ताज़ा खबर
 

AUS vs IND, 3rd ODI: ‘सचिन को गुस्सा होते देखा है, लेकिन धोनी को कभी नहीं’

शास्त्री ने कहा कि धोनी की जगह कोई नहीं ले सकता। उन्होंने कहा, ऐसे खिलाड़ी 30 या 40 साल में एक बार आते हैं। मैं भारतीयों से यही कहता हूं। जब तक वह खेल रहा है, उसका मजा लो। वह संन्यास ले लेगा तो ऐसा खालीपन पैदा होगा जिसे भरना मुश्किल होगा।

Author January 18, 2019 7:19 PM
सचिन तेंदुलकर, रवि शास्त्री और एम एस धोनी।

रवि शास्त्री ने सचिन तेंदुलकर को कई बार नाराज होते देखा है लेकिन महेंद्र सिंह धोनी को नहीं और भारत मुख्य कोच ने कहा कि ऐसा खिलाड़ी 40 साल में एक बार आता है और उसकी जगह लेना किसी के लिए मुमकिन नहीं है। 37 वर्ष के धोनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में 96 गेंद में 51 रन बनाए जबकि अगले दो वनडे में 55 और 87 रन की पारियां खेली। शास्त्री ने डेली टेलीग्राफ से कहा, वह लीजैंड है। वह हमारे महान क्रिकेटरों में से एक है। मैने किसी इंसान को इतना शांत नहीं देखा। मैने कई बार सचिन को नाराज होते देखा है लेकिन इसे नहीं। उन्होंने कहा कि धोनी की जगह कोई नहीं ले सकता। उन्होंने कहा, ऐसे खिलाड़ी 30 या 40 साल में एक बार आते हैं। मैं भारतीयों से यही कहता हूं। जब तक वह खेल रहा है, उसका मजा लो। वह संन्यास ले लेगा तो ऐसा खालीपन पैदा होगा जिसे भरना मुश्किल होगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि ऋषभ पंत अपेक्षाओं पर खरे उतर सकेंगे लेकिन यह भी कहा कि धोनी की बात ही अलग है।

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान ने पूछा कि क्या पंत अगले 20 साल में धोनी बन सकते हैं, इस पर शास्त्री ने कहा, मैं चाहूंगा। उसके पास प्रतिभा है। एम एस उसका हीरो है। वह रोज उसे फोन करता है। टेस्ट श्रृंखला के दौरान भी उसने एम एस से बात की होगी। धोनी ने 2011 के बाद से किसी को इंटरव्यू नहीं दिया है। शास्त्री ने कहा, वह जीरो पर आउट हो जाए, शतक बनाए, विश्व कप जीते या पहले दौर में बाहर हो जाए, वह बदलता नहीं है। उसकी भाव भंगिमा एक सी रहती है और मैं इस पर हैरान हो जाता हूं। उसने 2011 के बाद से कोई इंटरव्यू नहीं दिया है।

उन्होंने कहा, ‘‘ वह अपनी टीम के खिलाड़ियों का काफी ख्याल रखते है और एक आदर्श खिलाड़ी है। वह महान खिलाड़ी बनने के बाद भी आपने दायरे में रहते है और विन्रम है। वह टेस्ट क्रिकेट का सम्मान करते है।’’ कोहली ने हाल ही में युवाओं से छोटे प्रारूप को छोड़कर टेस्ट क्रिकेट पर ध्यान देने को कहा था। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे देश में टी20, आईपीएल और एकदिवसीय को काफी पसंद किया जाता है। अगर विराट कोहली कहते है, ‘ मैं टेस्ट क्रिकेट से ऊब गया हूं तो खेल पर उसका काफी बुरा असर होगा।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App