ताज़ा खबर
 

Sports news: विश्व कप क्रिकेट के फाइनल का ब्रिटेन में मुफ्त प्रसारण, यहां पढ़ें स्पोर्ट्स की अन्य खबरें

इंग्लैंड में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का सीधा प्रसारण 2005 से स्काय स्पोटर्स करता है। कई विशेषज्ञों का मानना है कि क्रिकेट के जनक देश में खेल की घटती लोकप्रियता को फिर परवान चढाने के लिये यह फैसला लिया गया है।

Author नई दिल्ली | July 12, 2019 8:42 PM
स्पोर्ट्स की मुख्य खबरें।

इंग्लैंड के 27 साल में पहली बार विश्व कप फाइनल में पहुंचने के बाद इस मैच का प्रसारण पूरे देश में निशुल्क किया जायेगा इंग्लैंड ने आस्ट्रेलिया को आठ विकेट से हराकर फाइनल में जगह बनाई जहां रविवार को उसका सामना न्यूजीलैंड से होगा।ब्रिटेन में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का सीधा प्रसारण 2005 से स्काय स्पोटर्स करता है। कई विशेषज्ञों का मानना है कि क्रिकेट के जनक देश में खेल की घटती लोकप्रियता को फिर परवान चढाने के लिये यह फैसला लिया गया है। इंग्लैंड में क्रिकेट विश्व कप के टीवी दर्शकों की संख्या निशुल्क दिखाये जा रहे महिला विश्व कप फुटबाल के दर्शकों से कम रही। अब चैनल फोर ने स्काय स्पोटर्स के साथ करार किया है जिसके तहत इंग्लैंड के क्रिकेटप्रेमी फाइनल मैच बिना कोई शुल्क दिये देख सकेंगे। इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा ,‘‘यह बहुत अच्छा है। मुझे याद है कि एशेज 2005 में मिली जीत के बाद क्रिकेट किस कदर लोकप्रिय हो गया है।’’
————————————

अमेरिकी ओपन क्वार्टर फाइनल में प्रणय और सौरभ का सामना
भारत के एच एस प्रणय और सौरभ वर्मा अपने अपने मुकाबले जीतकर अमेरिकी ओपन बैडंिमटन टूर्नामेंट के एकल क्वार्टर फाइनल में पहुंच गए जहां उनका सामना एक दूसरे से होगा। दूसरी वरीयता प्राप्त प्रणय ने कोरिया के क्वांग ही हियो को 21 . 16, 18 . 21, 21 . 16 से हराया। इससे पहले सौरभ ने युवा लक्ष्य सेन को 21 . 11, 19 . 21, 21 . 12 से मात दी।
————————————

सेमीफाइनल विश्व कप में हमारा सबसे शर्मनाक प्रदर्शन था : फिंच

कप्तान आरोन फिंच को पिछले 12 महीने में आस्ट्रेलियाई टीम की प्रगति पर फख्र है लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में उनका प्रदर्शन इस विश्व कप का सबसे खराब था। पांच बार की चैम्पियन आस्ट्रेलिया को सेमीफाइनल में आठ विकेट से पराजय मिली। फिंच ने कहा ,‘‘ हमने पिछले 12 महीने में टीम के रूप में काफी तरक्की की है और मुझे फख्र है कि हम यहां तक पहुंचे।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ हम यहां जीतने आये थे और मुझे दुख है कि इसका अंत इस तरह हुआ। यह पूरे विश्व कप में हमारा सबसे खराब प्रदर्शन था।’’ फिंच ने कहा कि इंग्लैंड ने उसे पूरी तरह से उन्नीस साबित कर दिया। उन्होंने कहा ,‘‘ पहले दस ओवर में खेल बदल गया। आप कितना भी विश्लेषण कर लीजिये लेकिन हकीकत यही है कि हम खराब खेले । स्टीव और एलेक्स हमें मैच में लेकर आये लेकिन इंग्लैंड ने बहुत उम्दा बल्लेबाजी की।’’ रविवार के फाइनल के बारे में उन्होंने कहा कि कोई कयास लगाना मुश्किल है क्योंकि न्यूजीलैंड और इंग्लैंड दोनों जुझारू टीमें हैं।

