ताज़ा खबर
 

नोएडा का स्टेडियम होगा अब अफगानिस्तान का घरेलू मैदान

अफगानिस्तान क्रिकेट टीम अब शरजाह के बजाय नोएडा के यूपीसीए स्टेडियम में अपने मैच खेलेगी और अभ्यास करेगी। गुरुवार को इस बाबत एक समझौते पर दस्तखत किए गए..

Author नई दिल्ली | December 11, 2015 12:58 AM
अफगानिस्तान क्रिकेट टीम (फोटो-रॉयटर्स)

अफगानिस्तान क्रिकेट टीम अब शरजाह के बजाय नोएडा के यूपीसीए स्टेडियम में अपने मैच खेलेगी और अभ्यास करेगी। गुरुवार को इस बाबत एक समझौते पर दस्तखत किए गए। इसका मतलब यह होगा कि शरजाह की जगह अब नोएडा का यूपीसीए स्टेडियम अफगानिस्तान के घरेलू मैदान की तरह होगा। बीसीसीआइ और ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के बीच हुए समझौके के अनुसार अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (एसीबी) शहीद विजय सिंह पथिक स्पोर्ट्स कांप्लेक्स की सुविधाओं का इस्तेमाल कर सकता है। इस कांप्लेक्स ने हाल ही में उत्तर प्रदेश और बड़ौदा के बीच रणजी मैच की मेजबानी की।

एसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शफीक सनीकजई ने यहां संवाददाताओं से कहा कि सबसे पहले मैं बीसीसीआइ और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के प्रति आभार जताता हूं। अफगानिस्तान क्रिकेट के विकास में बीसीसीआअ की ओर से की गई मदद और इसके प्रति उनकी अब तक की प्रतिबद्धता को लेकर हम उनका शुक्रिया अदा करते हैं। हम लोग पिछले कई साल से बीसीसीआइ से मदद हासिल करने की कोशिश में थे क्योंकि आप जानते हैं कि अफगानिस्तान एक उभरता हुआ देश है जो टैस्ट क्रिकेट खेलने की राह पर है।

यूपीसीए सचिव राजीव शुक्ला की मौजूदगी में एमओयू के कागजात पर दस्तखत करते हुए बीसीसीआइ सचिव अनुराग ठाकुर ने अफगानिस्तान टीम को उनकी हालिया सफलता के लिए बधाई दी। ठाकुर ने कहा कि अफगानिस्तान ने पिछले दो वर्षों में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है और विश्व कप के लिए क्वालीफाई करने के लिए इस टीम ने कड़ी मेहनत की है। वे भारत में खेलेंगे और बांग्लादेश को पूर्ण सदस्य बनाने में भारत ने जिस प्रकार योगदान दिया, वैसा ही योगदान हम अफगानिस्तान को भी पूर्ण सदस्य बनाने के लिए देंगे। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि महान भारतीय क्रिकेटरों का मागदर्शन अफगानिस्तान के युवा खिलाड़ियों के लिए सफलता का सबब बनेगा।

शुक्ला ने कहा कि यूपीसीए की तरफ से मैं ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की तरफ से किए गए इंतजामों का स्वागत करता हूं। अब तक उन्होंने रणजी मैचों की मेजबानी की, हम लोग वहां पर देवधर ट्राफी के आयोजन की भी योजना बना रहे हैं और अब शरजाह के बजाय वह स्टेडियम अफगानिस्तान के लिए घरेलू मैदान की तरह होगा। इस मैदान पर अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जाने के बारे में ठाकुर ने कहा कि इस बाबत फैसला आइसीसी करता है।
का यह नियम है कि जिस स्टेडियम में अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जाने हैं, एक मैच रेफरी उस स्टेडियम का दौरा करते हैं और अगर वह आइसीसी के मानकों के अनुरूप होता है तो उस स्टेडियम को अंतरराष्ट्रीय मैचों की मेजबानी की इजाजत दी जाती है। इसी बीच, ठाकुर ने एमओयू के जरिए भारत-अफगान संबंधों को मजबूत बनाने पर भी चर्चा की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App