ताज़ा खबर
 

किस्सा वर्ल्डकप का : इस दिग्गज की गलती से साउथ अफ्रीका का नाम पड़ा चोकर्स, जानिए दिलचस्प कहानी

World cup: देखना होगा फॉफ डू प्लेसिस की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका विश्वकप में क्या गुल खिलाती है। क्या इस बार वे अपने नाम के आगे लगा चोकर्स का टैग हटा पाएंगे?

क्या इस बार वे अपने नाम से चोकर्स का टैग हटा पाएंगे दक्षिण अफ्रीका?

World cup flashback: क्रिकेट का महाकुम्भ कहा जाने वाला वनडे विश्वकप 30 मई से इंग्लैंड और वेल्स में शुरू होने जा रहा है। इस विश्वकप में इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका को फेवरिट माना जा रहा है। चोकर्स के नाम से मशहूर दक्षिण अफ्रीका ने आज तक एक भी विश्वकप नहीं जीता है। इसे उनकी फूटी किस्मत कहें या ख़राब प्रदर्शन वे हर बार सेमीफइनल में पहुंचकर चोक हो जाते हैं। ऐसा ही कुछ उनके साथ 1992,1999, 2007 और 2015 में भी हुआ था। लेकिन क्या आप जानते हैं दक्षिण अफ्रीका का नाम चोकर्स कैसे पड़ा? आइए हम आपको बताते हैं।

दक्षिण अफ्रीका ने पहली बार साल 1992 में विश्वकप में हिस्सा लिया। तब से लेकर अबतक वे 4 बार सेमीफाइनल, 2 बार क्वार्टरफाइनल और एक बार ग्रुप स्टेज तक पहुंचे हैं। दक्षिण अफ्रीका कभी भी विश्वकप के फाइनल तक नहीं पहुंचा है। सेमीफाइनल के आगे उसकी गाड़ी कभी बढ़ी ही नहीं है। दक्षिण अफ्रीका को पहली बार चोकर्स 1999 में बुलाया गया था। वो मैच दक्षिण अफ्रीका के लिए एक बुरे सपने से कम नहीं है। तेज गेंदबाज एलेन डोनॉल्ड की चूक आज भी दक्षिण अफ्रीका को कहीं न कहीं सुई की तरह चुभती होगी। सेमीफइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी ओवर में दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए नौ रन चाहिए थे। डेमियन फ्लेमिंग के ओवर में लांस क्लूजनर ने लगातार दो चौके जड़कर मैच अपनी ओर मोड़ लिया। लेकिन अगली गेंद पर कुछ ऐसा हुआ जिसके बाद दक्षिण अफ्रीका इतिहास के पन्नो में चोकर्स के नाम से जाना जाने लगा। आखिरी गेंद पर दक्षिण अफ्रीका को फाइनल में जाने के लिए एक रन की दरकरार थी। क्लूजनर शॉट खेलते ही रन के लिए दौड़ पड़े लेकिन ख़राब तालमेल की वजह से डोनाल्ड रन को पूरा नहीं कर सके और रन आउट हो गए। मैच टाई हो गया और रनरेट के आधार पर ऑस्ट्रेलिया को जीत दे दी गई।

फाइनल में पाकिस्तान को हराकर ऑस्ट्रेलिया 1999 विश्वकप का विजेता बना, यह विश्वकप भी इंग्लैंड में खेला गया था। इस हार से दक्षिण अफ्रीका विश्व कप में कभी भी उबर नहीं पाई और विश्वकप में उसका सफर सेमीफाइनल के आगे कभी बढ़ नहीं पाया। दक्षिण अफ्रीका अपने ऊपर से कभी भी चोकर्स का टैग हटा नहीं पाई। 2015 के विश्वकप के सेमीफाइनल में न्यूज़ीलैंड के खिलाफ भी दक्षिण अफ्रीका जीत हुआ मैच आखिरी ओवर में हार गया था। ऐसे में देखना होगा फॉफ डू प्लेसिस की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका विश्वकप में क्या गुल खिलाती है। क्या इस बार वे अपने नाम के आगे लगा चोकर्स का टैग हटा पाएंगे?

 

दक्षिण अफ्रीका की टीम –  फाफ डू प्लेसी (कप्तान), जेपी डुमिनी, डेविड मिलर, हाशिम अमला, डेल स्टेन, एंडिले फेलुकवायो, इमरान ताहिर, कगिसो रबाडा, ड्वेन प्रिटोरियस, क्विंटन डी कॉक, क्रिस मॉरिस, लुंगी एन्गिडी, एडेन मार्करम, रसी वैन डर डुसेन और तबरेज शम्सी।

वर्ल्ड कप 2019 में दक्षिण अफ्रीका का पूरा शेड्यूल:

दक्षिण अफ्रीका vs इंग्लैंड, 30 मई (लंदन)

दक्षिण अफ्रीका vs बांग्लादेश, 2 जून (लंदन)

दक्षिण अफ्रीका vs भारत, 5 जून (साउथैंप्टन)

दक्षिण अफ्रीका vs वेस्टइंडीज, 10 जून (साउथैंप्टन)

दक्षिण अफ्रीका vs अफगानिस्तान, 15 जून (कार्डिफ)

दक्षिण अफ्रीका vs न्यूजीलैंड, 19 जून (बर्मिंघम)

दक्षिण अफ्रीका vs पाकिस्तान, 23 जून (लंदन)

दक्षिण अफ्रीका vs श्रीलंका, 28 जून (चेस्टर ली स्ट्रीट)

दक्षिण अफ्रीका vs ऑस्ट्रेलिया, 6 जुलाई (मैनचेस्टर)

Next Stories
1 West Indies vs Bangladesh 5th ODI Playing 11, WI vs Ban: ये है दोनों टीमों की प्लेइंग इलेवन
2 IPL 2019: ख़िताब जीतने के बाद रितिका ने लिया रोहित का इंटरव्यू, पूछे ये सवाल
3 VIDEO: अंपायर के फैसले से नाराज होकर कीरोन पोलार्ड ने हवा में उछाला था बल्ला, मिली यह सजा
यह पढ़ा क्या?
X