ताज़ा खबर
 

बिहार की तैयारीः बिहार के युवा खिलाड़ी पहचान बनाने को आतुर: प्रज्ञान ओझा

18 साल बाद बिहार क्रिकेट टीम प्रथम श्रेणी मैचों में फिर वापसी करने जा रही है।

Author September 20, 2018 5:11 AM
भारत के लिए 24 टैस्ट और 18 एक दिवसीय मैच खेल चुके प्रज्ञान ओझा भी बतौर मेहमान खिलाड़ी टीम के साथ जुड़ गए हैं। उम्मीद है कि आगामी रणजी ट्रॉफी में वे ही राज्य टीम की कमान संभालेंगे।

जुनैद हुसैन खान

18 साल बाद बिहार क्रिकेट टीम प्रथम श्रेणी मैचों में फिर वापसी करने जा रही है। राज्य के युवा क्रिकेटर और कोर्ट से बहाल किए गए बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी हैं। भारत के लिए 24 टैस्ट और 18 एक दिवसीय मैच खेल चुके प्रज्ञान ओझा भी बतौर मेहमान खिलाड़ी टीम के साथ जुड़ गए हैं। उम्मीद है कि आगामी रणजी ट्रॉफी में वे ही राज्य टीम की कमान संभालेंगे। वे अन्य खिलाड़ियों के साथ शिविर में नेट पर खूब पसीना बहा रहे हैं। प्रज्ञान ने कहा कि 18 साल के अंतराल को आप दो महीने में नहीं भर सकते। इसके लिए खिलाड़ियों और टीम प्रबंदन को थोड़ा समय तो लगेगा ही। उन्होंने कहा कि युवा खिलाड़ी प्रथम श्रेणी मैचों में अपनी पहचान बनाने को आतुर है टीम तैयार करने की बीसीए से मिली जिम्मेदारी पर प्रज्ञान ने कहा कि मैं इसे एक चुनौती की तरह मानता हूं और इसे पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध भी हूं।

उन्होंने कहा कि मैं टीम के हर खिलाड़ी के साथ अपने अनुभव साझा कर रहा हूं। साथ ही उन्हें एकजुट करना बेहद जरूरी है। लिहाजा मुख्य कोच सुब्रत बनर्जी और मैं इस काम को अंजाम तक पहुंचाने में लगे हैं। प्रज्ञान यहां के खिलाड़ियों की मेहनत और लगन से काफी प्रभावित दिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि मौसम की बेरुखी और अभ्यास के लिए पिच की कमी एक मसला है लेकिन खिलाड़ी इससे उबरकर अपनी पहचान बनाएंगे। क्रिकेट के लिए जरूरी ढांचे पर प्रज्ञान ने कहा कि कमियां तो बहुत गिनाई जा सकती हैं लेकिन महत्त्वपूर्ण यह है कि आप इससे पार पाकर कैसे अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हैं। उन्होंने कहा कि यहां बहुत हद तक क्रिकेट की सुविधाएं हैं। यहां के खिलाड़ियों और संघ के सदस्यों के साथ सबसे अच्छी बात है कि वे क्रिकेट को गंभीरता से ले रहे हैं। प्रथम श्रेणी मैचों की तैयारियों के लिए समय की कमी पर प्रज्ञान ने कहा कि टूनार्मेंट के शुरू होने से हमारा काम खत्म नहीं होता। टीम को तैयार करने में थोड़ा समय लगेगा और हम मिलकर इसे बेहतर करने में लगे हैं। अभी मैं बीसीए के साथ दो साल तक जुड़ा हूं।

सरकार करे मदद तो और बेहतर हों सुविधाएं : प्रसाद

बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हम अपने स्तर पर भरसक कोशिश कर रहे हैं। खिलाड़ियों के लिए बेहतरीन पिच और नेट पर अभ्यास के लिए पर्याप्त ढांचा हो, इसके लिए हम प्रयासरत हैं। हमे इसके लिए सरकारी सहयोग की भी जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App