ताज़ा खबर
 

आखिर क्यों सुनील गावस्कर से चिढ़ता था पाकिस्तान का यह गेंदबाज, मैदान पर देता था गालियां

भारत और पाकिस्तान का क्रिकेट के मैदान पर जब भी आमना- सामना होता है तो अक्सर स्लेजिंग और जुबानी जंग देखने को मिलती है।

वो बल्लेबाजों को अक्सर पंजाबी भाषा में गाली देते और उसे उकसाने की कोशिश करते।

भारत और पाकिस्तान का क्रिकेट के मैदान पर जब भी आमना- सामना होता है तो अक्सर स्लेजिंग और जुबानी जंग देखने को मिलती है। चाहे वो ईशांत शर्मा और कामरान अकमल के बीच होने वाली बहस हो या गौतम गंभीर और शाहिद अफरीदी के बीच हुआ झगड़ा। लेकिन भारत और पाकिस्तानी खिलाड़ियों के बीच जुबानी जंग का यह रिश्ता खासी पुरानी है। पाकिस्तानी गेंदबाज हमेशा से ही भारतीय बल्लेबाजों को परेशान करने का काम करते रहे हैं। अपने दौर में ऐसा ही कुछ किया था पाकिस्तान क्रिकेट के पूर्व तेज गेंदबाजों सरफराज नवाज ने। सरफराज नवाज क्रिकेट खेलने के दौरान और उसके बाद में भी अक्सर विवादों से घिरे रहे। सरफराज ने अपने समय में भारतीय ओपनर बल्लेबाज सुनील गावस्कर को काफी परेशान किया था। सरफराज और मियांदाद अक्सर गेंदबाजी करते समय बल्लेबाजों को चिढ़ाना पसंद करते थे। 1976 से 1979 तक जो भी बल्लेबाज उनके सामने बल्लेबाजी करने आया उन्हें उनसे गाली सुनने को मिली।

HOT DEALS
  • Moto G6 Deep Indigo (64 GB)
    ₹ 15727 MRP ₹ 19999 -21%
    ₹0 Cashback
  • ARYA Z4 SSP5, 8 GB (Gold)
    ₹ 3799 MRP ₹ 5699 -33%
    ₹380 Cashback

वो बल्लेबाजों को अक्सर पंजाबी भाषा में गाली देते और उसे उकसाने की कोशिश करते। दूसरे देश के बल्लेबाजों को भले ही उनकी इस हरकत का पता नहीं चलता हो लेकिन भारतीय बल्लेबाज इस बात को अच्छी तरह समझते थे। पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर इमरान खान और मुश्ताक अहमद ने एक अखबार को दिए अपने इंटरव्यू में इस बात का जिक्र किया था कि सरफराज गावस्कर से काफी चिढ़ते थे।

गावस्कर भारत की तरफ से ओपनिंग करने आते थे और जैसे ही वो मैदान में आते सरफराज उन्हें गाली देना शुरू कर देते। 1978 में जब भारतीय टीम पाकिस्तान के दौरे पर गई तो गावस्कर को कई बार उकसाने की कोशिश की। सुनील गावस्कर ने नवाज के खराब व्यवहार की कई बार शिकायत कप्तान मुश्ताक अहमद से की। लेकिन इसका उन्हें कोई खास फायदा नहीं मिला।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App