ताज़ा खबर
 

IND vs NZ: सेमीफाइनल में धोनी को नंबर 7 पर भेजने के पीछे थी यह वजह, रवि शास्त्री ने खोला राज

ICC Cricket World Cup 2019: भारतीय टीम के मुख्य कोच शास्त्री ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए बयान में कहा, 'हम धोनी को अंत में खेलते देखना चाहते थे, हमें पता था कि अगर मैच अंत के ओवरों तक पहुंचा तो टीम इंडिया को सबसे अनुभवी खिलाड़ी की जरूरत होगी।'

Author नई दिल्ली | July 13, 2019 1:51 PM
भारतीय टीम और रवि शास्त्री।

IND vs NZ, 1st Semi-Final (1 v 4), ICC Cricket World Cup 2019: न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भारत की हार से पूर्व भारतीय क्रिकेटर्स और फैंस बेहद निराश है। इस हार की एक वजह धोनी का 7वें नंबर पर आना भी माना जा रहा है। क्रिकेट एक्सपर्ट बार-बार यही कह रहे हैं कि अगर धोनी बल्लेबाजी करने ऊपर आते तो आज सूरते हाल कुछ और होता। सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और सुनील गावस्कर टीम की इस रणनीति से सहमत दिखाई नहीं पड़ रहे हैं। अब इस मामले पर टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री का बयान आया है। शास्त्री के मुताबिक, धोनी को 7वें नंबर पर उतारने का फैसला पूरी टीम का था। शास्त्री ने मीडिया से सवाल करते हुए कहा कि क्या आप चाहते थे कि धोनी जल्दी आकर अपना विकेट गंवा देते। धोनी ने 50 रन बनाए थे और वह अहम मौके पर रन आउट हो गए, जिसके बाद भारत के जीत की उम्मीद खत्म हो गई थी।

भारतीय टीम के मुख्य कोच शास्त्री ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए बयान में कहा, ‘हम धोनी को अंत में खेलते देखना चाहते थे, हमें पता था कि अगर मैच अंत के ओवरों तक पहुंचा तो टीम इंडिया को सबसे अनुभवी खिलाड़ी की जरूरत होगी। ऐसे में पूरी टीम ने मिलकर उन्हें आखिर में भेजने का फैसला किया था। वह हमेशा से टीम के लिए फिनिशर का रोल अदा करते आए हैं और इस बार भी वह यह काम कर सकते थे। इसके अलावा हमारा मिडल ऑर्डर भी कमजोर साबित रहा।’

शास्त्री ने कहा, ‘हमें मिडल ऑर्डर में सॉलिड बल्लेबाज की जरूरत है, लेकिन अब यह मामला भविष्य का है, क्योंकि हम यहां (वर्ल्ड कप में) कुछ नहीं कर सके। केएल राहुल यहां थे, लेकिन शिखर धवन चोटिल हो गए। उसके बाद विजय शंकर का चोटिल होना बड़ा झटका था। हमें इसे संभाल नहीं पाए।’ बता दें कि भारत को अब वेस्टइंडीज का दौरा करना है और ऐसा माना जा रहा है कि इस दौरे पर कप्तान विराट कोहली और जसप्रीत बुमराह क आराम दिया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App