ताज़ा खबर
 

सहवाग बोले- सचिन से कोहली की बराबरी करना गलत, युवा पीढ़ी से मास्टर कोसों आगे

साल 2014 में इंग्लैंड की पिचों पर बुरी तरह से फ्लॉप रहने वाले कोहली साल 2018 में पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतरे हैं। कोहली की बल्लेबाजी को देख विराट के आलोचक भी उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे। विराट कोहली की बल्लेबाजी को देख अक्सर उनकी तुलना भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से की जाती रही है।

सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली।

भारतीय कप्तान विराट कोहली मौजूदा समय से शानदार फॉर्म में हैं। इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कोहली के बल्ले से लगातार रनों की बरसात हो रही है। कोहली ने पहले तीन मैचों के दौरान ही अपने नाम 440 रन कर लिए हैं। इतना ही नहीं कोहली ने इस दौरान दो अर्धशतक और दो शतक भी जड़े। साल 2014 में इंग्लैंड की पिचों पर बुरी तरह से फ्लॉप रहने वाले कोहली साल 2018 में पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतरे हैं। कोहली की बल्लेबाजी को देख विराट के आलोचक भी उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे। विराट कोहली की बल्लेबाजी को देख अक्सर उनकी तुलना भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से की जाती रही है। टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक सलामी बल्लेबाज और सचिन के बेहद करीबी दोस्त माने जाने वाले वीरेंदर सहवाग ने अब इन दोनों ही खिलाड़ियों की तुलना को लेकर अपनी बात रखी है। सहवाग ने इंडिया टीवी के शो ‘क्रिकेट की बात’ में कहा, “सचिन तेंदुलकर की तुलना विराट कोहली से करना गलत होगा। विराट जब सचिन की उपलब्धियों के करीब पहुंचेंगे तो इस पर चर्चा करना ज्यादा बेहतर होगा।”

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

सहवाग के मुताबिक विराट कोहली अगर सचिन द्वारा बनाए गए कई रिकॉर्ड (200 टेस्ट, 30,000 से अधिक अंतरराष्ट्रीय रन इत्यादि) हासिल करने में कामयाब हो जाते हैं तो इस बारे में बात की जा सकती हैं। सहवाग का मानना है कि इतनी जल्दी आप किसी भी खिलाड़ी की तुलना सचिन जैसे महान बल्लेबाज के साथ नहीं कर सकते। सचिन इस समय आजकल के युवा पीढ़ी खिलाड़ियों के मुकाबले कोसों आगे हैं। सचिन जैसे बनने के लिए एक क्रिकेटर को बतौर बल्लेबाज कई रिकॉर्ड तोड़ने होंगे।

कोहली ऐसा कर सकते हैं। उनके पास समय, टैलेंट और रनों भूख है। मौजूदा समय में कोहली से बेहतर सचिन के रिकॉर्ड की बराबरी करने लायक कोई बल्लेबाज नहीं है। कोहली केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर के क्रिकेटर्स के लिए एक प्रेरणा का काम कर रहे हैं। हर खिलाड़ी कोहली की तरह बनना चाहता है, कोहली को अगर अपने नाम को बरकरार रखना है तो उन्हें लंबे समय तक इसी तरह का प्रदर्शन जारी रखना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App