ताज़ा खबर
 

परवेज रसूल ने राष्‍ट्रगान के दौरान च्‍यूइंग गम चबाने के विवाद पर आलोचकों को दिया जवाब

जम्‍मू कश्‍मीर के ऑलराउंडर परवेज रसूल को इंग्‍लैंड के खिलाफ पहले टी20 मुकाबले में राष्‍ट्रीय गान के दौरान च्‍यूइंग गम चबाने के चलते सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना करना पड़ा था।

परवेज रसूल जम्‍मू कश्‍मीर क्रिकेट टीम के कप्‍तान हैं। उन्‍होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 58 मैच खेले हैं और 3343 रन बनाने के साथ ही 156 विकेट भी लिए हैं।

जम्‍मू कश्‍मीर के ऑलराउंडर परवेज रसूल को इंग्‍लैंड के खिलाफ पहले टी20 मुकाबले में राष्‍ट्रीय गान के दौरान च्‍यूइंग गम चबाने के चलते सोशल मीडिया पर आलोचना का सामना करना पड़ा था। लोगों ने उनके खिलाफ कर्इ कड़ी बातें लिखी थी और उन्‍हें टीम से बाहर करने तक की मांग की गई थी। रसूल ने इस मामले में चुप्‍पी तोड़ते हुए अपनी राय ज़ाहिर की है। ईटीवी से बातचीत में उन्‍होंने कहा, ”क्रिकेटर्स को क्रिकेट खेलने दीजिए और उन्‍हें बिना मतलब की राजनीति में शामिल मत कीजिए। मैं खेल पर ध्‍यान लगाने की कोशिश करता हूं और इस तरह के विवादों से खुद को प्रभावित नहीं होने देता।”

उन्‍होंने कहा कि उनके राज्‍य से आने वाले क्रिकेटर्स के लिए पहले ही राष्‍ट्रीय टीम में आना बहुत मुश्किल होता है और जब इस तरह की चीजें होती हैं तो यह काफी दिल दुखाने वाली बात है। परवेज रसूल ने कहा, ”व्‍यक्ति को मजबूत रहना चाहिए और ऐसे विवादों को अहमियत नहीं देनी चाहिए।” बता दें कि परवेज रसूल के च्‍यूइंग गम चबाने पर सोशल मीडिया यूजर्स ने उनके कश्‍मीरी बैकग्राउंड का उल्‍लेख करते हुए निशाना साधा था। इंग्‍लैंड के खिलाफ टी सीरीज जनवरी में खेली गई थी और भारत ने इसे 2-1 से जीता था। हालांकि पहले मैच में उसे हार का सामना करना पड़ा था।

रसूल ने भारत की ओर से एक वनडे और एक टी20 मुकाबला खेला है। वनडे उन्‍होंने साल 2014 में बांग्‍लादेश के खिलाफ खेला था जिसमें उन्‍होंने दो विकेट लिए थे। वहीं टी20 में भी उनके नाम एक विकेट है। वे आईपीएल में सहारा पुणे वॉरियर्स, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की ओर से खेल चुके हैं। वर्तमान में वे सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खेलते हैं। परवेज रसूल जम्‍मू कश्‍मीर क्रिकेट टीम के कप्‍तान हैं। उन्‍होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 58 मैच खेले हैं और 3343 रन बनाने के साथ ही 156 विकेट भी लिए हैं। इनमें आठ शतक भी शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App