ताज़ा खबर
 

भारत-पाकिस्‍तान के बीच क्रिकेट सीरीज होगी या नहीं? पहली बार सुषमा स्‍वराज ने साफ किया स्‍टैंड

सीमा पार से हो रही लगातार गोलीबारी और तनावपूर्ण संबंधों को देखते हुए भारत और पाकिस्‍तान के बीच लंबेे समय से क्रिकेट श्रृंखला नहीं हो रही है।

Author नई दिल्‍ली | January 1, 2018 09:58 am
भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज। (Source: PTI)

भारत ने पाकिस्‍तान के साथ क्रिकेट संबंध बहाल करने पर एक बार फिर से अपना रुख स्‍पष्‍ट किया है। पड़ोसी मुल्‍क द्वारा सीमा पार से लगातार जारी गोलीबारी को देखते हुए मौजूदा माहौल को भारत-पाकिस्‍तान के बीच क्रिकेट सीरीज के लिए माकूल नहीं माना गया है। विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने विदेश मंत्रालय के एक बैठक में दोनों देशों के बीच क्रिकेट श्रृंखला को लेकर केंद्र सरकार के रवैये के बारे में संकेत दिए हैं। विदेश सचिव एस जयशंकर भी इस बैठक में मौजूद थे। सरकार के रुख के बाद तटस्‍थ जगह पर भी भारत-पाकिस्‍तान के बीच क्रिकेट सीरीज होने की संभावना बेहद कम है।

दरअसल, विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज मीडिया से मुखातिब थीं। उनसे दोनों देशों के बीच क्रिकेट संबंध बहाल करने को लेकर भी सवाल पूछे गए थे। विदेश मंत्री ने बताया कि मानवीय आधार पर महिला एवं बुजुर्ग कैदियों को छोड़ने को लेकर सुझाव दिए गए हैं। उन्‍होंने स्‍पष्‍ट किया कि सीमा पार से लगातार हो रही फायरिंग के कारण क्रिकेट सीरीज शुरू करने के लिए अनुकूल माहौल नहीं बन पा रहा है। बताया जाता है कि सुषमा स्‍वराज ने बैठक में वर्ष 2017 में सीमा पार से गोलीबारी की 800 घटनाएं होने का भी जिक्र किया था। हालांकि, साल 2016 में हिजबुल मुजाहिदीन आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर में हिंसा की घटनाओं में कमी आने की बात कही गई। कुलभूषण जाधव के मामले से दोनों देशों के संबंधों में ज्‍यादा तल्‍खी आ गई है।

तनावपूर्ण संबंधों के कारण भारत और पाकिस्‍तान के बीच लंबे अरसे क्रिकेट श्रृंखला नहीं हुई है। पाकिस्‍तान दो बार भारत का दौरा कर चुका है, जबकि भारत की ओर से ऐसा नहीं किया गया है। सामान्‍य हालात में दोनों देशों के बीच कम से कम एक क्रिकेट श्रृंखला जरूर खेली जाती थी। लेकिन, पाकिस्‍तान के शत्रुतापूर्ण रवैये के कारण लंबे समय से ऐसा नहीं हो सका है। सुषमा स्‍वराज के ताजा बयान के बाद भारत और पाकिस्‍तान के बीच क्रिकेट सीरीज होने की उम्‍मीद नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App