ताज़ा खबर
 

SA vs AUS: बैंड वालों पर भड़क गए अंपायर, बोले- इसे बंद करो वरना क्रिकेट नहीं होगा

पूर्व दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर मार्क बाउचर ने घटना पर दुख जताया और इसकी तुलना भारत के ईडन गार्डंस स्‍टेडियम से की। उन्‍होंने लिखा, ''अगली बार जब द ग्रेट ईडन गार्डंस में 100000 लोग इतना शोर मचाना शुरू करें, तब क्‍या अधिकारी खेल रोक सकते हैं?"

दूसरे टेस्‍ट के दौरान बल्‍लेबाजी करते दक्षिण अफ्रीका के ओपनर डीन एल्‍गर। (Photo: AP)

दक्षिण अफ्रीका और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच खेला जा रहा दूसरा टेस्‍ट मैच क्रिकेट के अलावा एक अन्‍य वजह से सुर्खियां बटोर रहा है। पोर्ट एलिजाबेथ के सेंट जॉर्ज’स पार्क में पिछले दो दशक से मैच के दौरान ब्रास म्‍यूजिक बैंड अपना संगीत बजाकर दर्शकों का मनोरंजन करता आ रहा है। शनिवार (10 मार्च) को खेल के दौरान अंपायर कुमार धर्मसेना और सुंदरम रवि ने संगीत रोकने को कहा। रिपोर्ट्स के अनुसार, अंपायरों ने कहा कि म्‍यूजिक बहुत तेज है और इससे उन्‍हें बैट के निक्‍स को सुनने में दिक्‍कत हो रही है।

लंच ब्रेक के बाद बैंड को संगीत न बजाने के लिए कहा गया तो दर्शक नाराज हो गए। स्‍टैंड्स में बैठे सैकड़ों दर्शक ‘वी वांट द बैंड (हमें बैंड चाहिए)’ का नारा लगाने लगे, जिसके बाद संगीतकार मैदान पर वापस आए। मैदान पर मौजूद दोनों अंपायरों ने दो बार खेल रोका तो रेफरी, जेफ क्रो हालात का जायजा लेने मैदान के बीच पहुंच गए।

इसके बाद भी बैंड का बजना बंद नहीं हुआ। दिन का खेल खत्‍म होते-होते दक्षिण अफ्रीका ने लीड ले ली थी और बैंड की आवाज बढ़ती चली गई।

पूर्व दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर मार्क बाउचर ने घटना पर दुख जताया और इसकी तुलना भारत के ईडन गार्डंस स्‍टेडियम से की। उन्‍होंने लिखा, ”अगली बार जब द ग्रेट ईडन गार्डंस में 100000 लोग इतना शोर मचाना शुरू करें (जो कि सेंट जॉर्ज की तुलना में ज्‍यादा भारी है), तब क्‍या अधिकारी खेल रोक सकते हैं। बकवास! धर्मसेना (अंपायर) जाग जाओ। आपको पता होना चाहिए था, आपने खेल किया है।”

पूर्व दक्षिण अफ्रीकी विकेटकीपर मार्क बाउचर ने घटना पर दुख जताया और इसकी तुलना भारत के ईडन गार्डंस स्‍टेडियम से की। उन्‍होंने लिखा, ”अगली बार जब द ग्रेट ईडन गार्डंस में 100000 लोग इतना शोर मचाना शुरू करें (जो कि सेंट जॉर्ज की तुलना में ज्‍यादा भारी है), तब क्‍या अधिकारी खेल रोक सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App