ताज़ा खबर
 

अब अनिल कुंबले ने भी कह दिया, धोनी के होने पर आराम में रहते हैं कोहली

ऑस्ट्रेलिया से वनडे सीरीज हरने के बाद अब अनिल कुंबले ने भी उठाए विराट कोहली कि कप्तानी पर सवाल। कहा जब मैच में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी नहीं होते तो कप्तान विराट कोहली असहज नजर आते हैं।"

धोनी के टीम में नहीं होने से कमजोर पड़ जाते हैं विराट कोहली (फोटो सोर्स- एपी)

ऑस्ट्रेलिया से वनडे सीरीज हारने के बाद कई पूर्व क्रिकेटरों और क्रिकेट पंडितों ने विराट कोहली की कप्तानी पर सवाल उठाए थे। बिशन सिंह बेदी, सुनील गावस्कर जैसे कई दिग्गज पूर्व क्रिकेटरों का कहना था कि डेथ ओवरों के दौरान जब टीम में पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी नहीं होते तो कप्तान विराट कोहली असहज नजर आते हैं। अब इस मामले में भारतीय पूर्व कोच और दिग्गज गेंदबाज अनिल कुंबले ने अपनी राय दी है। अनिल कुंबले के अनुसार, एमएस धोनी स्टंप के पीछे होते हैं, तो विराट कोहली के लिए चीज़ें आसान हो जातीं हैं। उन्होंने क्रिकेटनेक्स्ट से बातचीत करते हुए बताया “मुझे लगता है कि जब धोनी टीम में होते हैं कोहली निश्चित रूप से सहज नजर आते हैं। धोनी और विराट के बीच की बातचीत निश्चित रूप से उन्हें सही निर्णय लेने में मदद करती है।”

हालही में ऑस्ट्रेलिया के साथ खेली गई वनडे सीरीज में कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम को घरेलू सीरीज में पहली बार हार का सामना करना पड़ा है। इस सीरीज की शुरुआत में भारत 2-0 से आगे चल रहा था। लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने उसे 3-2 हारते हुए सीरीज अपने पक्ष में कर ली। इस सीरीज के आखिरी दो मैचों में धोनी को आराम दिया गया था जिसके बाद कोहली मैदान में असहज नजर आए। कोहली ने दवाब में आकर कई ऐसे निर्णय लिए जो भारत को भारी पड़े। इतना ही नहीं डेथ ओवरों में भारत की फील्डिंग बेहद ख़राब रही। इसकी बड़ी वजह थी धोनी का टीम में न होना। क्योंकि जब धोनी टीम में होते हैं तो आखिरी के ओवरों में कोहली डीप में बॉउंड्री के पास फील्डिंग करते हैं जिस से गेंदबाजों को काफी मदद मिलती है।

कुंबले ने कहा “धोनी लंबे समय तक कप्तान थे। वह स्टंप के पीछे रहते हैं इसलिए वह खेल को बेहतर तरके से पढ़ते हैं। वह गेंदबाज के साथ बातचीत करते रहते हैं और उन्हें समझते रहते हैं कहां गेंद डालना है किस गति से डालना है और उसके मुताबिक फिल्ड भी लगाते हैं।” उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि विराट निश्चित रूप से वनडे क्रिकेट में एमएस धोनी पर काफी निर्भर रहते हैं, क्योंकि धोनी सटीक फिल्ड प्लेसमेंट कारते हैं। शायद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी दो वनडे मैचों में कोहली ने यही सब मिस किया। अंतिम 10 या 15 ओवरों में या अंतिम पावरप्ले में जब गेंदबाजों पर दवाब होता है विराट आम तौर पर बाउंड्री पर फिल्ड कारते हैं। इस दौरान धोनी सर्कल के अंदर संभालते हैं। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी दो मैचों में धोनी नहीं थे और विराट ये अकेले नहीं कर पाए।”

Next Stories
1 IPL 2019: धोनी का जलवा, CSK का प्रैक्टिस मैच देखने पहुंच गए 12 हजार से ज्‍यादा फैंस
2 किस्सा विश्वकप का: आयरलैंड से हारते ही हो गई थी पाकिस्तान के कोच की मौत, कभी करते थे सेल्‍समैन का काम
3 IPL अभ्यास मैच के दौरान माही के पीछे भागा फैन, फिर धोनी ने किया कुछ ऐसा
ये पढ़ा क्या?
X