ताज़ा खबर
 

ओलंपिक : कोरोना काल में कितना बदला होगा खेल महोत्सव

तोक्यो में 23 जुलाई से अंतरराष्ट्रीय खेल महोत्सव ओलंपिक की शुरुआत होनी है। अब तक 14 अलग-अलग खेलों में 100 भारतीय ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं।

Updated: June 7, 2021 11:48 PM
सांकेतिक फोटो।

तोक्यो में 23 जुलाई से अंतरराष्ट्रीय खेल महोत्सव ओलंपिक की शुरुआत होनी है। अब तक 14 अलग-अलग खेलों में 100 भारतीय ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं। दुनियाभर के देश इन खेलों की तैयारी कर रहे हैं। जापान जहां इन खेलों का आयोजन होना है वहां कोरोना संक्रमण की चौथी लहर ने चिंता बढ़ा दी है। जापान के लोग इस आयोजन का विरोध कर रहे हैं, लेकिन खिलाड़ी और खेल संघ इसके आयोजन के पक्ष में हैं।
वर्ष 1964 के बाद यह दूसरा मौका है जब ओलंपिक खेलों का आयोजन तोक्यो में हो रहा है। भले ही इन खेलों का आयोजन 2021 में हो रहा है, लेकिन इन खेलों को 2020 ओलिंपिक ही कहा जाएगा। खेलों के दौरान जो मेडल दिए जाएंगे, खिलाड़ियों की जर्सी, टेलीविजन ग्राफिक्स तक पर भी तोक्यो 2020 ही लिखा दिखेगा।

इन खेलों का आयोजन 23 जुलाई से आठ अगस्त तक होना है। हालांकि सॉफ्टबॉल और महिला फुटबॉल जैसे कुछ खेल 23 को उद्घाटन समारोह से दो दिन पहले 21 जुलाई से ही शुरू हो जाएंगे। जापान के अधिकतर शहरों में कोरोना की चौथी लहर चल रही है। हालांकि 15 मई के बाद रोज आने वाले मामले घटे हैं। अब तक जापान की 7.7 फीसद आबादी को टीके की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है। वहीं, 2.2 फीसद आबादी का ही पूरा टीकाकरण हुआ है। टीकाकरण की धीमी रफ्तार के बीच जापान ओलिंपिक कमेटी इस महीने से जापानी ओलिंपिक प्रतिनिधिमंडल के पूरे टीकाकरण की तैयारी में है।

मार्च में ही जापान ने एलान किया था कि ओलंपिक के दौरान केवल जापान के दर्शकों को ही मैदान में प्रवेश दिया जाएगा। चौथी लहर के बाद जापान ओलंपिक कमेटी इस बात पर विचार कर रही है कि केवल उन्हीं दर्शकों को मैदान में प्रवेश दिया जाए, जिन्हें टीका लग चुका हो या संक्रमण मुक्त की रिपोर्ट हो।

जापान में कोविड संक्रमण को देखते हुए ओलंपिक के आयोजन का विरोध भी हो रहा है। हाल ही में जापान के लोगों ने ‘स्टॉप तोक्यो ओलिंपिक’ नाम से आॅनलाइन अभियान भी शुरू किया है। देश के सबसे बड़े अखबारों में से एक असाही शिंबुन ने लोगों की सुरक्षा को देखते हुए ओलंपिक रद्द करने की अपील की है।

कोविड के कारण खिलाड़ियों को लेकर कई नियम बनाए गए हैं। हर खिलाड़ी को अपने फोन में स्वास्थ्य जांच और संपर्क जांच के लिए दो ऐप डाउनलोड करने होंगे। जिन खिलाड़ियों के पास स्मार्टफोन नहीं होगा, उन्हें आयोजक सैमसंग का स्मार्टफोन देंगे। सभी प्रतिभागियों का रोज कोरोना टेस्ट होगा। सभी प्रतिभागियों को एक प्लेबुक भी दी जाएगी जिसमें खेलों के दौरान यात्रा करने, खाने-पीने, घूमने को लेकर नियम दिए होंगे। इसे नहीं मानने वाले पर कार्रवाई की जा सकती है। कोविड जांच से मना करने पर खिलाड़ी को ओलंपिक से बाहर किया जा सकता है। तोक्यो ओलंपिक अब तक का सबसे महंगा ओलंपिक साबित होने वाला है। कोरोना के कारण किए गए उपायों की वजह से करीब 20 हजार करोड़ रुपए का अतिरिक्त खर्च आयोजन में जुड़ेगा। इस ओलंपिक के आयोजन में कुल 1.14 लाख करोड़ रुपए खर्च आने का अनुमान है।

भारत को उम्मीद

भारत को मुक्केबाजी, कुश्ती, निशानेबाजी और बैडमिंटन जैसे खेलों से मेडल की उम्मीद है। इसके साथ ही पिछले कुछ समय से भारतीय हॉकी टीम के प्रदर्शन को देखते हुए उससे भी मेडल की उम्मीद की जा रही है। मुक्केबाजी में अमित पंघाल और एमसी मैरीकॉम मेडल की बड़ी उम्मीद हैं। कुश्ती में बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट देश के लिए मेडल ला सकते हैं। बैडमिंटन में पीवी सिंधु से एक बार फिर पदक की उम्मीद है। निशानेबाजी में सौरभ कुमार और मनु भाकर के साथ विश्व की शीर्ष निशानेबाज इलावेनिल वालारिवान से मेडल की उम्मीद है। भाला फेंक में नीरज चोपड़ा भी कमाल कर सकते हैं।

Next Stories
1 सुनील छेत्री के 2 गोल से भारत ने बांग्लादेश को हराया, फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर्स में 20 साल बाद विदेश में दर्ज की जीत
2 ओली रॉबिन्सन निष्कासन मामले में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने किया हस्तक्षेप, इंग्लैंड बोर्ड को दिया ये आदेश
3 सनथ जयसूर्या ने लीक किया था अपनी ही पत्नी का अंतरंग Video, यह बदला लेने के लिए रची थी घिनौनी साजिश
ये पढ़ा क्या?
X