ताज़ा खबर
 

VIDEO : जब हार से खफा श्रीलंकाई फैन्स ने बांग्लादेशी समर्थकों पर किया हमला

बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन आखिरी ओवर में बाउंड्री पर आकर अपने बल्लेबाजों को मैदान से बाहर बुलाने लगे। कोच के समझाने के बाद मैच फिर शुरू हुआ और बांग्लादेश इसे जीतने में कामयाब भी रही। हालांकि, खिलाड़ियों के बीच नोक झोंक का सिलसिला मैच के बाद भी चलता रहा।

बांग्लादेशी समर्थक। (फोटो सोर्स यू-ट्यूब)

श्रीलंका के खिलाफ शुक्रवार को खेल गए निदास ट्रॉफी के आखिरी लीग मैच में खिलाड़ियों के बीच जमकर विवाद हुआ। विवाद इतना बढ़ गया था कि बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन आखिरी ओवर में बाउंड्री पर आकर अपने बल्लेबाजों को मैदान से बाहर बुलाने लगे। कोच के समझाने के बाद मैच फिर शुरू हुआ और बांग्लादेश इसे जीतने में कामयाब भी रही। हालांकि, खिलाड़ियों के बीच नोक झोंक का सिलसिला मैच के बाद भी चलता रहा। एक ओर जहां मैदान पर हाईवोल्टेज ड्रामा चल रहा था तो वहीं दूसरी तरफ स्टेडिम में बैठे फैन्स भी एक-दूसरे से मैच को लेकर झगड़ पड़े। दरअसल, बांग्लादेश के एक क्रिकेट फैन शोएब अली ने मैच के बाद कहा, ”मैच जीतने के बाद जब वह सेलिब्रेट कर थे तो श्रीलंकाई फैन्स ने उनके साथ बदतमीजी की और हाथापाई भी किया। शोएब अली के मुताबिक स्टेडियम में सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मी भी फैन्स को रोकने के लिए आगे नहीं आए। मीडिया के सामने अपनी बात रखते हुए शोएब ने बताया कि वहां मौजूद सुरक्षा कर्मचारी इस घटना को नजर अंदाज कर रहे थे। बांग्लादेशी फैन का वीडियो सोशल मीडिया पर आने के बाद तेजी से वायरल हो रहा है।

ban vs sl t20, ban vs sl match, nagin dance, ban vs sl controversy, nagin dance bangladesh, Sri Lanka pungi मैच के आखिरी ओवर में नो बॉल न दिए जाने को लेकर शाकिब अल हसन इतने नाराज हो गए कि उन्‍होंने खिलाड़ियों को वापस लौटने का इशारा कर दिया।

बता दें कि इस मैच में दोनों ही टीमों के खिलाड़ियों के बीच कई बार झड़प देखने को मिली। यही वजह है कि मैच के बाद बांग्लादेश के कप्तान शाकिब अल हसन और बेंच पर बैठे नुरुल हसन पर मैच फीस का 25 फीसदी जुर्माना लगा है। साथ ही दोनों के हिस्से में आईसीसी की आचार संहिता के लेवल-1 के उल्लंघन के कारण एक-एक नकारात्मक अंक आए हैं। सितंबर-2016 के बाद से ऐसा पहली बार है कि इन दोनों खिलाड़ियों के हिस्से में नकारात्मक अंक आए हैं।

अपना फैसला सुनाते हुए मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड ने कहा, “शुक्रवार को हुआ विवाद निराशाजनक था। आप इस तरह का व्यवहार किसी तरह की क्रिकेट में मैदान पर देखना नहीं चाहते। मैं समझता हूं कि यह काफी रोमांचक और तनावपूर्ण मामला था जिससे फाइनल में जाना तय होना था, लेकिन इन दोनों खिलाड़ियों ने जो व्यवहार किया वो मंजूर नहीं है और इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App