ताज़ा खबर
 

फीफा विश्व कप 2018: मौजूदा महारथियों की तिकड़ी – हम हैं दस नंबरी!

फुटबॉल जगत में ‘दस’ अंक जादुई है। फुटबॉल में ‘दस’ के दम पर कई खिलाड़ियों ने महारत और महानता हासिल की है। फीफा विश्व कप भी इससे अछूता नहीं है।

Author June 14, 2018 5:41 AM
फुटबॉल जगत में ‘दस’ अंक जादुई है।

मनमोहन हर्ष

फुटबॉल जगत में ‘दस’ अंक जादुई है। फुटबॉल में ‘दस’ के दम पर कई खिलाड़ियों ने महारत और महानता हासिल की है। फीफा विश्व कप भी इससे अछूता नहीं है। यहां भी दस नंबर की तूती बोलती रही है। दस नंबरी जर्सी वाले खिलाड़ियों ने हमेशा से खुद को बेहतर साबित किया है। इस नंबर की जर्सी मिलना ही गौरव का विषय हो जाता है। ब्राजील के स्टार पेले ने जब दस नंबर की जर्सी पहनी तो यह अंक इतिहास में अमर हो गया। यह अंक खिलाड़ियों के लिए सफलता का पर्याय बनने लगा। पेले ने इसे मशहूर किया। फुटबॉल में अलग-अलग देशों के खिलाड़ियों ने दस नंबर की जर्सी पहनकर अपने पैरों के जादू से दुनियाभर के प्रशंसकों का दिल जीता है।

बावजूद इसके दस नंबरी जादूगर के रूप में पेले का अमिट छाप छोड़ने वाला प्रदर्शन और उनकी शख्सियत का कमाल आज भी सबसे जुदा है। फुटबॉल में जब ड्रेस कोड का आगाज हुआ था, तो डिफेंडर ही दस नंबर की जर्सी धारण करते थे। मगर यह बड़ी दिलचस्प दास्तान है कि जब ब्राजील की ओर से पेले ने दस नंबर की जर्सी पहनी तो उनकी टीम रक्षात्मक शैली को छोड़कर आक्रामक पद्धति को अपनाने लगी। पेले के बाद पुर्तगाल के यूसेबियो, ब्राजील के ही श्वेत पेले कहे जाने वाले जीको, इटली के सर्गियो बैजियो, इंग्लैंड के गैरी लिनेकर, अर्जेंटीना के डिएगो माराडोना, नीदरलैंड के रूड गुलिट, जर्मनी के लोथार मैथ्यूज, कोलंबिया के वाल्देरामा, बेल्जियम के एंजो शिफो, रोमानिया के जॉर्ज हांगी, रूस के इगोर पोर्तासोव से लेकर नए दौर में ब्राजील के रिवाल्डो, रोनाल्डिनहो व नेमार जूनियर, अर्जेंटीना के डेनियल ओरतेगा व लियोनल मेस्सी सहित कई खिलाड़ियों ने दस नंबर की जर्सी पहनकर फुटबॉल के मैदान पर अपने पैरों से जादू बिखेरा है। इन खिलाड़ियों ने पेले के नक्शे कदम पर चलते हुए खेल में अपनी अलग पहचान बनाई है।

ये 4 हो सकते हैं भावी महारथी

विश्व कप मुकाबले हमेशा महारथियों के लिए याद किए जाते हैं। किसी विश्व कप से कोई सितारा उदित होता है और फिर दो-तीन विश्व कप तक राज करता है। लियोनल मेस्सी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो जैसे सितारों के लिए यह आखिरी विश्व कप हो सकता है लेकिन इनकी जगह लेने के लिए कुछ नए सितारों के लिए रूसी सरजमीं जननी बन सकती है। जर्मनी के लेरॉय साने और टिमो वर्नर, डेनमार्क के आंद्रेस कार्नेलियस और फ्रांस के काइलियन मबापे जैसे सितारों की पहचान बन सकती है। …तो इन युवाओं पर निगाहें रखिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App