scorecardresearch

दिलीप टिर्की के हॉकी इंडिया का अध्यक्ष बनने में सौरव गांगुली का हाथ, तीन बार के ओलंपियन ने बताया अपना अगला लक्ष्य

भारत के पूर्व कप्तान दिलीप टिर्की को शुक्रवार को निर्विरोध हॉकी इंडिया का नया अध्यक्ष चुन लिया गया । हॉकी इंडिया के चुनाव एक अक्टूबर को होने थे लेकिन नतीजे पहले ही घोषित कर दिये गए क्योंकि किसी पद के लिये कोई दूसरा उम्मीदवार नहीं था।

दिलीप टिर्की के हॉकी इंडिया का अध्यक्ष बनने में सौरव गांगुली का हाथ, तीन बार के ओलंपियन ने बताया अपना अगला लक्ष्य
अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ (FIH) ने टिर्की और उनकी टीम की नियुक्तियों को मंजूरी दे दी है। (फोटो- द इंडियन एक्सप्रेस)

हॉकी इंडिया के नये अध्यक्ष दिलीप टिर्की के लिये भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष और पूर्व कप्तान सौरव गांगुली मिसाल रहे हैं और उनका मानना है कि पूर्व खिलाड़ियों को खेल प्रशासन में आना चाहिये क्योंकि एक खिलाड़ी के नजरिये से उन्हें हालात की बेहतर समझ होती है । भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान और महान डिफेंडर टिर्की को शुक्रवार को निर्विरोध हॉकी इंडिया का नया अध्यक्ष चुना गया। वह इस पद पर काबिज होने वाले पहले पूर्व खिलाड़ी हैं।  

हॉकी इंडिया के चुनाव एक अक्टूबर को होने थे लेकिन नतीजे पहले ही घोषित कर दिये गए क्योंकि उत्तर प्रदेश हॉकी संघ के प्रमुख राकेश कत्याल और हॉकी झारखंड के भोला नाथ सिंह के नाम वापिस लेने के बाद टिर्की को अध्यक्ष चुना गया।   भारत के लिये तीन ओलंपिक (अटलांटा 1996, सिडनी 2000 और एथेंस 2004) समेत 412 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके टिर्की ने भाषा को दिये इंटरव्यू में कहा ,‘‘ मेरा मानना है कि पूर्व खिलाड़ियों को खेल प्रशासन में आना चाहिये क्योंकि उन्हें बेहतर पता होता है कि कहां फोकस करना है । जैसे क्रिकेट में दादा पहले बंगाल क्रिकेट संघ में थे और फिर बीसीसीआई अध्यक्ष बने और बढ़िया काम कर रहे हैं ।’’

उन्होंने कहा ,‘‘मुझे खुशी है कि हॉकी इंडिया ने भी पहली बार मेरे जैसे पूर्व खिलाड़ी को अध्यक्ष चुना है। खिलाड़ी अपने कैरियर में कई चरणों से गुजरे होते हैं और उन्हें बेहतर अनुभव होता है।’’  बतौर अध्यक्ष प्राथमिकताओं के बारे में पूछने पर पूर्व राज्यसभा सांसद ने कहा कि वह जूनियर और सब जूनियर वर्ग के लिये विशिष्ट प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू करना चाहेंगे।

ड्रैग फ्लिकर और गोलकीपर तैयार करने फोकस

उन्होंने कहा,‘‘ जूनियर खिलाड़ियों के लिये विशिष्ट प्रशिक्षण कार्यक्रम जरूरी है मसलन अगली पीढ़ी के ड्रैग फ्लिकर और गोलकीपर तैयार करने जरूरी हैं और टीम फिटनेस पर भी फोकस रहेगा । हमने देखा के ओलंपिक में हमारे फ्लिकर और गोलकीपर पी आर श्रीजेश की भूमिका कितनी अहम रही लेकिन इनके बाद अगली पीढ़ी के खिलाड़ी भी तैयार करने होंगे।’’

कमियां दूर करने की होगी कोशिश

उन्होंने कहा,‘‘ हॉकी इंडिया कई साल से अच्छा काम कर रहा है जो टीम के प्रदर्शन में नजर आता है । पुरूष टीम शीर्ष तीन चार टीमों में है और महिला टीम ओलंपिक सेमीफाइनल खेल रही है जो बड़ी बात है । जो भी कमियां है हम उन्हें दूर करने की कोशिश करेंगे।’’ अगले साल पुरूष हॉकी विश्व कप भुवनेश्वर और राउरकेला में होने जा रहा है और उसकी तैयारियों पर भी टिर्की का ध्यान रहेगा।

पुरूष विश्व कप को सफल बनाने पर पूरा फोकस

उन्होंने कहा ,‘‘अगले साल पुरूष विश्व कप को सफल बनाने पर मेरा पूरा फोकस रहेगा। ओडिशा में 2018 विश्व कप भी काफी कामयाब रहा था और हम खुशकिस्मत हैं कि लगातार दूसरी बार ओडिशा को इसकी मेजबानी मिली। आम जनता से लेकर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक तक हॉकी को लेकर सभी में जुनून हैं और दुनिया भर में हॉकी का जो क्रेज बढ़ा है, उसमें इसका बहुत योगदान रहा है।’’

हॉकी लीग को फिर से शुरू करने की भी योजना

उन्होंने यह भी कहा कि हॉकी लीग को फिर से शुरू करने की भी योजना है जिस पर जल्दी ही काम किया जायेगा। उन्होंने कहा ,‘‘ हमारी हॉकी लीग को फिर से शुरू करने की भी योजना है । इस पर समिति से बात होगी और कार्यकारी बोर्ड से चर्चा करके इसे आगे बढ़ाया जायेगा।’’   टिर्की ने आखिर में कहा ,‘‘मैं हॉकी इंडिया की सभी इकाइयों को धन्यवाद देना चाहता हूं , खासकर भोला नाथ सिंह और राकेश कत्याल को जिन्होंने मेरे समर्थन में अध्यक्ष पद के चुनाव से नाम वापिस लिया। इसके साथ ही ओडिशा सरकार को धन्यवाद देना चाहता हूं । हम सभी मिलकर भारतीय हॉकी को आगे ले जाने के लिये काम करेंगे।’’

पढें खेल (Khel News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट