सिंह का बहुत बड़ा योगदान रहा था। वह प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट भी चुने गए थे। यही नहीं, वर्ल्ड कप के दौरान उन्हें खून की उल्टियां भी हुईं थीं, लेकिन उन्होंने अपनी जीवन की परवाह नहीं करते हुए टूर्नामेंट खेलना जारी रखा था।

वर्ल्ड कप 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच के दौरान उन्होंने 123 गेंद में 10 चौके और 2 छक्के की मदद से 113 रन बनाए थे। उस पारी के दौरान युवराज के मुंह से खून निकलने लगा था। उनको एक-दो बार मैदान पर खून की उल्टियां भी हुईं थीं। दरअसल, उनको कैंसर था। हालांकि, इसकी जानकारी न तो टीम मैनेजमेंट को थी और न ही उन्हें। इसके बावजूद युवराज ने टूर्नामेंट खेला और भारत को विश्व विजयी बनाया था।

बता दें बॉक्स क्रिकेट लीग-पंजाब (बीसीएल-पंजाब) एक 10 ओवर का क्रिकेट टूर्नामेंट था। इस टूर्नामेंट में टेलीविजन, फिल्म और संगीत उद्योग से जुड़े 70 से अधिक पसंदीदा पंजाबी सेलेब्स ने हिस्सा लिया था। टूर्नामेंट की शुरुआत के समय इसके हर साल आयोजन की योजना थी। हालांकि, बाद में किन्हीं कारणों से यह टूर्नामेंट कंटीन्यू नहीं हो पाया।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट