ताज़ा खबर
 

हर किसी को विचार व्यक्त करने की आजादी: कपिल देव

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व आलराउंडर कपिल देव ने कहा कि यहां हर किसी को अपने विचार व्यक्त करने की आजादी है। मेरे बारे में अगर कोई कुछ लिखता या कहता है तो मेरे लिए यह संतोष की बात है कि वह कम से कम मेरे बारे में सोचता तो है। बुधवार को इंटरनेट […]

Author November 13, 2014 09:50 am
कपिल देव ने कहा कि यहां हर किसी को अपने विचार व्यक्त करने की आजादी है। (फोटो: भाषा)

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व आलराउंडर कपिल देव ने कहा कि यहां हर किसी को अपने विचार व्यक्त करने की आजादी है। मेरे बारे में अगर कोई कुछ लिखता या कहता है तो मेरे लिए यह संतोष की बात है कि वह कम से कम मेरे बारे में सोचता तो है। बुधवार को इंटरनेट व मोबाइल के लिए नई डिजिटल तकनीक ‘स्लोफोडाटकाम’ की उन्होंने शुरुआत की। इस तकनीक के जरिए न सिर्फ यह कि एक-दूसरे से जुड़ा जा सकता है बल्कि कई तरह की प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेकर इनाम भी जीते जा सकते हैं।

कपिल देव से सचिन तेंदुलकर की हाल में ही प्रकाशित उनकी आत्मकथा में उन पर उठाए सवाल कि सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ हरफनमौला होने के बावजूद उन्होंने बतौर कोच उन्हें मायूस किया था पर किसी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि वह सचिन की निजी राय है और हर किसी को अपने विचार रखने की आजादी है। मैं उनकी राय का सम्मान करता हूं। उन्हें भविष्य के लिए मेरी शुभकामनाएं। तेंदुलकर ने हाल ही में जारी अपनी आत्मकथा ‘प्लेइंट इट माय वे’ में लिखा था कि वे 1999-2000 के आस्ट्रेलिया दौरे पर कपिल से निराश थे जो कोच होने के बावजूद रणनीतिक चर्चा का हिस्सा नहीं होते थे।

कपिल ने अगले साल होने वाले विश्व कप में भारत की संभावनाओं पर भी कोई कयास लगाने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि हमें कोई निष्कर्ष नहीं निकालना चाहिए। मैं अपनी टीम को शुभकामना देना चाहता हूं। उम्मीद है कि वे अच्छा क्रिकेट खेलेंगे लेकिन मैं किसी नतीजे पर नहीं पहुंचना चाहता। हार और जीत अलग अलग बात है। कपिल और भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावसकर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आस्ट्रेलिया दौरे पर उनके साथ प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा बनने का न्योता दिया था। प्रतिनिधिमंडल में उनकी भूमिका के बारे में पूछे सवाल पर कपिल ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री आपको अपने देश का प्रतिनिधित्व करने के लिए बुलाते हैं तो आपको उस प्रक्रिया का हिस्सा बनना चाहिए अगर आप अपने देश को मजबूत बनाना चाहते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App