ताज़ा खबर
 

साथ खेले क्रिकेटर का हरभजन सिं‍ह ने कराया इलाज, दोस्‍त बोला- साबित कर दी सच्ची दोस्ती

भारत के लिए 103 टेस्ट मैच खेल चुके दिग्गज खिलाड़ी हरभजन सिंह ने इस बारे में बताया, 'उसने (हरमन) किसी तरह मुझे फोन किया और अपनी बीमारी के बारे में बताया। वो मायूस था। उसे इलाज के लिए पैसों की सख्त जरुरत थी।'

हरभजन सिंह। (फोटो सोर्स- बीसीसीआई)

भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी हरभजन सिंह बीमार पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी की मदद कर सुर्खियों में बने हुए हैं। हरमन हैरी, जिन्होंने पंजाब के लिए अंडर-16 क्रिकेट खेला, आंत में गंभीर बीमारी की वजह से मौत से जंग लड़ रहे थे। इसकी जानकारी जब हरभजन सिंह को लगी तो उन्होंने तुंरत पूर्व खिलाड़ी का इलाज कराने में मदद की है। दरअसल हैरी और भज्जी ने साल 1990 के दौर में पंजाब के लिए एक साथ अंडर-16 क्रिकेट खेला। बाद में 1998 में भारतीय टीम में मौका मिलने के बाद भज्जी के करियर को नई ऊंचाई मिली जबकि हैरी संघर्ष करते रहे। रिपोर्ट के मुताबिक एक दिन भज्जी को बहुत पुराने दोस्त का फोन आया जिसे इलाज के लिए पैसों की काफी जरुरत थी। इसपर उन्होंने बिना सोचे तुंरत अपने पुराने दोस्त की मदद की।

भारत के लिए 103 टेस्ट मैच खेल चुके दिग्गज खिलाड़ी हरभजन सिंह ने इस बारे में बताया, ‘उसने (हरमन) किसी तरह मुझे फोन किया और अपनी बीमारी के बारे में बताया। वो मायूस था। उसे इलाज के लिए पैसों की सख्त जरुरत थी। मैंने उससे कहा कि वह अपना इलाज कराए और पैसों की चिंता बिल्कुल ना करे। इलाज का खर्च मैं वहन करुंगा, क्योंकि इंसान की जिंदगी से कुछ भी महत्वपूर्ण नहीं है।’

इंडिया टुडे के मुताबिक हरभजन बताते हैं कि उन्होंने अपने पुराने दोस्त से कहा कि वह किसी अच्छे हॉस्पिटल और अनुभवी डॉक्टर से अपना इलाज कराएं। इलाज के खर्च की चिंता बिल्कुल ना करें। बता दें कि जिस समय हरभजन के पुराने दोस्त ने उन्हें फोन किया तब वो अपने पिता सरदार सरदेव सिंह की यादव में जालंधर में क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन करा रहे थे।

इलाज के बाद दोबारा खुशहाल जिंदगी बिता रहे हरमन कहते हैं, ‘मैं जिंदगीभर उनका आभारी रहूंगा। उन्होंने साबित कर दिया कि सच्ची दोस्ती क्या होती है। मेरे पास पैसे नहीं बचे थे। सारे पैसे पिछले साल इलाज के दौरान खर्च हो गए। हरभजन एक फरिश्ते की तरह आए और मौत के जबड़े से मुझे निकाल लिया।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App