ताज़ा खबर
 

वसीम अकरम का गली क्रिकेट से हुआ था सीधे इंटरनेशनल डेब्यू; डायबिटीज भी नहीं तोड़ पाई हौसला, बने नंबर वन गेंदबाज

Happy Birthday: वसीम अकरम के नाम 4 हैट्रिक दर्ज हैं। उन्होंने वनडे में 1989 में वेस्टइंडीज और 1990 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शारजाह में हैट्रिक ली थई। वह 1999 में श्रीलंका के खिलाफ लगातार दो टेस्ट मैचों में हैट्रिक लेने का कारनामा भी कर चुके हैं।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: June 3, 2020 11:16 AM
Wasim Akram and Javed Miandad 850वसीम अकरम की प्रतिभा जावेद मियांदाद ने ही पहचानी थी।

Happy Birthday: क्रिकेट फैंस वसीम अकरम के नाम से अनजान नहीं हैं। पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान वसीम अकरम 3 जून 2020 को 54 साल के हो गए। उन्होंने पाकिस्तान के लिए करीब दो दशक तक क्रिकेट खेली। इस दौरान उन्होंने कई कीर्तिमान छुए और कई रिकॉर्डों को ध्वस्त किया। 1966 को लाहौर में जन्में वसीम अकरम ने टेस्ट मैचों में 414 और वनडे इंटरनेशनल मैचों में 502 विकेट लिए हैं।

वसीम अकरम वनडे इंटरनेशनल में 500 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज हैं। वनडे में हाइएस्ट विकेटटेकर का रिकॉर्ड उनके नाम 6 साल तक रहा। बाद में श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन ने 2009 में उनका रिकॉर्ड तोड़ा। किंग ऑफ स्विंग के नाम से मशहूर अकरम अब वनडे में सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं। पहले नंबर पर मुरलीधरन हैं।

उन्होंने कई मौकों पर बल्ले से भी कमाल दिखाया है। उन्होंने टेस्ट में 3 शतक की मदद से 2898 रन बनाए हैं। आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि टेस्ट में उनका हाइएस्ट नाबाद 257 रन है। उन्होंने वनडे में 3717 रन बनाए हैं। अकरम 1992 वनडे वर्ल्ड कप विजेता पाकिस्तानी टीम का हिस्सा रहे थे। उन्होंने मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर हुए फाइनल में पाकिस्तान की इंग्लैंड के खिलाफ जीत में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने 18 गेंद पर 33 रन की पारी खेली थी।

इतने रिकॉर्डों के धनी वसीम अकरम के बारे में यह बात कम ही लोग जानते होंगे कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू करने से पहले उन्होंने एक भी फर्स्ट क्लास या लिस्ट ए मैच नहीं खेला था। यानी गली क्रिकेट से सीधा इंटरनेशनल क्रिकेट में एंट्री की थी। उनकी किस्मत का ताला जावेद मियांदाद ने खोला था।


जावेद मियांदाद 1984-85 में लाहौर के स्टेडियम में नेट्स कर रहे थे। उन्होंने देखा कि एक लड़का बेहतरीन गेंदबाजी कर रहा है। वह लड़का कोई और नहीं वसीम अकरम था। मियांदाद ने उसी समय वसीम अकरम को मौका देने का मन बना लिया। कुछ दिन बाद पाकिस्तान को न्यूजीलैंड का दौरा करना था।

मियांदाद ने दौरे के लिए वसीम अकरम का नाम चयन समिति को दे दिया। सेलेक्शन कमेटी में बवाल मच गया। इसके बाद मियांदाद ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के तत्कालीन चेयरमैन से बात की। पहले तो वह राजी नहीं हुए, लेकिन बाद में उन्होंने मंजूरी दे दी।

वसीम के नाम 4 हैट्रिक दर्ज हैं। उन्होंने वनडे में 1989 में वेस्टइंडीज और 1990 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शारजाह में हैट्रिक ली थई। वह 1999 में श्रीलंका के खिलाफ लगातार दो टेस्ट मैचों में हैट्रिक लेने का कारनामा भी कर चुके हैं।

वसीम अकरम के करियर में एक ऐसा दौर भी आया, जब उन्हें लगा कि सब कुछ खत्म हो जाएगा। जब वह महज 30 साल के थे, तब उन्हें डायबिटीज हो गई। उनकी आंखों की रोशनी कम होने लगी, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। उन्होंने इसके बाद 7 साल तक पाकिस्तान क्रिकेट टीम को अपना योगदान दिया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘मेरे मुवक्किल ने कभी नहीं कहा कि हर मैच फिक्स होता है,’ मैच फिक्सिंग के आरोपी संजीव चावला के वकील का दावा
2 अगस्त-सितंबर में मैदान पर उतर सकती है ‘विराट बिग्रेड’, जानिए बीसीसीआई का क्या है प्लान
3 कोरोना: 4 महीने बाद लौटेगा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट, इंग्लैंड-वेस्टइंडीज में 8 जुलाई से होगी टेस्ट सीरीज