ताज़ा खबर
 

विराट कोहली ने सिर्फ फैशन में नहीं बनवाए हैं शरीर पर इतने टैटू, जानिए हर एक के पीछे की क्या है कहानी

विराट कोहली ने शरीर पर टैटू को किसी खास मकसद से गुदवाया है। विराट ने 'नेशनल ज्योग्राफिक' चैनल पर एक डॉक्यूमेंट्री में इसका खुलासा किया था। कोहली का बायां हाथ तो पूरा टैटू से भरा हुआ है। बाएं हाथ की हथेली के ठीक ऊपर मोनेस्ट्री का टैटू बनवाया है, जो शांति और शक्ति का प्रतीक है।

जानिए अपने शरीर पर इतने सारे टैटूज बनवाने के पीछे क्या है कोहली की कहानी

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान की दीवानगी जितनी क्रिकेट के प्रति है, उतना ही क्रेज उन्हें अपने शरीर पर टैटू बनवाने का भी है। हालांकि, दिलचस्प ये है कि उनके टैटू सिर्फ फैशन को बढ़वा नहीं देते, बल्कि एक ऐसी कहानी भी बयां करते हैं जिसका एक मीनिंग हैं। एक बार खुद कोहली ने अपने हर टैटू का मीनिंग बताया था।

कोहली ने बॉडी पर अब तक 9 टैटू बनवाए हैं। उन्होंने इन टैटू को किसी खास मकसद से गुदवाया है। विराट ने ‘नेशनल ज्योग्राफिक’ चैनल पर एक डॉक्यूमेंट्री में इसका खुलासा किया था। कोहली का बायां हाथ तो टैटू से भरा हुआ है। उऩके इस हाथ पर कई टैटू हैं। बाएं हाथ की हथेली के ठीक ऊपर मोनेस्ट्री का टैटू बना है, जो शांति और शक्ति का प्रतीक है।

कोहली के बाएं हाथ के बाजू पर भी तीन टैटू हैं। इनमें पहला टैटू जापानी सामुराई योद्धा का है। विराट कोहली इस टैटू को अपना Good Luck टैटू मानते हैं। बाजू के पिछले हिस्से में उन्होने अपने पैरेंट्स के नाम हिंदी में गुदवाए हैं। बता दें कि विराट ने अपने पिता प्रेम कोहली के सपने को सच करने में कड़ी मेहनत की और सफलता के नए मुकाम को छुआ है।

उन्होंने अपने टेस्ट और वनडे कैप का नंबर भी बाएं बाजू के पिछले हिस्से में गुदवा रखे हैं। 2008 में कोहली ने वनडे इंटरनेशनल में डेब्यू किया।

विराट भगवान शिव के उपासक हैं, इसलिए उन्होंने अपने बाएं बाजू के टैटू में कैलाश पर्वत पर ध्यान में लीन भगवान शिव का चित्र भी गुदवाया है। इस टैटू के ठीक पीछे कैलाश पर्वत और मानसरोवर लेक के साथ ध्यानमग्न (मेडिटेशन करते हुए) भगवान शिव का एक टैटू नजर आता है। बाएं बाजू पर ही शांति और शक्ति के प्रतीक मोनेस्ट्री (मठ) का टैटू है, जो क्रिकेट की पिच पर उनमें एनर्जी देता है, ताकि वे अपने खेल में अच्छा प्रदर्शन कर सकें।

विराट 2008 में भारत की ओर से वनडे में 175वें खिलाड़ी बने थे, इसलिए उनकी वनडे कैप का नंबर 175 हैं। इसका भी उन्होंने टैटू बनवाया है। उन्होंने 3 साल बाद 2011 में टेस्ट क्रिकेट में कदम रखा। वे टेस्ट के 269वें खिलाड़ी बने, जिससे उनकी कैप का नंबर 269 है। उन्होंने इन सभी यादों को अपने शरीर पर पिरोया है।

उन्होंने ओम (ॐ) का टैटू भी बनाया हुआ है। इस (ओम ) सुसंगत ध्वनि को वह जीवन का सार मानते हैं। बाएं हाथ के कंधे पर ‘गॉड्स आई’ का टैटू है, जो देखने की शक्ति का प्रतीक है।

विराट के शरीर पर सबसे पहला टैटू ट्राइबल आर्ट है।

विराट के दाएं बाजू में जॉडिएक साइन स्कॉर्पियो (वृश्चिक) का टैटू बना है। विराट नवंबर में पैदा हुए हैं, जो मान्यताओं के अनुसार वृश्चिक राशि का महीना है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सचिन तेंदुलकर को शारजाह में लक्ष्मण पर आया था गुस्सा, पड़ी थी बड़े भाई से डांट; 22 साल बाद किया खुलासा
2 कोविड-19: कैरेबियाई दिग्गज की नजर में खेल के लिए जरूरी था ब्रेक, कहा- डॉलर कमाने के चक्कर में हो रही है इतनी क्रिकेट
3 ‘जमाना बड़े शौक से सुन रहा था, हम ही सो गए दास्तां कहते-कहते’, ऋषि कपूर के निधन पर खेल जगत ने यूं जताया शोक