ताज़ा खबर
 

FIFA World Cup: सांसद की सलाह- विदेशी पुरुषों से सेक्स से बचें रूसी महिलाएं, बताई यह वजह

FIFA World Cup 2018 Schedule, Teams, Fixtures: फुटबॉल विश्वकप के दौरान रूसी महिलाओं को विदेशी पुरुषों के साथ शारीरिक संबंध बनाना नजरअंदाज करना चाहिए क्यों कि ऐसा करने से वे वर्ण शंकर औलादों वाली अकेली माताएं रह जाएंगी, यह कहना है एक वरिष्ठ रूसी महिला सांसद का, जिन्होंने बुधवार (13 जून) को मॉस्को में यह बात कही।

Author Updated: June 14, 2018 6:00 PM
FIFA World Cup 2018 (फोटो- रॉयटर्स)

फुटबॉल विश्वकप के दौरान रूसी महिलाओं को विदेशी पुरुषों के साथ शारीरिक संबंध बनाना नजरअंदाज करना चाहिए क्यों कि ऐसा करने से वे वर्ण शंकर औलादों वाली अकेली माताएं रह जाएंगी, यह कहना है एक वरिष्ठ रूसी महिला सांसद का, जिन्होंने बुधवार (13 जून) को मॉस्को में यह बात कही। रूसी संसद की परिवार, महिला और बाल समिति की प्रमुख तमारा प्लेत्नयोवा ने कहा कि रूसी महिलाएं यहां तक की जब विदेशियों से शादी करती है तो उनके संबंधों का अंत बुरा होता है। उन्होंने कहा कि ऐसी सूरत में महिलाएं अक्सर या तो विदेशों में या रूस में ही फंस जाती हैं और उन्हें उनके बच्चे वापस नहीं मिलते हैं। उन्होंने यह बात एक रेडियो स्टेशन के द्वारा तथाकथित ‘चिल्ड्रेन ऑफ द ओलंपिक्स’ कार्यक्रम के अंतर्गत पूछे गए एक सवाल के जवाब में कही। यह कार्यक्रम 1980 में हुए मॉस्को गेम्स पर आधारित था, उस वक्त देश में व्यापक तौर पर गर्भनिरोधक उपलब्ध नहीं था। सोवियत युग के दौर में यह बात कही जाती थी कि अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों में रूसी महिलाओं के अफ्रीका, लेटिन अमेरिका या एशिया के पुरुषों से शारीरिक संबंध बनाने से गर्भधारण करने वाले अश्वेत बच्चे पैदा हुए थे।

प्लेत्नियोवा ने गोवोरित मोस्कवा रेडियो से कहा कि ”हमें अपने बच्चों को जन्म जरूर देना चाहिए। ये वर्ण शंकर बच्चे कष्ट झेलते हैं और सोवियत के दौर से कष्ट झेलते आए हैं।” उन्होंने कहा कि ”अगर वे एक ही वर्ण के हैं तो यह एक बात है लेकिन अगर वे अलग वर्ण के हैं तो यह बिल्कुल अलग बात है। मैं राष्ट्रवादी नहीं हूं लेकिन फिर भी मैं जानती हूं कि बच्चे कष्ट झेलते हैं। वे त्याग दिए जाते हैं, और यह कि वे यहां मां के साथ रहते हैं।” एक और सांसद ने कहा कि विदेशी फैन्स विश्व कप में अपने साथ वायरस लाते हैं और रूसियों को संक्रमित करते हैं। गोवोरित मोस्कवा रेडियो स्टेशन से एलेक्जेंडर शेरिन ने भी कहा कि रूसियों को विदेशियों से बात करने के दौरान सावधान रहना चाहिए जैसा कि वे टूर्नामेंट में प्रतिबंधित पदार्थों को फैलाने की कोशिश कर सकते हैं।

रूस में इसी गुरुवार से फुटबॉल विश्वकप शुरू हो रहा है। ऐसे में 31 देशों के हजारों फुटबॉल फैन्स रूस आ रहे होंगे। ओपनिंग सेरेमनी में पहला मैच मेजबान टीम और सऊदी अरब के बीच खेला जाएगा। हालांकि प्लेत्नीयोवा के बयान पर फीफा और रुस 2018 आयोजन समिति ने इस बारे में फिलहाल कुछ भी बोलने से इनकार किया है। प्लेत्नियोवा केपीआरएफ कम्युनिस्ट पार्टी से सांसद हैं। यह एक प्रमुख विपक्षी दल है जो राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की सरकार को महत्वपूर्ण मुद्दों पर समर्थन देता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 फीफा वर्ल्‍ड कप: हद पार कर रहा फैंस का जुनून, 75 दिन में 5,145 किलोमीटर चला प्रशंसक
2 India vs Afghanistan Test Match: टेस्ट में वापसी के लिए दिनेश कार्तिक ही नहीं इन भारतीयों को भी करना पड़ा लंबा इंतजार
3 FIFA World Cup 2018 Opening Ceremony, Football World Cup 2018: यहां देखें फीफा विश्व कप-2018 की ओपनिंग सेरेमनी का सीधा प्रसारण