ताज़ा खबर
 

भारत पर मंडराया हार का खतरा, गेंद से बेस्ट प्रदर्शन देने वाले मोहम्मद शमी ने बताया कहां हुई टीम से चूक

भारतीय कप्तान विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियाई टिम पेन के बीच नोंकझोंक के बारे में शमी ने कहा, ‘‘हम इस बारे में अधिक बात नहीं कर सकते। यह खेल का हिस्सा है लेकिन कुछ भी गंभीर नहीं है। टेस्ट क्रिकेट में लंबे समय तक मैदान पर रहना होता है तो कई बार आप थोड़ा आक्रामक हो जाते है और प्रतिक्रिया कर बैठते हो।

Author December 18, 2018 6:49 AM
मोहम्मद शमी और विराट कोहली।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पर्थ स्टेडियम में खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन सोमवार को 56 रन देकर छह विकेट लेने वाले भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने अपनी सफलता का श्रेय सही लाइन और लैंथ के साथ गेंदबाजी करने को दिया है। यह शमी के टेस्ट में करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। शमी ने चौथे दिन का खेल खत्म होने के बाद मीडिया से कहा, “मैं हमेशा सही लाइन और लैंथ पर गेंदबाजी करने की कोशिश करता हूं। मेरा मानना है कि अगर आप सही लाइन और लैंथ पर गेंदबाजी करते हो तो टेस्ट क्रिकेट में आपको विकेट मिलेंगे।”इसी के साथ शमी इस साल भारत के लिए टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज बन गए हैं। शमी ने इस साल 44 विकेट अपने नाम किए हैं। आईसीसी की वेबसाइट ने शमी के हवाले से लिखा है, “जब आप अपने साझेदार के साथ मिलकर गेंदबाजी करते हो और आप दोनों को पता होता है कि आपको टाइट गेंदबाजी करनी है तो मैच जल्द ही आपके पाले में आ जाता है।”

शमी ने कहा, “आप हमारे प्रदर्शन में इस बात को देख सकते हैं। दूसरे छोर पर जो गेंदबाजी कर रहा होता है उसका योगदान भी अहम होता है।” शमी ने आगे कहा कि भारत ने एक भी स्पिनर टीम में नहीं रखकर गलती की क्योंकि पिच से धीमी गति के गेंदबाजों को भी मदद मिल रही थी और ऑस्ट्रेलिया के नाथन लियोन इस पर अब तक सात विकेट ले चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘लंबे समय बाद हम सभी तेज गेंदबाजों के साथ उतरे और हमने अच्छी लाइन और लेंथ से गेंदबाजी की। चार साल पहले हम ऐसा करने के अनुभवी नहीं थे। आपने चार साल पहले से हमारी गेंदबाजी में अंतर देखा होगा।’’

भारतीय कप्तान विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियाई टिम पेन के बीच नोंकझोंक के बारे में शमी ने कहा, ‘‘हम इस बारे में अधिक बात नहीं कर सकते। यह खेल का हिस्सा है लेकिन कुछ भी गंभीर नहीं है। टेस्ट क्रिकेट में लंबे समय तक मैदान पर रहना होता है तो कई बार आप थोड़ा आक्रामक हो जाते है और प्रतिक्रिया कर बैठते हो। ’’उन्होंने कहा, ‘‘हमें इन चीजों पर बहुत ध्यान नहीं देना चाहिए। अगर मैच में ऐसी चीजें नहीं होंगी तो मैच दिलचस्प नहीं बनेंगे।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App