ताज़ा खबर
 

हर मैच में फ्लॉप होने के बाद भी इस बल्लेबाज को दिल्ली की टीम ने खिलाया पूरा सीजन, अब कोच ने दी सफाई

कोलिन मुनरो, जेसन रॉय और ग्लेन मैक्सवेल जैसे खिलाड़ी का फ्लॉप होना टीम की हार की सबसे बड़ी वजह बनी। लीग मैच के आखिरी मुकाबले में मुंबई को हराने के बाद टीम के हेड कोच रिकी पोंटिंग ने टीम की तारीफ की। पोंटिंग से मैक्सवेल के फ्लॉप होने के बाद भी लगातार टीम में खेलने के फैसले पर सवाल किया गया।

दिल्ली की टीम।

दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए साल 2018 का आईपीएल भी निराशाजनक रहा। टीम ने आखिरी के समय में चेन्नई और मुंबई जैसी टीम को मात देने में कामयाबी हासिल जरूर की, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। दिल्ली की टीम ने इस साल युवा के साथ-साथ कुछ विदेशी विस्फोटक खिलाड़ियों को अपनी टीम में शामिल किया था। कोलिन मुनरो, जेसन रॉय और ग्लेन मैक्सवेल जैसे खिलाड़ी का फ्लॉप होना टीम की हार की सबसे बड़ी वजह बनी। लीग मैच के आखिरी मुकाबले में मुंबई को हराने के बाद टीम के हेड कोच रिकी पोंटिंग ने टीम की तारीफ की। पोंटिंग से मैक्सवेल के फ्लॉप होने के बाद भी लगातार टीम में खेलने के फैसले पर सवाल किया गया। इस पर पोंटिंग ने कहा, ”न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए ट्राई सीरीज में मैक्सवेल का फॉर्म शानदार था, उन्होंने इस सीरीज के हर मुकाबले में टीम के लिए रन बनाने का काम किया था। मैक्सवेल को लगातार टीम में खिलाने के पीछे हमारी सोच उनके फॉर्म को वापस लाने की थी, लेकिन वह पूरे सीजन फ्लॉर रहे जिससे टीम को काफी नुकसान हुआ”।

ग्लेन मैक्सवेल। (फोटो सोर्स- AP)

वहीं लीग के बीच में ही गंभीर के कप्तानी छोड़ने के बाद टीम के प्रदर्शन के प्रभावित होने के बारे में पोंटिंग ने कहा, “गौतम के कप्तानी छोड़ने से मुझे नहीं लगता कि टीम के प्रदर्शन पर कोई नकारात्मक प्रभाव पड़ा। मैं यह कह सकता हूं कि मेरे साथ-साथ कई खिलाड़ियों को हैरानी हुई। कप्तानी छोड़ना एक हिम्मत वाला फैसला था क्योंकि उन्हें लग रहा था कि उन्होंने जो किया है वह टीम की भलाई सोच कर किया। यह एक इंसान के रूप में उनके व्यक्तित्व के बारे में कई चीजें दर्शाता है। उनके कप्तानी छोड़ने के साथ-साथ टीम के अंतिम एकादश से हटने के फैसले से पृथ्वी शॉ को खेलने का मौका मिला।”

श्रेयस के कप्तान बनकर टीम को संभालने की बात पर पोंटिंग ने कहा, “श्रेयस के लिए यह काफी जिम्मेदारी की बात रही क्योंकि एक युवा खिलाड़ी होने के नाते उन पर काफी दबाव था और उन्होंने अपने करियर में इस प्रकार की जिम्मेदारी अधिक रूप से नहीं संभाली है। उन्होंने इस चुनौती को अच्छे से संभाला। उनका करियर बहुत लंबा है, न केवल आईपीएल में बल्कि भारतीय क्रिकेट टीम में भी।” ऋषभ के लिए यह सीजन शानदार रहा है। खुशी है कि उन्हें नारंगी कैप पहनने का मौका मिला। उन्होंने केन विलियमसन जैसे बल्लेबाज को पछाड़ा है। टीम के कप्तान श्रेयस अय्यर ने भी अच्छा प्रदर्शन किया।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App