ताज़ा खबर
 

जख्‍मी शेर की तरह कंगारुओं पर झपटेगी टीम इंडिया, हार के बाद वापसी का रहा है शानदार इतिहास

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पुणे टेस्ट मैच में हार के बाद मीडिया को दिए गए अपने बयान में यह भरोसा दिलाते हुए कहा भी था कि आगामी टेस्ट मैचों में पहली गेंद से ही फर्क दिखाई देगा।

Author नई दिल्ली | February 28, 2017 12:43 PM
विराट कोहली की कप्तानी में 2015-16 के श्रीलंका दौरे पर टीम इंडिया ने पहला टेस्ट मैच गंवाने के बाद जोरदार वापसी करते हुए श्रृंखला 2-1 से अपने नाम किया था।(Photo: BCCI)

क्रिकेट प्रशंसकों को जिस टेस्ट सीरीज का इंतजार था वो पुणे में शुरू हुआ और पहले ही टेस्ट मैच में भारत की हार ने इस श्रृंखला को और रोमांचक बना दिया। पुणे टेस्ट मैच में मिली 333 रनों की हार टीम इंडिया की अपने ही घर में दूसरी सबसे बड़ी पराजय है। इससे पहले आॅस्ट्रेलिया ने ही भारत को उसी की सरजमीं पर 342 रनों से मात दी थी। इस जीत के बाद एक ओर जहां आॅस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने उन सभी क्रिकेट पंडितों और क्रिकेट विश्लेषकों को करारा जवाब दिया, जिन्होंने सीरीज में कंगारुओं के 4-0 से हार की भविष्यवाणी की थी। गौरतलब है कि सीरीज से पहले हरभजन सिंह पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने भी भारत के पक्ष में क्लीन स्वीप की भविष्यवाणी की थी।

सीरीज के पहले ही टेस्ट मैच में हार झेलने के बाद अब दबाव कंगारुओं पर नहीं बल्कि भारतीय टीम पर है। आॅस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने भी अपने खिलाड़ियों को आगाह किया है कि वे एक टेस्ट मैच में जीत के बाद आत्ममुग्ध ना हों, क्योंकि भारत इस सीरीज में वापसी की जी तोड़ कोशिश करेगा और कर भी सकता है। स्टीव स्मिथ ने भारत की सीरीज में वापसी करने की बात ऐसे ही हवा में नहीं कही है। दरअसल, भारतीय टीम ने इससे पहले कई मौकों पर पहला मैच गंवाने के बाद सीरीज में पलटवार करते हुए जीत दर्ज की है। हम आपको कुछ ऐसी ही टेस्ट सीरीज के बारे में बता रहे हैं, जिनमें भारत ने पिछड़ने के बाद ना सिर्फ वापसी की बल्कि श्रृंखला भी जीती है। भारतीय टीम का इतिहास बताता है कि उसे वापसी करना आता है। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पुणे टेस्ट मैच में हार के बाद मीडिया को दिए गए अपने बयान में यह भरोसा दिलाते हुए कहा भी था कि आगामी टेस्ट मैचों में पहली गेंद से ही फर्क दिखाई देगा।

श्रीलंका के खिलाफ 2015-16 की टेस्ट सीरीज: श्रीलंका में खेली गई इस टेस्ट सीरीज़ के पहले मैच में भारत ने पहली पारी में 192 रनों की बढ़त बनाने के बाद मैच गवां दिया था। दूसरी पारी में 176 रनों का पीछा करते हुए टीम इंडिया ने श्रीलंका के बांए हाथ के स्पिनर रंगना हेराथ के सामने घुटने टेक दिए। हेराथ ने 48 देकर 7 विकेट लिया और टीम इंडिया महज 112 रनों पर ढेर हो गई। इस तरह भारत को पहले ही मुकाबले में 63 रनों से हार का सामना करना पड़ा। टेस्ट श्रृंखला के अगले दो मैचों में भारतीय टीम ने वापसी करते हुए कोलंबों टेस्ट मैच में श्रीलंका को 278 रनों हराकर सीरीज में 1-1 से बराबर की और फिर तेज गेंदबाजों की मददगार एसएससी की पिच पर पुजारा के शानदार 145 रनों की बदौलत 117 रनों से जीत दर्ज कर सीरीज 2-1 से अपने नाम कर लिया।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2000-01 की ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज: साल 2000-01 की उस ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज को भला कौन भूल सकता है। सौरव गांगुली के नेतृत्व में भारतीय टीम ने उस समय की अजेय माने जाने वाली टीम आॅस्ट्रेलिया को टेस्ट श्रृंखला में धूल चटायी थी। मुंबई में खेले गए पहले ही टेस्ट मैच में भारत को कंगारुओं ने 10 विकेट से हरा दिया। कोलकाता में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में 274 रनों की बढ़त बनाने और भारत को फॉलोऑन खिलाने के बावजूद आॅस्ट्रेलिया को हार मिली। यह मैच वीवीएस लक्ष्मण, राहुल द्रविड़ और हरभजन सिंह की वजह से सुनहरे अक्षरों में इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया। टेस्ट सीरीज़ के आखिरी मुकाबले में एक बार फिर हरभजन सिंह का जलवा दिखा और छोटे लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत ने 2 विकेट से जीत दर्ज कर सीरीज 2-1 से अपने नाम कर लिया।

इंग्लैंड के खिलाफ 1972-73 में खेली गई टेस्ट सीरीज: यह कारनामा भारतीय टीम ने उस वक्त किया था जब विश्व क्रिकेट में मात्र तीन टीमों वेस्टइंडीज, आॅस्ट्रेलिया और इंग्लैंड का ही बोलबाला था। पांच मैचों की इस टेस्ट सीरीज में भारत को दिल्ली में खेले गए पहले मैच में हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद भारतीय टीम ने जोरदार वापसी करते हुए अगले चार टेस्ट मैचों में से दो में जीत दर्ज किया और सीरीज 2-1 से अपने नाम कर लिया।

खेल जगत की ताजा तरीन खबरों से अपडेट रहने के लिए क्लिक करें…

वीडियो: विराट ने तोड़ा 13 साल का ये पुराना रिकार्ड, ऐसा करने वाले बने पहले कप्तान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App