ताज़ा खबर
 

क्रिकेट के मैदान पर कमाल! साथ-साथ खेले पिता-पुत्र और जड़ दिए अर्धशतक, उम्र में है 21 साल का फासला

वेस्‍ट इंडीज के दिग्‍गज बल्‍लेबाज शिवनारायण चंद्रपॉल अभी भी क्रिकेट के मैदान में सक्रिय हैं। हालांकि अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट को उन्‍होंने जनवरी 2016 में अलविदा कह दिया था।

शिवनारायण चंद्रपॉल और उनके बेटे टैगनारायण ने एक प्रथम श्रेणी मैच में अर्धशतक जड़ दिए। (Photo: Twitter)

वेस्‍ट इंडीज के दिग्‍गज बल्‍लेबाज शिवनारायण चंद्रपॉल अभी भी क्रिकेट के मैदान में सक्रिय हैं। हालांकि अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट को उन्‍होंने जनवरी 2016 में अलविदा कह दिया था। रविवार(12 मार्च) को उन्‍होंने और उनके बेटे ने एक प्रथम श्रेणी मैच में अर्धशतक जड़ दिए। जमैका के खिलाफ गुयाना की ओर से खेलते हुए चार दिवसीय टूर्नामेंट में चंद्रपॉल और उनके बेटे टैगनारायण ने अर्धशतक लगाए। चंद्रपॉल चौथे नंबर पर बल्‍लेबाजी करने को आए जबकि उनके बेटे ने ओपनिंग की। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 12.2 ओवर में 38 रन जोड़े। दोनों की पारियों की मदद से गुयाना ने पहली पारी में 262 रन बनाए। वहीं जमैका की पहली पारी 255 रन पर समाप्‍त हुई। चंद्रपॉल 42 साल के हो चुके हैं और राष्‍ट्रीय टीम से अब वे बाहर हैं। उनके और टैगनारायण के बीच उम्र का 21 साल का फासला है।

चंद्रपॉल ने साल 1994 में अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा था। इसके दो साल बाद 1996 में उनके बेटे टैगनारायण का जन्‍म हुआ था। अब दोनों साथ मिलकर खेलते हैं। इस मैच से पहले भी वे फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट में साथ खेल चुके हैं। एक नॉन फर्स्‍ट क्‍लास मैच में तो दोनों ने मिलकर शतक भी उड़ा दिए थे। 2012 में गांधी यूथ ऑर्गेनाइजेशन की ओर से खेलते हुए दोनों ने 256 रन की साझेदारी की थी। बाप-बेटे में काफी समानता है। चंद्रपॉल की तरह उनका बेटा भी बाएं हाथ का बल्‍लेबाज है। साथ ही क्रीज पर आने के बाद गार्ड लेने के लिए वह भी बेल को जमीन में ठोककर निशान बनाता है।

चंद्रपॉल वेस्‍ट इंडीज के दूसरे सबसे सफल क्रिकेटर हैं। उन्‍होंने 164 टेस्‍ट में 11867 रन बनाए और 30 शतक लगाए हैं। वह केवल ब्रायन लारा से पीछे हैं। वनडे क्रिकेट की बात करें तो 268 वनडे में उन्‍होंने 8778 रन बनाए हैं। इंग्‍लैंड के खिलाफ ब्रिजटाउन में उन्‍होंने आखिरी बार टेस्‍ट खेला था। वहीं अंतिम वनडे 2011 में पाकिस्‍तान के खिलाफ खेला था। क्रिकेट में ऐसे मौके बहुत ही कम ही आते हैं जब पिता-पुत्र एक साथ किसी मैच में खेलते हो। चंद्रपॉल टी20 क्रिकेट भी खेल चुके हैं। उनका बल्‍लेबाजी स्‍टाइल काफी यूनिक था। साथ ही बैटिंग के दौरान वे आंखों के नीचे स्‍टीकर्स जैसा कुछ लगाकर उतरते थे।