ताज़ा खबर
 

विदेश में 2019 से चुप है कोहली का बल्ला

विश्व टैस्ट चैंपियनशिप को लेकर क्रिकेट प्रशंसकों में काफी जोश है। खास कर भारतीय प्रशंसक इस मुकाबले के लिए उत्साहित दिख रहे हैं।

विराट कोहली।

विश्व टैस्ट चैंपियनशिप को लेकर क्रिकेट प्रशंसकों में काफी जोश है। खास कर भारतीय प्रशंसक इस मुकाबले के लिए उत्साहित दिख रहे हैं। हो भी क्यों न, कोरोना महामारी के कारण स्थगित इंडियन प्रीमियर लीग के बाद उन्हें एक बेहतरीन मैच देखने को मिलेगा। हालांकि 18 जून से 22 जून के बीच खेले जाने वाले मुकाबले से पूर्व कुछ आंकड़े और तथ्य ऐसे भी हैं जो भारतीय प्रशंसकों के लिए चिंता का सबब हैं। मसलन, इंग्लैंड के साथ न्यूजीलैंड का मौजूदा टैस्ट मैच। इन दोनों देशों के पिच में समानता। इंग्लैंड का मौसम और सबसे अहम भारतीय कप्तान का विदेशी जमीन पर हाल के प्रदर्शन।

दरअसल, भारतीय टीम बीते कुछ साल में रन बनाने के लिए अपने शीर्ष क्रम पर ही निर्भर रही है। इसमें रोहित शर्मा, शिखर धवन, शुभमन गिल और केएल राहुल जैसे सलामी बल्लेबाज अपनी जिम्मेदारी निभा लेते हैं तब बारी तीसरे और चौथे स्थान पर बल्लेबाजी के लिए आने वाले खिलाड़ी की होती है। इस क्रम में विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा या अजिंक्य रहाणे रन गति बढ़ाने और विकेट को संभाले का जिम्मा संभालते हैं। लेकिन 2019 के बाद के आकड़ों पर निगाह दौड़ाएं तो भारतीय कप्तान विदेशी जमीन पर बहुत ज्यादा रन नहीं बटोर पाए हैं। विपक्षी कप्तान केन विलियम्सन का हाल भी कुछ ऐसा ही है। वे भी विदेशी जमीन पर कुछ खास नहीं कर पाए हैं। लेकिन इंग्लैंड में उन्हें घरेलू पिच जैसे माहौल मिलने की स्थिति का फायदा मिल सकता है।
विराट कोहली की बात करें तो 10 पारियों में महज 275 रन ही बना सके हैं। जनवरी 2019 में उन्होंने आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में 23 रन बनाए थे। इसके बाद वेस्ट इंडीज के खिलाफ उनकी जमीन पर सर विवियन रिचर्ड्स स्टेडियम में विराट ने नौ और 51 रन की पारी खेली थी। इसी शृंखला के दौरान सबीना पार्क में उन्होंने 76 और शून्य रनों की पारी खेली। भारतीय टीम इसके बाद 2020 में की जनवरी माह में न्यूजीलैंड के दौरे पर गई थी। इस दौरान भारतीय कप्तान ने बेसिन रिजर्व में दो और 19 रन और हेग्ले ओवल में तीन व 14 रनों की पारी खेली थी। दिसंबर 2020 में आॅस्ट्रेलिया दौरे पर एडिलेड में एकमात्र टैस्ट की दोनों पारियों में 74 और चार रन बनाए।

विराट कोहली ने अब तक 153 पारियों में 52.38 के औसत से 7490 रन बनाए हैं। इसमें 27 शतक और 25 अर्धशतक शामिल हैं। हालांकि इसमें घरेलू मैदान पर उनका औसत शानदार है। उन्होंने भारतीय जमीन पर 66 पारी में 64.31 के औसत से 3730 रन बनाए हैं। इसमें 13 शतक और 12 अर्धशतक शामिल हैं। वहीं विदेशी जमीन पर 87 पारियों में उन्होंने 44.24 के औसत से 3760 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 14 शतक और 13 अर्धशतक जमाए हैं।

विदेशी पिच पर विलियमसन का प्रदर्शन भी ठीक नहीं

विलियमसन अपने टीम के लिए तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरते हैं। ऐसे में विदेशी जमीन पर खराब फॉर्म न्यूजीलैंड के लिए परेशानी का कारण बन सकता है। विश्व टैस्ट चैंपियनशिप फाइनल से पहले इंग्लैंड के खिलाफ चल रहे टैस्ट मैचों की शृंखला के पहले मुकाबले की दोनों पारियों में उन्होंने 13 और एक रन बनाए। इससे पहले अगस्त 2019 में श्रीलंका के खिलाफ गॉले में उन्होंने शून्य और चार रन बनाए। इसी शृंखला के कोलंबो में खेले गए मैच में उन्होंने 20 रन की पारी खेली। दिसंबर 2019 में आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ 34, 14, 9 और शून्य का स्कोर ही बना पाए। ऐसे में न्यूजीलैंड के कप्तान का नहीं चलना टीम के लिए खतरा बन सकता है।

Next Stories
1 पाकिस्तानी फैंस यूनिस खान को मैदान से बाहर भेजने के लिए करने लगे थे हंगामा, पूर्व कप्तान ने सुनाई भारत के खिलाफ मैच की कहानी
2 CSK के ओपनर फाफ डुप्लेसिस के बिगड़े बोल, पाकिस्तान के PSL को बताया IPL से बेहतर
3 रोरी बर्न्स ने 18 महीनों बाद ठोका शतक, टिम साउदी ने इंग्लैंड पर बरपाया कहर; केन विलियमसन लगातार दूसरी पारी में फेल
ये पढ़ा क्या?
X