ताज़ा खबर
 

बाउंड्री से चैंपियन चुनने वाले आईसीसी के नियम पर भड़के पूर्व क्रिकेटर, कहा- यह बिल्कुल मूर्खतापूर्ण फैसला

गंभीर ने ट्वीट किया, 'यह कैसा नियम है, जहां बाउंड्री के आधार पर वर्ल्ड चैंपियन का फैसला हो रहा है। यह मैच टाई होना चाहिए था। यह बिल्कुल मूर्खतापूर्ण नियम है। मैं इतना रोमांचक फाइनल खेलने के लिए न्यूजीलैंड और इंग्लैंड दोनों टीमों को बधाई देना चाहता हूं। मेरी राय में दोनों ही चैंपियन हैं।'

Author नई दिल्ली | Updated: July 15, 2019 12:29 PM
इंग्लैंड को बाउंड्री के आधार पर चैंपियन घोषित किए जाने पर न्यूजीलैंड के जेम्स नीशम अपनी हताशा छुपा नहीं पाए।

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 का खिताब इंग्लैंड की टीम ने जीता। न्यूजीलैंड की टीम रनर अप रही। मैच का नतीजा सुपर ओवर में नहीं निकलने के बाद विजेता की घोषणा ज्यादा बाउंड्री लगाने के आधार पर की गई। इसमें इंग्लैंड की टीम बाजी मारने में सफल रही। फाइनल में इंग्लैंड की ओर से 26 बाउंड्री लगाईं गईं थीं, जबकि न्यूजीलैंड के बल्लेबाज 17 बार ही गेंद को सीमा रेखा के पार भेज पाए थे। इस तरह से इंग्लैंड को विजेता घोषित करने के बाद से सोशल मीडिया पर यूजर्स आईसीसी के नियम को लेकर सवाल उठा रहे हैं।

गौतम गंभीर समेत कुछ पूर्व क्रिकेटरों ने इसे बिल्कुल मूर्खतापूर्ण फैसला करार दे दिया है। गंभीर ने ट्वीट किया, ‘यह कैसा नियम है, जहां बाउंड्री के आधार पर वर्ल्ड चैंपियन का फैसला हो रहा है। यह मैच टाई होना चाहिए था। यह बिल्कुल मूर्खतापूर्ण नियम है। मैं इतना रोमांचक फाइनल खेलने के लिए न्यूजीलैंड और इंग्लैंड दोनों टीमों को बधाई देना चाहता हूं। मेरी राय में दोनों ही चैंपियन हैं।’ न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेट स्कॉट स्टायरिस ने ट्वीट किया, ‘बहुत बढ़िया आईसीसी। आप सिर्फ एक मजाक हो।’ न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग ने ट्वीट कर आईसीसी के फैसला के लिए प्रति अपना गुस्सा जाहिर किया। उन्होंने लिखा, ‘यह निर्दयी था।’ इसके अलावा मोहम्मद कैफ, ब्रेट ली और युवराज सिंह ने भी आईसीसी के इस नियम पर आपत्ति जताई है।

इस मैच में न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने का फैसला किया था। उसने 50 ओवर में 8 विकेट पर 241 रन बनाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम 50 ओवर में 241 रन पर ऑल आउट हो गई। इसके बाद सुपर ओवर हुआ। इंग्लैंड ने पहले 15 रन बनाए। न्यूजीलैंड की टीम भी 15 रन ही बना पाई। जब सुपर ओवर में भी नतीजा नहीं निकला तो ‘किसकी बाउंड्री ज्यादा’ के आधार पर मैच का नतीजा निकाला गया।

`

क्या कहता है आईसीसी का नियम?
आईसीसी के नियमानुसार, उसके किसी टूर्नामेंट के सेमीफाइनल या फाइनल मैच में टाई की स्थिति होने पर सुपर ओवर खेला जाता है। अगर सुपर ओवर भी टाई हो जाता है, तो फिर जिस भी टीम ने मैच के दौरान ज्यादा बाउंड्री लगाईं होंगी, उसे विजेता घोषित किया जाएगा। इसमें सुपर ओवर में लगाई गईं बाउंड्री भी गिनी जाती हैं। इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच वर्ल्ड कप फाइनल में भी ऐसा ही हुआ। चूंकि मैच के दौरान इंग्लैंड की ओर से ज्यादा बाउंड्री लगी थीं, इसलिए उसे विजेता घोषिता किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 2016 में इंग्लैंड को वर्ल्ड कप हराकर विलेन बने थे बेन स्टोक्स, अब दमदार प्रदर्शन से टीम बना दिया विश्व विजेता
2 मदन लाल ने फेंकी थी वर्ल्ड कप की पहली गेंद, कभी दीवारों पर पुताई का करते थे काम
3 रोमांचक मुकाबलों का गवाह रहा है लार्ड्स का मैदान, नॉकआउट मैच में कुछ ऐसा रहा है टाई मैच का इतिहास