ताज़ा खबर
 

मोटेरा पर सुनील गावस्कर और कपिल देव रच चुके हैं इतिहास, बल्लेबाजों की कब्रगाह भी रहा है यह स्टेडियम

नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम के चलते इन दिनों मोटेरा स्टेडियम खूब चर्चा में है लेकिन आपको बता दें कि सालों पहले भी यह क्रिकेट मैदान खूब खबरों रह चुका है। यह वही क्रिकेट मैदान है जहां पर 1983 में पहली बार वर्ल्ड कप जीतने वाले पूर्व कप्तान कपिल देव ने न्यूजीलैंड के गेंदबाज का सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने का वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ा था।

मोटेरा में कीर्तिमान बना चुके हैं सुनील गावस्कर और कपिल देव

Donald Trump on Sachin And kohli in Motera Stadium: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के साथ ही अहमदाबाद का मोटेरा स्टेडियम भी सुर्खियों में है, जिसमें हाउडी मोदी की तर्ज पर ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। जहां पर लाख से ज्यादा लोगों ने ट्रंप का भाषण सुना। ट्रंप ने अपने दौरे पर नए सिरे से निर्मित हुए सरदार बल्लभभाई पटेल मोटेरा स्टेडियम का उद्घाटन किया। इस दौरान ट्रंप ने टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली और मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर की तारीफ भी कहा। उन्होंने कहा, भारत के पास कोहली और सचिन जैसे महान क्रिकेटर हैं। बहरहाल, यहां हम आपको इस स्टेडियम की उन यादों से रू-ब-रू करा रहे हैं जिसमें कभी सुनील गावस्कर और कपिल देव जैस दिग्गज इतिहास रच चुके हैं।

नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम के चलते इन दिनों मोटेरा स्टेडियम खूब चर्चा में है लेकिन आपको बता दें कि सालों पहले भी यह क्रिकेट मैदान खूब खबरों रह चुका है। यह वही क्रिकेट मैदान है जहां पर 1983 में पहली बार वर्ल्ड कप जीतने वाले पूर्व कप्तान कपिल देव ने न्यूजीलैंड के गेंदबाज का सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने का वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ा था।

यह बात 1994 की है जब कपिल ने 431 टेस्ट विकेट लेने वाले हैडली के रिकॉर्ड को ब्रेक कर 432 विकेट लेकर एक रिकॉर्ड बनाया था। इसी स्टेडियम में सुनील गावस्कर टेस्ट क्रिकेट में सबसे पहले 10 हजार रन बनाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने थे। इसी मैदान पर भारत ने 2011 वर्ल्ड कप के क्वाटर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया में हराया था। इस मैच में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 5 विकेट से हराया था। युवराज सिंह ने नाबाद 57 और तेंदुलकर ने 53 रन बनाए थे। इसी स्टेडियम में 2008 में दक्षिण अफ्रीकी टीम ने भारत को टेस्ट की पहली पारी में 76 रन पर ऑलआउट कर दिया था। उस मुकाबले में वर्तमान बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने शून्य पर आउट हो गए थे। उस मैच में दक्षिण अफ्रीका के डेल स्टेन ने 5 और मखाया ने 3 विकेट लिए थे। इससे साबित होता है कि एक दौर में यह मैदान बल्लेबाजों के लिए कब्रगाह रहा है।

मोटेरा स्टेडियम में एक नया इतिहास बन रहा है, आज हम इतिहास को दोहराते हुए भी देख रहे हैं। इस स्टेडियम की आधारशिला 16 जनवरी 2017 में रखी गई थी। विश्व के सबसे बड़े इस स्टेडियम को नए सिरे से तैयार किया गया है, जिसकी दर्शक क्षमता 1 लाख से ज्यादा है। 63 एकड़ की जमीन पर इस स्टेडियम का निर्माण किया गया है जिसे लॉर्सन एंड टूब्रो और पापुलस जैसी कंस्ट्रक्शन कंपनियों ने बनाया है। इस क्रिकेट स्टेडियम में तीन प्रैक्टिस ग्राउंड और एक इंडोर क्रिकेट एकेडमी है।

इसके पार्किंग एरिया में 3000 कारों और 10000 दो पहिया वाहनों को पार्क किया जा सकेगा। इस स्टेडियम में 76 कॉरपोरेट बॉक्स, चार ड्रेसिंग रूम, एक क्लब हाउस और ओलंपिक साइज का एक स्विमिंग पूल है। स मैदान पर क्रिकेट के अलावा फुटबॉल, हॉकी, खो खो, कबड्डी, वॉलीबॉल, बास्केटबॉल, नेटबॉल, टेनिस, बैडमिंटन के भी मुकाबले भी करवाए जा सकते हैं।

Next Stories
1 Trump in india: मोदी, गांधी, सरदार की तारीफ कर ट्रंप ने किया सचिन और कोहली का जिक्र, कही ये बात
Coronavirus LIVE:
X