हॉकी के जुनून में आधी रात को दीवार पर गेंद मार प्रैक्टिस करता था यह भारतीय कप्तान - former-indian-hockey-team-captain-mohammad-shahid-use-to-do-practice-during-nights-inside-the-room - Jansatta
ताज़ा खबर
 

हॉकी के जुनून में आधी रात को दीवार पर गेंद मार प्रैक्टिस करता था यह कप्तान

नाम था मो. शाहिद। उत्तर प्रदेश के बनारस के रहने वाले थे। 1980 में भारत को मॉस्को ओलंपिक में आखिरी गोल्ड मेडल दिलाने वाले भारतीय कप्तान। खेल अच्छा था, तो

हॉकी। हमारा राष्ट्रीय खेल। बात होती है, तो ध्यानचंद याद आते हैं। गाड़ी रुकती है, तो धनराज पिल्लई का जिक्र होता है। मगर इस खेल में एक और नाम भी था, जिसका कद हॉकी के प्रति उसके जुनून ने तय किया। खेल के लिए इतना कर्रापन कि रात-रात भर जागकर दीवार पर गेंद मारकर प्रैक्टिस करना। मैदान में खेलना तो और किसी को मौका न देना। कुछ ऐसे थे मो. शाहिद।

नाम था मो. शाहिद। उत्तर प्रदेश के बनारस के रहने वाले थे। 1980 में भारत को मॉस्को ओलंपिक में आखिरी गोल्ड मेडल दिलाने वाले भारतीय कप्तान। खेल अच्छा था, तो सम्मान भी हुआ। 1980-81 के लिए अर्जुन अवॉर्ड मिला। 1986 में पद्मश्री से सम्मानित हुए।

# हॉकी में उनकी ड्रिब्लिंग मशहूर थी, है और रहेगी। आज भी हॉकी के चाहने वाले उनके चर्चे करते मिल जाएंगे। वह बाएं हाथ के खिलाड़ी थे। खेल के दौरान मैदान में फेक मूव बनाकर विपक्षियों को चकमा देते और गेंद गोल की तरफ बढ़ते। ऐसे खेलते थे, जैसे अकेले मैदान मारने निकले हों।

# मो. शाहिद की अच्छी आदत थी। गाने और गजलें गुनगुनाना। अक्सर वह ड्रेसिंग रूम में आते समय गाने गाते रहते थे। किशोर कुमार उनके पसंदीदा थे। दूसरों को उदास देख गाने सुनाते और उसके चेहरे पर मुस्कान ले आते।

# खेल के लिए शाहिद में गजब का पागलपन था। यूं कहिए भूत सवार था उन्हें। रात-रात भर जागते थे और दीवार पर स्टिक से गेंद मारकर प्रैक्टिस करते। उनके प्रैक्टिस करने के इस तरीके से साथी खिलाड़ी भी परेशान थे। चूंकि दीवार जब गेंद पर लड़ती तो जोर की आवाज आती। हालांकि, बाद में उनके साथियों ने इसकी आदत डाल ली।

# शाहिद उन दिनों अच्छा खासा नाम कमा चुके थे। फैन फॉलोइंग थी। लड़कियां भी पसंद करती थीं। मगर उनकी अंग्रेजी पंचर थी। एक बार की बात है। भारतीय महिला टीम की खिलाड़ी ने प्रपोज किया, तो इन्कार कर गए। मैदान में साथी ने इसकी वजह पूछी तो बोले- वह अंग्रेजी में ही बात करती है। हालांकि, बाद में शादी हुई, तो वह लव मैरिज ही थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App