————————————
उत्तर कोरिया के खिलाफ करो या मरो मैच में भारत को बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद
अहमदाबाद, 12 जुलाई (भाषा) ताजिकिस्तान के खिलाफ पहला मैच गंवाने के बाद मेजबान भारत चार देशों के इंटरकांटिनेंटल कप फुटबाल टूर्नामेंट में उत्तर कोरिया के खिलाफ करो या मरो मैच में शनिवार को बेहतर प्रदर्शन करने के लिये बेताब होगा। मौजूदा चैंपियन भारत को सात जुलाई को 2-4 से हार गया था जिससे उसके लिये फाइनल में जगह बनाना मुश्किल हो गया है। चार टीमों के इस टूर्नामेंट में चोटी पर रहने वाली दो टीमें फाइनल में पहुंचेंगी। भारत को अगर फाइनल में पहुंचना है तो उसे बाकी बचे दोनों मैचों में से कोई भी नहीं गंवाना होगा। ताजिकिस्तान के खिलाफ भारत सुनील छेत्री के दो गोल की मदद से एक समय 2-0 से आगे था लेकिन इसके बाद दसने दूसरे हाफ में चार गोल गंवाये। भारतीय रक्षापंक्ति दूसरे हाफ में तितर बितर हो गयी थी।  आदिल खान और नरेंदर गहलोत मध्यक्रम में प्रभाव नहीं छोड़ पाये जबकि रक्षापंक्ति में राहुल भिके और मंदर राव देसाई भी संघर्ष करते नजर आये। ताजिकिस्तान ने अधिकतर आक्रमण दायें छोर से किये जहां भिके जिम्मेदारी संभाल रहे थे। भारतीय टीम में संदेश झींगन की वापसी हो सकती है जिससे रक्षापंक्ति को मजबूती मिलेगी। उत्तर कोरिया के लिये भी यह मैच करो या मरो जैसा है क्योंकि उसे पहले मैच में सीरिया से 2-5 से हार का सामना करना पड़ा था।

——————————–

स्राइडर के खिलाफ अमेरिका में पदार्पण को तैयार विजेंदर
भारत के स्टार मुक्केबाज विजेंदर सिंह शनिवार को यहां होन वाले आठ दौर के सुपर मिडिलवेट मुकाबले में अमेरिका के माइक स्राइडर के खिलाफ पूरी तैयारी के साथ उतरेंगे। विजेंदर एक साल से भी ज्यादा समय बाद रिंग में वापसी करेंगे। डब्ल्यूबीओ ओरिएंटल और एशिया पैसिफिक सुपर मिडिलवेट चैम्पियन विजेंदर का रिकार्ड 10-0 (सात नाकआउट) है। उन्होंने यहां बाउट से पहले आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह अच्छा मुकाबला होगा। मैं अपने मुक्केबाजी करियर पर ध्यान लगाये हूं। मैं इस साल दो और बार बाउट लड़ना चाहता हूं और विश्व खिताब के मौके की ओर बढ़ना चाहता हूं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस फाइट के लिये पूरी तरह से तैयार हूं और स्राइडर के खिलाफ मेरी रणनीतियां तय हो चुकी हैं जिन्हें मैंने अपनी टीम के साथ मिलकर बनाया है जिसमें ट्रेनर ली बीयर्ड शामिल हैं। मैं शुरूआती राउंड में ही स्राइडर को पस्त करना चाहता हूं। ’’ वहीं स्राइडर का रिकार्ड 13-5-3 है और उन्हें भारतीय मुक्केबाज को हराने का भरोसा है।
उन्होंने कहा, ‘‘मेरे ट्रेनर ने विजेंदर की कई बाउट देखी हैं। उन्होंने मुझे बताया कि वह किस चीज में अच्छा है और कहां हम उसकी कमजोरियों का फायदा उठा सकते हैं। ’’
—————————

विश्व कप फाइनल के लिये धर्मसेना और इरासमस होंगे मैदानी अंपायर

श्रीलंका के कुमार धर्मसेना और दक्षिण अफ्रीका के मारियस इरासमस को रविवार को लार्ड्स पर मेजबान इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच होने वाले विश्व कप फाइनल के लिये मैदानी अंपायर नियुक्त किया गया। आईसीसी ने बयान में कहा कि आस्ट्रेलिया के रॉड टकर तीसरे अंपायर जबकि पाकिस्तान के अलीम डार चौथे अधिकारी होंगे। श्रीलंका के रंजन मदुगले फाइनल मुकाबले के लिये मैच रैफरी होंगे। फाइनल के लिये नियुक्त किये गये सभी अधिकारी इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के बीच गुरूवार को हुए दूसरे सेमीफाइनल में भी अधिकारी थे जिसमें मेजबान ने आठ विकेट से जीत हासिल की थी। बल्कि धर्मसेना ने एजबेस्टन में गुरूवार को दूसरे सेमीफाइनल में इंग्लैंड के जेसन रॉय के खिलाफ विवादास्पद फैसला दिया था। रॉय (85 गेंद में 85 रन) शतक की ओर बढ़ रहे थे और 20वें ओवर में वह पैट कामींस पर पुल शाट से चूक गये। धर्मसेना शुरू में थोड़े हिचके लेकिन उन्होंने आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की लगातार अपील के बाद बल्लेबाज को आउट दे दिया। रॉय गुस्से में थे क्योंकि उनके अनुसार गेंद उनके बल्ले या ग्लव्स से छूकर नहीं गयी थी लेकिन उन्हें इस फैसले को मानना पड़ा क्योंकि इंग्लैंड तब तक अपने रिव्यू गंवा चुका था। रॉय ने अंपायर के साथ कुछ बात भी की। बाद में मैदानी अंपायर के खिलाफ नाराजगी व्यक्त करने के लिये रॉय पर 30 प्रतिशत मैच फीस का जुर्माना लगाया गया। इस जुर्माने के अलावा आईसीसी ने रॉय के अनुशासनात्मक रिकार्ड में दो डिमैरिट अंक भी जोड़ दिये।

—————————

भारोत्तोलक अजय सिंह ने राष्ट्रमंडल रिकार्ड बनाया

भारतीय भारोत्तोलक अजय सिंह  ने राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप के क्लीन एवं जर्क में नया राष्ट्रमंडल रिकार्ड कायम करते हुए शुक्रवार को यहां स्वर्ण पदक हासिल किया। बाइस साल के इस खिलाड़ी ने 81 किग्रा भारवर्ग के क्लीन एवं जर्क में अपने शरीर के वजन से दोगुना से ज्यादा भार (190 किग्रा) उठाते हुए ओलंपिक क्वालीफाइंग स्पर्धा के लिए अहम अंक भी हासिल किया। एशियाई युवा एवं जूनियर भारोत्तोलन चैंपियनशिप में कांस्य पदक विजेता ने स्रैच वर्ग में 148 किग्रा का भार उठाया जिससे उनका कुल स्कोर 338 किग्रा हो गया।यह अजय का भी सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत प्रदर्शन है। इससे पहले उन्होंने अप्रैल में चीन के ंिनगबो में आयोजित एशियाई चैंपियनशिप में 320 किग्रा (142 किग्रा + 178 किग्रा) का भार उठाया। उनका मौजूदा प्रयास इससे 18 किग्रा अधिक है। इस भार वर्ग में भारत के पापुल चांगमई ने रजत पदक हासिल किया। फरवरी में सीनियर राष्ट्रीय भारोत्तोलन चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक हासिल करने वाले चांगमई ने कुल 313 किग्रा 135 किग्रा + 178 किग्रा) भार उठाया। महिलाओं के 87 किग्रा भारवर्ग के स्पर्धा में पी अनुराधा ने 221 किग्रा (100 किग्रा + 87 किग्रा) ने स्वर्ण पदक हासिल किया जबकि पुरूषों के 89 किग्रा भारवर्ग में राष्ट्रमंडल स्वर्ण पदक विजेता आरवी राहुल कुल 325 किग्रा भारवर्ग (145 किग्रा + 180 किग्रा) उठाकर दूसरे स्थान पर रहे।
——————————-

कई बार सर्वश्रेष्ठ टीमें खिताब नहीं जीत पाती है: भूटिया ने भारत की हार पर कहा

भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया ने आईसीसी क्रिेकेट विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मिली हार पर कहा कि कई बार सर्वश्रेष्ठ टीमें खिताब नहीं जीत पाती। बुधवार को मैनचेस्टर में जीत के लिए 240 रन का पीछा करने उतरे भारत का शीर्ष क्रम पूरी तरह लड़खड़ा गया और टीम 18 रन से मैच हार गयी। भूटिया ने एक कार्यक्रम के इतर पीटीआई से कहा, ‘‘ जैसा कि विराट (कोहली) ने कहा था, ‘हम 45 मिनट खराब क्रिकेट खेले’, लेकिन अगर हम अच्छा खेले तो 10 मैचों में उन्हें 10 बार हरा देंगे। अगर हम टूर्नामेंट से बाहर हो गये है तो इसका यह मतलब नहीं कि भारत खराब टीम है।’’ भारत ने आठ मैचों में सात जीत के साथ ग्रुप चरण में शानदार प्रदर्शन किया। सेमीफाइनल में हालांकि शीर्ष क्रम के बुरी तरह से लड़खड़ाने के कारण टीम का तीसरी बार ट्राफी उठाने का सपना चकनाचूर हो गया लेकिन भूटिया ने कहा कि विराट कोहली की टीम ‘‘विश्व कप में सर्वश्रेष्ठ टीम’’ थी। उन्होंने कहा, ‘‘ यह वैसे ही जैसे सर्वश्रेष्ठ टीम जीत दर्ज नहीं कर सकी। कई बार आप सर्वश्रेष्ठ होते है लेकिन सर्वश्रेष्ठ टीम जीत दर्ज नहीं करती, खेलों में यह होता है। हमें और मजबूती से वापसी करनी होगी।’’ भारत के लिए 107 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 42 गोल करने वाले भूटिया ने कहा कि आईसीसी को इस खेल को दूसरे देशों में भी बढ़ावा देना चाहिए। उन्होंने कहा,‘‘ मुझे लगता है कि आईसीसी को इस खेल का दूसरे देशों में प्रसार शुरू करना चाहिए। टूर्नामेंट में हम और अधिक टीमों को देखना चाहते है, नयी टीमों को देखना चाहते है। उन्होंने इस संबंध में फुटबाल के वैश्विक प्रशंसकों का हवाला दिया। उन्होंने कहा, ‘‘इस क्रिकेट विश्व कप में हमने स्टेडियम में सिर्फ भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान के प्रशंसकों को देखा, हमें अधिक लोगों (अन्य देशों से) को देखने की जरूरत है, खेल को प्रसार की जरूरत है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App