ताज़ा खबर
 

IGI एयरपोर्ट पर उतरवाया दिव्यांग अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी का कृत्रिम पैर, व्हील चेयर से भी उतारा, ट्वीट कर बयां किया दर्द

रोहित ने जानकारी दी कि रविवार को वह अपनी टीम के साथियों के साथ आइजीआई एयरपोर्ट के टर्मिनल-2 एयरपोर्ट पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि उन्हें इंडिगो विमान से उड़ान भरनी थी।

rohitदिव्यांग अंतराष्ट्रीय व्हील चेयर क्रिक्रेट खिलाड़ी रोहित अनोत्रा फोटो सोर्स- @suvarnapraj

दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर सुरक्षा जांच के दौरान एक दिव्यांग अंतरराष्ट्रीय व्हील चेयर क्रिक्रेट खिलाड़ी का कृत्रिम पैर उतरवाने का मामला सामने आया है। क्रिकेट खिलाड़ी रोहित अनोत्र ने कहा कि एयरपोर्ट पर सुरक्षा जांच के दौरान न केवल सुरक्षाकर्मियों द्वारा उनका कृत्रिम पैर उतरवाया गया बल्कि उन्हें उनकी व्हील चेयर से भी उतारा गया। रोहित ने जानकारी दी कि रविवार को वह अपनी टीम के साथियों के साथ आईजीआई एयरपोर्ट के टर्मिनल-2 एयरपोर्ट पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि उन्हें इंडिगो विमान से उड़ान भरनी थी। वह श्रीनगर में युवाओं को प्रशिक्षण देने के लिए लगाए गए शिविर में हिस्सा लेने जा रहे थे। इस दौरान वह जब चेक इन की ओर बढ़े तो उन्हें रोक दिया गया।

ट्वीट कर की शिकायतः इस घटना से आहत रोहित ने ट्वीट कर इस मामले में मंत्रालय और उससे संबंधित अधिकारियों को शिकायत की। रोहित भारत की तरफ से व्हील चेयर क्रिकेट खेलते हैं। पांच साल की उम्र में एक हादसे में वह अपने एक पैर से दिव्यांग हो गए थे। रोहित ने आरोप लगाया कि एयरपोर्ट पर भारतीय टीम की जर्सी पहने होने और खुद को अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी बताने के बाद भी उन्हें रोका गया।
National Hindi News, 05 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

पहले भी सामने आई ऐसी घटनाः वहीं इस मामले में व्हील चेयर क्रिकेट एसोसिएशन के महासचिव प्रदीप राज ने बताया कि इस तरह की घटना पहले भी हो चुकी है। बीते चार मई को कोलकाता एयरपोर्ट पर एक अन्य खिलाड़ी अनमोल वशिष्ठ को भी इसी तरह रोका गया था और जांच के दौरान दो बार व्हील चेयर से उतारा गया था।

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के प्रवक्ता दी सफाईःवहीं इस पूरे मामले पर सफाई देते हुए केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के प्रवक्ता हेमेंद्र सिंह ने कहा कि एयरपोर्ट पर दिव्यांग लोगों की सुरक्षा जांच सम्मान के साथ की जाती है। इस बारे में बकायदा सुरक्षा जांच के जवानों को ट्रेंनिग दी जाती है। उनके लिए अलग कमरा होता है जहां उनकी जांच होती है।

आरोप को बताया गलतः उन्होंने आगे कहा कि जवानों ने रोहित को जांच के समय केवल अपने दाएं पैर की पैंट ऊपर करने के लिए कहा था ताकि उनके कृत्रिम पैर की जांच की जा सके, लेकिन उन्होंने खुद ही अपना कृत्रिम पैर उतार दिया था। उन्होंने क्रिकेट खिलाड़ी द्वारा लगाए गए आरोपों को गलत बताया। बता दें ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन के नियमों के मुताबिक किसी भी दिव्यांग खिलाड़ी के कृत्रिम पैर उतारवाए जाने पर साफ मनाही है।

Next Stories
1 नवदीप सैनी को पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट लेने का जश्न मनाना पड़ा भारी, आईसीसी ने दिया एक डिमेरिट पॉइंट
2 नोएडाः जलपरी नव्या ने तैराकी प्रतियोगिता में 27 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा, व्यक्तिगत स्पर्धा में पांच मेडल किए अपने नाम
3 जम्मू-कश्मीर पर केंद्र के कदम का क्रिकेट पर भी पड़ सकता है असर, अगले सीजन से रणजी ट्रॉफी में 37 की जगह 38 टीमें!
ये पढ़ा क्या?
X