ताज़ा खबर
 
title-bar

IPL-10 के उद्घाटन से पहले ही सट्टाबाजार में बढ़ गई है गर्मी, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु है सटोरियों की पहली पसंद

पुलिस सूत्रों के हवाले से दी गई जानकारी के मुताबिक नोटबंदी के कारण देश में उपजी नगदी की कमी की वजह से सट्टा लगाने वाले प्रॉपर्टी और गोल्ड को दांव पर लगा रहे हैं।

Author नई दिल्ली | April 4, 2017 11:05 AM
आईपीएल के दसवें संस्करण में 2000 करोड़ रुपये सट्टाबाजार में दांव पर लगने की उम्मीद है। आरसीबी सटोरियों की पहली पसंद है।(Photo: BCCI)

विश्व का सबसे धनी क्रिकेट लीग आईपीएल यानी इंडियन प्रीमियर लीग के दसवें संस्करण का आरंभ आगामी 5 अप्रैल से हो रहा है। जहां, इस लीग के शुरू होने के साथ ही क्रिकेट फैंस को अगले डेढ़ महीने तक इस खेल का लुत्फ उठाने का मौका मिलने जा रहा है, वहीं सटोरियों की भी पौ-बारह हो गयी है। अभी आईपीएल का पहला मैच खेला भी नहीं गया है और सटोरियों ने इस साल रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खिताबी जीत की भविष्यवाणी करते हुए सट्टा लगा दिया है। जैसे-जैसे इस खेल को और पारदर्शी और भ्रष्टाचार रहित बनाने के लिए आयोजक अल्यधिक टेक्नॉल्जी के इस्तेमाल पर जोर दे रहे हैं, उनके कदम से कदम मिलाते हुए सट्टेबाज भी सट्टा लगाने का नया नया तरीका इजाद करने में लगे हैं। पुलिस सूत्रों की माने तो सटृटेबाजों ने सुरक्षा एजेंसियों को बरगलाने के लिए इस बार सटृटालगाने का कोई नया ऐप विकसित किया है।

पुलिस सूत्रों के हवाले से दी गई जानकारी के मुताबिक नोटबंदी के कारण देश में उपजी नगदी की कमी की वजह से सट्टा लगाने वाले प्रॉपर्टी और गोल्ड को दांव पर लगा रहे हैं। आईपीएल के दसवें संस्करण में एक अनुमान के मुताबिक कुल 2000 करोड़ की राशि दांव पर लगने की उम्मीद है। सट्टेबाजों की पहली पसंद आरसीबी है, वहीं दूसरे नंबर पर सटोरियों ने राइजिंग पुणे सुपरजाएंट को रखा है। मुंबइ्र इंडियंस सटोरियों की तीसरी पसंद है वहीं गुजरात लायंस चौथे नंबर पर है। चूंकी दुनिया के कुछ देशों में बेटिंग यानी सट्टेबाजी को कानूनी स्वीकृति प्राप्त है अत: उन देशों में सट्टेबाज ‘बेटफेयर’ और ‘बेट365’ जैसे बेटिंग एप्स के जरिए सट्टा लगाते हैं। भारत में सट्टेबाजी को कानूनी मान्यता नहीं प्राप्त है और इसे संज्ञेय अपराध की श्रेणी में गिना जाता है, अत: सट्टेबाज इस साल आईपीएल में पुलिस से बचने के लिए 35 से अधिक बेटिंग एप्स का सहारा ले सकते हैं।

सट्टाबाजार में आरसीबी का रेट सबसे उपर है। आरसीबी का बेटिंग रेट 3.75 प्रति सौ रुपये है। मतलब अगर आरसीबी मैच जीतता है तो इसके पक्ष में सट्टा लगाने वाले शख्स को 100 लगाने के बदले 375 रुपये मिलेंगे। वहीं, राइजिंग पुणे सुपरजाएंट के लिए यह रेट 6.10 प्रति सौ रुपये है। मुंबई इंडियंस के लिए रेट 6.30 प्रति सौ रुपये है। वहीं, माजूदा चैंपियन सनराइजर्स हैदराबाद के लिए यह रेट 7.20, दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए 7.60 और दो बार की आईपीएल चैंपियन कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए सट्टा बाजार में रेट 8.0 का चल रहा है। किंग्स इलेवन पंजाब 11 के रेअ के साथ इस लिस्ट में सबसे नीचे है। नाम उजागर ना करने की शर्त पर एक सटोरिए ने बताया कि इस बार आईपीएल में सबसे ज्याद पचासा, सबसे ज्यादा छक्के और सबसे ज्यादा विकेट लेने जैसे एचिवमेंट्स पर भी सट्टा लगाया जा रहा है। टूर्नामेंट शुरू होने के साथ ही, देश के सभी राज्यों खासकर जहां आईपीएल मैचों का आयोजन हो रहा है, पुलिस चौकन्नी हो गई और सट्टेबाजी गिरोह का पता लगाने में जुट गई है।

गेंदबाजों की धुनाई करने वाले IPL इतिहास के टॉप- 5 बल्लेबाज

वीडियो: IPL 2017: इन टीमों के नाम दर्ज हैं IPL के 9 दिलचस्प रिकॉर्ड्स

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App