ताज़ा खबर
 

महेंद्र सिंह धोनी को ‘थाला’ कहे जाने पर भड़के स्पॉट फिक्सिंग में बैन झेल रहे श्रीसंत

बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (बीसीसीआई) द्वारा साल 2013 में स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने पर श्रीसंत बैन झेल रहे हैं।

क्रिकेटर श्रीशंत। (फाइल)

स्पॉट फिक्सिंग में बैन झेल रहे भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज एस श्रीसंत ने भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और वर्तमान में आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी कर रहे महेंद्र सिंह धोनी को ‘थाला’ कहे जाने पर ऐतराज जताया है। क्रिक ट्रेकर की खबर के मुताबिक श्रीसंत का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी ‘थाला’ नहीं हैं, क्योंकि पूरी दुनिया में थाला सिर्फ मशहूर सुपर स्टार अजीत कुमार हैं। बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (बीसीसीआई) द्वारा साल 2013 में स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने पर श्रीसंत बैन झेल रहे हैं। हालांकि बाद में सिंगल बैच की केरल हाईकोर्ट ने उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया था। मगर भारतीय बोर्ड श्रीसंत से बैन हटाने के लिए तैयार नहीं है। श्रीसंत अभी अपने ऊपर लगे बैन के खिलाफ लड़ रहे हैं।

गौरतलब है कि धोनी को थाला करने पर ऐतराज जताने वाले श्रीसंत अजीत कुमार के बड़े प्रशंसक मालूम होते हैं। अजीत कुमार को उनकी साल 2001 में आई सुपरहिट फिल्म के बाद से थाला का खिताब हासिल है। इसपर श्रीसंत कहते हैं कि एमएस धोनी थाला नहीं हैं क्योंकि सिर्फ अजीत कुमार ही इस विशेष सम्मान के लायक हैं। मैंरा शुरू से ही विश्वास रहा है कि थाला सिर्फ एक ही है और वो अजीत कुमार। अजीत कुमार सिर्फ चेन्नई के ही थाला नहीं बल्कि वह पूरी दुनिया के थाला है। सिर्फ एक ही थाला है। मैं उस थाला का बहुत बड़ा फैन हूं।

श्रीसंत कहते हैं, ‘मैंने बहुत से पोस्टर देखें हैं जिसमें धोनी को थाला कहा गया है। मगर सब जानते हैं कि यहां सिर्फ एक ही थाला है और वो हैं हम सबके प्रिय अजीत अन्नान।’ श्रीसंत ने यह बाते बिहाइंडवुड के एक वीडियो में कहीं हैं। श्रीसंत कहते हैं कि भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे कामयाब कप्तान धोनी का बहुत सम्मान करते हैं। उन्हें इस बात का गर्व हैं कि वह धोनी की कप्तानी में खेले हैं और साल 2011 में उन्हीं की कप्तानी में भारत ने विश्व कप जीता है। हम सब कूल कप्तान धोनी का सम्मान करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App