scorecardresearch

जो रूट ने छोड़ी इंग्लैड की टेस्ट कप्तानी, 64 में से 27 मैचों में टीम को दिलाई जीत

जो रूट ने तत्काल प्रभाव से इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान के पद से इस्तीफा दे दिया है। टीम का पिछले कुछ समय से प्रदर्शन अच्छा नहीं चल रहा था। ऐसे में उनपर दबाव था।

जो रूट ने कप्तानी छोड़ी। (फोटो- रायटर्स)

जो रूट ने तत्काल प्रभाव से इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान के पद से इस्तीफा दे दिया है। वह पांच साल से यह भूमिका निभा रहे थे और उन्होंने इंग्लैंड के लिए 64 मैचों में कप्तानी की। इस दौरान 27 में टीम को जीत मिली और 26 में उसे हार का सामना करना पड़ा। दाएं हाथ के बल्लेबाज पर पिछले कुछ समय से काफी दबाव था। इसका कारण है कि टीम पिछले 17 टेस्ट मैचों में से केवल एक में जीत हासिल कर पाई है।

बता दें कि इस साल की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया के हाथों इंग्लैंड को एशेज सीरीज में 4-0 से शर्मनाक हार झेलनी पड़ी। इसके बाद वेस्टइंडीज दौरे पर टीम को 1-0 से हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद से रूट की कप्तानी पर सवाल उठने लगे थे। पूर्व कप्तान माइकल एथर्टन और नासिर हुसैन समेत कुछ अन्य पूर्व खिलाड़ियों ने कहा था कि नेतृत्व परिवर्तन का समय आ गया है।

बोर्ड की ओर से जारी बयान में रूट ने कहा, ” कैरेबियाई दौरे से लौटने के बाद, मैंने इंग्लैंड मेंस क्रिकेट टेस्ट टीम के कप्तानी का पद छोड़ने का फैसला किया है। यह मेरे करियर का सबसे चुनौतीपूर्ण निर्णय रहा है, लेकिन अपने परिवार और अपने सबसे करीबी लोगों के साथ इस पर चर्चा करने के बाद, मुझे पता है कि ऐसा करने का यह समय सही है।” इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान के रूप में 31 वर्षीय रूट के नाम पर सर्वाधिक मैचों में जीत का रिकार्ड है। उनकी अगुवाई में इंग्लैंड ने 27 मैच जीते हैं जो माइकल वान से एक अधिक तथा एलिस्टेयर कुक और एंड्रयू स्ट्रास से तीन अधिक है।

रूट ने पुष्टि की कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना जारी रखेंगे। उन्होंने कहा, “मैं अगले कप्तान, मेरी टीम के साथियों और कोचों की हर तरह से मदद करने के लिए तत्पर हूं।” टीम के उपकप्तान बेन स्टोक्स को रूट का उत्तराधिकारी बनाया जा सकता है। इसके अलावा जोस बटलर और स्टुअर्ट ब्रॉड भी हैं। रूट ने ऐसे समय पर कप्तानी छोड़ी है जब टीम काफी कठिन दौर से गुजर रही है। टीम के पास मैनेजिंग डायरेक्टर, कोच, सलेक्टर पहले से ही नहीं थे और अब कप्तान भी नहीं है।

ईसीबी के मुख्य कार्यकारी टॉम हैरिसन ने कहा कि रूट कप्तानी के दौरान एक असाधारण रोल मॉडल रहे। इस दौरान उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा, “जो ने दुनियाभर में महामारी के दौरान खेलते हुए कुछ सबसे कठिन और अनिश्चित समय में टीम का नेतृत्व किया, जो बताता है कि वह कैसे कप्तान थे।”

रूट को 2017 में एलिस्टर कुक के इस्तीफे के बाद कप्तान नियुक्त किया गया था। उनके कप्तानी में टीम ने 2018 में भारत के खिलाफ और 2019-20 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज जीती। वहीं ऑस्ट्रेलिया में लगातार 4-0 से हार के अलावा टीम ने पिछले साल न्यूजीलैंड और भारत से घरेलू सरजमीं पर खराब प्रदर्शन किया। कप्तानी से उनकी बल्लेबाजी प्रभावित दिखाई दी, लेकिन उन्होंने 2021 में 1708 रन बनाए।

पढें क्रिकेट (Cricket News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X