ताज़ा खबर
 

FIFA World Cup 2018: फाइनल हारने के बावजूद क्रोएशिया ने बनाया दीवाना, खुद राष्‍ट्रपति ने पोंछे खिलाड़‍ियों के आंसू

विश्व कप 2018, FIFA World Cup 2018 Final Winner, France vs Croatia Football, Fra vs Cro Football: मैच के बाद ट्राफी वितरण समारोह में भावनाएं उफान मार रही थीं। क्रोएशिया की राष्ट्रपति अपने देश के खिलाड़ियों से मिल रही थीं, इस दौरान माकियो मांजुकिक का राष्ट्रपति से मिलने का नंबर आया। राष्ट्रपति के पास पहुंचते ही वे खुद पर काबू नहीं रख सके, उनकी आंखों से आंसू से छलक पड़े।

रविवार (15 जुलाई 2018) को क्रोएशिया फीफा वर्ल्ड कप का फाइनल मैच फ्रांस से 4-2 से हार गया। बावजूद इसके क्रोएशिया की राष्ट्रपति कोलिंडा ग्रबर-किटारोविक ने टीम के खिलाड़ियों की हौसला अफजाई की। उन्होंने टीम के खिलाड़ी माकियो मांजुकिक के आंसू खुद पोछे। (फोटो-रायटर्स)

फ्रांस का दुनिया का फुटबॉल चैम्पियन बन गया है। रविवार (15 जुलाई) को रूस के लुज्निकी स्टेडियम में खेले गए बेहद रोमांचक और नाटकीय मैच में पहली बार विश्व कप खेल रही क्रोएशिया को 4-2 से शिकस्त देकर फ्रांस फुटबॉल का विश्व विजेता बना। इस मैच में कप भले ही फ्रांस ने जीता हो, लेकिन दुनिया के करोड़ों खेल प्रेमियों का दिल क्रोएशिया की टीम ने जीता। ये टीम पहली बार फुटबॉल का वर्ल्ड कप खेल रही थी। और पहली ही कोशिश में इस टीम के धुंरधरों ने दुनिया के कई नामी-गिरामी देश को मात दिया और फाइनल तक पहुंच गई। 40 लाख की आबादी वाली क्रोएशिया की टीम ने फुटबॉल के दीवानों को प्यार करने के लिए एक नयी टीम दी, जो उनके उम्मीदों पर एकदम सटीक थी। रविवार को रूस के लुज्निकी स्टेडियम में मैच के बाद बेहद भावुक माहौल था। आंसू दोनों ही टीम के खिलाड़ियों के बह रहे थे। फ्रांस को 20 साल बाद ये गौरव हासिल करने का मौका मिला था, तो क्रोएशिया ने अपने पहले ही दम में दुनिया को चौका दिया।

पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रान और क्रोएशिया की राष्ट्रपति कोलिंडा ग्रबर-किटारोविक (रायटर्स)

फाइनल का मुकाबला क्रोएशिया के लिए थोड़ा बैडलक रहा। पहली बार फाइनल खेल रही क्रोएशिया किसी भी तरह के दवाब में नहीं थी। वो उसी तरह की फुटबाल खेल रही थी जिस तरह की पूरे विश्व कप में खेलती आ रही थी। उसने फ्रांस पर दवाब बनाए रखा और गेंद अपने पास ज्यादा रखी। खेल के 18वें मिनट में ऐसा पल आया जो अभी तक विश्व कप के फाइनल में कभी नहीं आया और जिसने क्रोएशियाई टीम तथा प्रशंसकों को निराश कर दिया। फ्रांस को फ्री किक मिली जिसे एंटोनी ग्रीजमैन ने लिया। ग्रीजमैन की किक को क्लीयर करने के प्रयास में क्रोएशिया के माकियो मांजुकिक आत्मघाती गोल कर बैठे। उन्होंने अपने हेडर के जरिये गेंद को बाहर भेजना चाहा, लेकिन गेंद सीधे नेट में गई और फ्रांस बिना प्रयास के 1-0 से आगे हो गई। यह विश्व कप के फाइनल में किया गया पहला आत्मघाती गोल है। हालांकि फ्रांस पहले हाफ की समाप्ति तक 2-1 से आगे थी। इसमें सही मायने में क्रोएशिया की गलती थी।

क्रोएशियाई टीम के सदस्य से मिलती हुई राष्ट्रपति कोलिंडा। (रायटर्स)

इस गोल के बाद क्रोएशिया की टीम में निराश फैल गई। इस मैच को क्रोएशिया की राष्ट्रपति कोलिंडा ग्रबर-किटारोविक भी देख रहीं थी। उन्होंने लगाातार खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाये रखा। मैच में इस टीम ने वापसी की कोशिश की। फ्रांस के खिलाफ दो गोल भी किये। लेकिन फ्रांस के धुरंधर मैच को 4-2 के स्कोर से अपने नाम करने में सफल रहे। मैच के बाद ट्राफी वितरण समारोह में भावनाएं उफान मार रही थीं। क्रोएशिया की राष्ट्रपति अपने देश के खिलाड़ियों से मिल रही थीं, इस दौरान माकियो मांजुकिक का राष्ट्रपति से मिलने का नंबर आया। राष्ट्रपति के पास पहुंचते ही वे खुद पर काबू नहीं रख सके, उनकी आंखों से आंसू से छलक पड़े। लेकिन राष्ट्रपति ने खुद इस खिलाड़ी के आंसू पोछे। दरअसल मांजुकिक अपनी ही टीम में गोल दागने के आत्मग्लानि से उबर नहीं पा रहे थे। राष्ट्रपति ने उनकी खेल भावना की तारीफ की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App