ताज़ा खबर
 

सहवाग को गेंदबाजी करने में छूटते थे शाहिद अफरीदी के पसीने, सालों बाद किया खुलासा

पाकिस्तान के खिलाफ सहवाग का स्ट्राइक रेट शानदार रहा है। सहवाग ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उन्हें पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर को खेलने से डर लगता था। वहीं अब पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी शाहिद अफरीदी ने उस बल्लेबाज का नाम बताया है जिन्हें गेंद फेंकते समय उन्हें रन पड़ने का डर रहता था।

शाहिद अफरीदी और वीरेंद्र सहवाग।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते रहे हैं। सहवाग पहले ओवर से ही गेंदबाजों पर हावी हो जाते थे और किसी भी टीम के लिए उनकी विकेट को हासिल करना पहली प्राथमिकता रहती थी। पाकिस्तान के खिलाफ सहवाग का स्ट्राइक रेट शानदार रहा है। सहवाग ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उन्हें पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर को खेलने से डर लगता था। वहीं अब पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी शाहिद अफरीदी ने उस बल्लेबाज का नाम बताया है जिन्हें गेंद फेंकते समय उन्हें रन पड़ने का डर रहता था। दरअसल, अफरीदी ने एक वेबसाइट से खास बातचीत करते हुए बताया कि उन्हें सहवाग को गेंद करते समय हिचकिचाहट महसूस होती थी। अफरीदी ने कहा, ”सहवाग के सामने गेंदबाजी करना बेहद मुश्किल होता था। वह टॉप के गेंदबाजों की भी जमकर धुनाई किया करते और उनकी लाइन लेंथ बिगाड़ देते थे।”

वीरेंद्र सहवाग और शाहिद अफरीदी।

अफरीदी ने आगे कहा, ”सहवाग का खेलने का अंदाज ही कुछ इस तरह का रहा है। अगर वह पिच पर ज्यादा समय तक टिक जाते तो फिर किसी भी गेंदबाज के लिए उन्हें रोकना मुश्किल हो जाता था। सहवाग के सामने अच्छे-अच्छे गेंदबाज हार मान जाते थे। अगर वह किसी गेंदबाज के खिलाफ शॉट खेलना शुरू करते तो वह सिलसिला पूरा ओवर बरकरार रहता। ऐसे में गेंदबाजों के लिए खुद को बचाना बेहद मुश्किल हो जाता। ”

बता दें कि सहवाग को पाकिस्तान के शहर ”मुल्तान का सुल्तान” भी कहा जाता है। इसकी वजह मुल्तान में लगाया गया उनका तिहरा शतक है। सहवाग और अफरीदी वर्ल्ड इलेवन में एक टीम की ओर से भी खेल चुके हैं, लेकिन इस दौरान दोनों कुछ खास असर छोड़ने में कामयाब नहीं रहे थे। वहीं भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए मुकाबलों में सहवाग ज्यादातर मैचों के दौरान आक्रमक पारी खेलने में कामयाब रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App