scorecardresearch

शानदार प्रदर्शन के बावजूद हार्दिक पांड्या को नहीं मिलेगी टेस्ट टीम में जगह, वसीम जाफर ने बताई क्या चीज बनेगी राह का रोड़ा

पूर्व भारतीय ओपनर वसीम जाफर ने बताया कि ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या टेस्ट सर्किट में आने से क्यों दूर हैं। आयरलैंड के खिलाफ दो मैचों की टी20 सीरीज में टीम इंडिया की कप्तानी ऑलराउंडर पांड्या करेंगे। सीरीज के पहले मैच में रविवार को भारत का सामना आयरलैंड से होगा।

हार्दिक पांड्या। (फोटो- ट्विटर)

हार्दिक पांड्या टीम इंडिया के लिए वनडे और टी-20 में महत्वपूर्ण सदस्य होंगे, लेकिन पूर्व भारतीय ओपनर बल्लेबाज वसीम जाफर का अभी भी मानना ​​​​है कि स्टार ऑलराउंडर टेस्ट में वापसी करने से बहुत दूर है। पांड्या ने इंडियन प्रीमियर लीग 2022 (आईपीएल 2022) का खिताब गुजरात टाइटंस (GT) को जीताने के बाद टीम इंडिया के टी20ई टीम में शानदार वापसी की।

आयरलैंड दौरे के दौरान रोहित शर्मा, केएल राहुल और ऋषभ पंत की गैरमौजूदगी में पांड्या टीम इंडिया की कप्तानी करेंगे। भारत और आयरलैंड के बीच सीरीज के पहले मैच से पहले बोलते हुए, पूर्व क्रिकेटर जाफर ने बताया कि वह पांड्या को जल्द रेड-बॉल क्रिकेट में वापसी करते हुए क्यों नहीं देखते हैं। ईएसपीएनक्रिकइंफो पर चर्चा के दौरान जाफर ने कहा, ” आप हार्दिक एक दिन में 15 से 18 ओवर गेंदबाजी करते नहीं देख सकते, क्योंकि पीठ की सर्जरी हुई है। क्या वह चार या पांच पर बल्लेबाजी करेंगे? मुझे टेस्ट क्रिकेट में ऐसा होता नहीं दिख रहा है।”

जाफर ने आगे कहा, “इस वजह से पांड्या रेड-बॉल सर्किट में आने से बहुत दूर है। इसलिए मुझे लगता है कि अगर हम उन्हें वनडे में केवल चार ओवर या अधिकतम 10 ओवर गेंदबाजी और चार, पांच या छह पर बल्लेबाजी करने दें, तो इससे उन्हें अपने करियर को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।” पांड्या ने 2016 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण टीम इंडिया के लिए 11 टेस्ट मैच खेले हैं।

पांड्या ने आखिरी बार इंग्लैंड के 2018 दौरे के दौरान भारत के लिए एक टेस्ट मैच खेला था। स्टार ऑलराउंडर ने भारत के लिए 63 वनडे और 59 टी 20 मैच खेले हैं। आयरलैंड के खिलाफ 2 मैचों की टेस्ट सीरीज आज से खेली जानी है। इससे पहले पांड्या ने कहा कि वह जिम्मेदारी आने से वह क्रिकेट के मैदान पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हैं।

हार्दिक ने कहा, “पहले भी मुझे जिम्मेदारी लेने में मजा आता था और अब भी ऐसा ही है, लेकिन अब थोड़ी ज्यादा जिम्मेदारी आ गई है। मेरा हमेशा मानना है कि मैंने जिम्मेदारी लेने के बाद बेहतर किया है।अगर मैं अपनी चीजों की जिम्मेदारी लेता हूं और अपने फैसले करता हूं तो वे मजबूत होते हैं। क्रिकेट इस तरह का खेल है, जिसमें अलग अलग परिस्थितियों के दौरान मजबूत बने रहना बहुत अहम है। “

पढें क्रिकेट (Cricket News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X