ताज़ा खबर
 

मैरी कॉम की उपलब्धियों के कायल हैं शिखर धवन

शिखर धवन मैरी कॉम को महान खिलाड़ी और एथलीट मानते हैं। मैरी कॉम को शिखर धवन भारतीय खेल का ‘लीजेंड’ मानते हैं।

Author नई दिल्ली | February 19, 2016 11:44 PM
शुक्रवार को राजधानी में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेते शिखर धवन, लारा दत्ता, मैरी कॉम और रोहन बोपन्ना।

क्रिकेट में अपनी लप्पेबाजी के लिए पहचान बना चुके भारतीय ओपनर शिखर धवन के यों तो देश और दुनिया में लाखों मुरीद होंगे। अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी से बहुतों को उन्होंने कायल किया होगा। लेकिन भारतीय क्रिकेट में ‘गब्बर’ के नाम से मशहूर बाएं हाथ का यह बल्लेबाज पांच बार की विश्व चैंपियन और ओलंपिक पदक विजेता मैरी कॉम की उपलब्धियों के कायल हैं। वे उन्हें महान खिलाड़ी और एथलीट मानते हैं। मैरी कॉम को शिखर धवन भारतीय खेल का ‘लीजेंड’ मानते हैं। बल्लेबाजी की तरह ही बातचीत में भी साफगोई शिखर धवन की शख्सियत का हिस्सा है और इसलिए शुक्रवार को जब मैरी कॉम और शिखर धवन एक मंच पर आए तो धवन ने उनकी उपलब्धियों के कसीदे पढ़ने में किसी तरह की कंजूसी नहीं की। ऐसा बहुत कम होता है कि एक ही मंच पर अलग-अलग खेलों से जुड़ी हस्तियां दिखाई देती हैं। लेकिन शुक्रवार को ‘जेवन स्पोर्ट्स’ के कार्यक्रम में धवन और मैरी कॉम के अलावा टेनिस स्टार महेश भूपति व रोहन बोपन्ना ने एक साथ भारतीय खेलों पर बातचीत की। इस दौरान अभिनेत्री लारा दत्ता और ‘जेवन’ के अध्यक्ष व संस्थापक हेमचंद झावेरी भी मौजूद थीं।

मैरी कॉम ने अपनी उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि वे हमेशा कुछ सीखती रहती हैं और हर खेल से जुड़े ‘लीजेंड’ उन्हें बेहतर करने के लिए प्रेरित करते रहे हैं। महेश हों या धवन या फिर बोपन्ना, मैंने हमेशा इन जैसे महान खिलाड़ियों से कुछ न कुछ सीखा है और मैं आज जहां हूं तो उसकी वजह ये तमाम खिलाड़ी ही रहे हैं। भारतीय मुक्केबाजी में चल रहे विवाद को लेकर दुखी और मायूस मैरी कॉम ने कहा कि इससे युवा मुक्केबाज प्रभावित हे रहे हैं। मैं कई सालों से इस मुद्दे पर बात कर रही हूं लेकिन मुक्केबाजी के क्षेत्र से जुड़े लोग सियासत करने से बाज नहीं आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे इस सियासत का हिस्सा न ते हैं और न ही बनना चाहती हैं। रिंग में मैरी कॉम जितनी आक्रामक दिखती हैं, आम जीवन में उतनी ही सहज और सरल। किसी तरह की लाग-लपेट से दूर। जो मन में आता है उसका वे इजहार करती हैं। उनका सुनना अच्छा लगता है। इसलिए वे संघ की सियासत पर भी बोलती हैं तो एक खिलाड़ी का दर्द उसमें सिमट आता है। संघ की सियासत को दरकिनार कर छोटे से कद की इस बड़ी खिलाड़ी ने कहा कि उनका लक्ष्य ओलंपिक में रिंग में उतरना है और स्वर्ण पदक जीतना है।

‘लीजेंड’ धवन ने इसके बाद बातचीत में हिस्सा लिया और कहा कि मैरी कॉम आप तो अपने आप में ‘लीजेंड’ हैं। हम आपकी उपलब्धियों को सलाम करते हैं। आपने मुक्केबाजी में देश को गौरव के शिखर पर पहुंचाया है। पांच बार विश्व चैंपियन बनना कोई मजाक नहीं है। आपके पंचों के हम कायल हैं और आपसे हमने बहुत कुछ सीखा है। टेंपरामेंट, फिटनेस, कुछ करने का जनून यह सब आपसे सीखा है। आपने देश की महिलाओं को भी प्ररित किया है। मां बनने के बाद आपने रिंग में वापसी की और एक चैंपियन की तरह खेलीं। आपने देश के लिए ओलंपिक व एशियाई खेलों में पदक जीते, यह उपलब्धि हममें से बहुत कम ही लोग हासिल कर पाते हैं लेकिन आपने किया। आपकी महानता तमाम खिलाड़ियों के प्रेरित करती है। हाल ही में हुए मुकाबले में आपने अपने प्रतिद्वंद्वी को सेकेंडों में नाकआउट किया। यह बड़ा कारनामा है और हमें आप पर गर्व है। धवन ने कहा कि हम तमाम देश वालों को आपसे बहुत उम्मीद है और हम तमाम लोग चाहते हैं कि आप रिंग में धमाकेदार प्रदर्शन कर स्वर्ण पदक जीतें। हम तमाम लोगों की शुभकामनाएं आपके साथ है।

रियो ओलंपिक में सानिया मिर्जा के जोड़ीदार को लेकर अटकलों के बीच रोहन बोपन्ना ने कहा है कि उनका पूरा फोकस जून में होने वाले फ्रेंच ओपन तक अपनी दसवीं रैंकिंग बरकरार रखना है। लिएंडर पेस पहले ही कह चुके हैं कि वे सानिया के आदर्श जोड़ीदार होंगे। बोपन्ना ने कहा कि अगस्त में होने वाले रियो खेलों से पहले कहीं तरह के समीकरण बनेंगे। बोपन्ना ने कहा कि मैं रियो से पहले सारे बड़े टूर्नामेंट खेलूंगा जिनमें दुबई, इंडियन वेल्स, मोंटे कार्लो, रोम और फ्रेंच ओपन शामिल है। मेरा लक्ष्य फ्रेंच ओपन तक शीर्ष दस में रहना है। इसके बाद देखेंगे कि कौन किसका जोड़ीदार होगा, चाहे युगल हो या मिश्रित युगल। अभी रियो में काफी समय है। रियो ओलंपिक का क्वालीफिकेशन छह जून को आनी वाली रैंकिंग पर निर्भर होगा जबकि फ्रेंच ओपन 16 मई से पांच जून तक खेला जाएगा। बोपन्ना ने कहा कि अभी जोड़ीदार के बारे में कयास लगाना असंभव है। डबल्स रैंकिंग में 52वें स्थान पर खिसके पेस ने दावा किया था कि बोपन्ना ने ओलंपिक से पहले उनके साथ खेलने से इनकार कर दिया है। इस पर प्रतिक्रिया पूछने पर बोपन्ना ने कहा कि वे अपने मौजूदा जोड़ीदार फ्लोरियन मर्जिया के साथ खेलकर खुश हैं। बोपन्ना ने कहा कि हमारा फोकस पिछले साल के अच्छे प्रदर्शन को बरकरार रखने पर है। कुछ समय बाद हमारी साझेदारी को एक साल हो जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App