ताज़ा खबर
 

JNU मामले पर सुनील गावस्कर ने कहा- देश के हालात ठीक नहीं, क्लास की जगह सड़कों पर छात्र

पिछले कुछ हफ्तों में देश भर में छात्रों का विरोध प्रदर्शन देखने को मिला है। संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ सबसे पहले जामिया मिलिया विश्व विद्यालय में विरोध देखने को मिला जबकि जवाहर लाल नेहरू विश्व विद्यालय (जेएनयू) में नकाबपोश लोगों ने हिंसा फैलाई।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर (फोटो सोर्स- बीसीसीआई)

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने देश के मौजूदा हालात पर अपनी चिंता व्यक्त की है। पिछले कुछ समय से देश में जिस तरीके के हालात हैं उसे लेकर पूरे देश में उथल-पुथल मची हुई। छात्र लगातार सड़क पर उतरकर सरकार के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सुनील गावस्कर ने भरोसा जताया कि भारत देश भर में छात्रों के विरोध प्रदर्शन से बने मौजूदा ‘मुश्किल’ हालात से उबर जाएगा जैसे अतीत में वह कई संकट की स्थितियों से निपटने में सफल रहा है। पिछले कुछ हफ्तों में देश भर में छात्रों का विरोध प्रदर्शन देखने को मिला है। संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ सबसे पहले जामिया मिलिया विश्व विद्यालय में विरोध देखने को मिला जबकि जवाहर लाल नेहरू विश्व विद्यालय (जेएनयू) में नकाबपोश लोगों ने हिंसा फैलाई।

गावस्कर ने 26वें लाल बहादुर शास्त्री स्मृति व्याख्यान के दौरान कहा, ‘देश मुश्किल में है। हमारे कुछ युवा सड़कों पर उतरे हुए हैं जबकि उन्हें अपनी कक्षाओं में होना चाहिए। सड़कों पर उतरने के लिए उनमें से कुछ को अस्पताल जाना पड़ा।’ गावस्कर हालांकि उस भारत में विश्वास रखते हैं जहां के लोग संकेट के इस समय से उबर जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘इनमें से अधिकतर कक्षाओं में हैं, अपना भविष्य बनाने और भारत को आगे ले जाने का प्रयास कर रहे हैं। एक देश के रूप में हम तभी आगे बढ़ सकते हैं जब हम सभी एकजुट हों। जब हम सभी सामान्य भारतीय होंगे। खेल ने हमें यही सिखाया है।’

गावस्कर ने साथ ही रणजी ट्रॉफी को लेकर भी अपनी बात रखी। देश के शीर्ष प्रथम श्रेणी क्रिकेट टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी में जब तक खिलाड़ियों की मैच फीस में भारी भरकम इजाफा नहीं किया जाता तब तक यह लुभावनी इंडियन प्रीमियर लीग की बराबरी नहीं कर सकती।

रणजी ट्रॉफी खेलने के लिए एक खिलाड़ी को प्रति मैच लगभग ढाई लाख रुपये मिलते हैं लेकिन कुछ समय पहले तक खिलाड़ियों को काफी कम मैच फीस मिलती थी। इस इजाफे के बावजूद इस प्रथम श्रेणी टूर्नामेंट से खिलाड़ियों को होने वाली कमाई मामूली है। गावस्कर ने कहा, ‘रणजी ट्राफी पर आईपीएल का दबदबा रहता है। जब तक कि मैच फीस में बड़ा इजाफा नहीं किया जाता तब इसे अनाथ और भारतीय क्रिकेट का रिश्ते का गरीब भाई ही माना जाएगा।’ (भाषा इनपुट के साथ)

Next Stories
1 Ind vs NZ: न्यूजीलैंड दौरे से पहले भारत को बड़ा झटका, फिटनेस टेस्ट में फेल हुए हार्दिक पंड्या
2 टीम में बतौर ओपनर अपनी जगह को लेकर शिखर धवन ने कहा- यह मेरी नहीं कप्तान और कोच की टेंशन, मेरा काम अच्छा खेलना है
3 VIDEO: दमदार पारी खेलने के बाद अब खूबसूरत वाइफ से मिलने जा रहे मनीष पांडे, Chahal TV पर किया खुलासा
ये पढ़ा क्या?
X