ताज़ा खबर
 

विराट कोहली बोले- हमारे पास विदेशी सरजमीं पर जीतने का जज्बा, कौशल और मानसिकता

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने आज यहां कहा कि टीम के पास विदेशों में जीत दर्ज करने के लिए कौशल, जज्बा और मानसिक मजबूती है।

Author नई दिल्ली | August 1, 2018 1:52 PM
विराट कोहली ने की अपनी टीम के कौशल की तारीफ (फोटो-रॉयटर्स)

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने बुधवार को कहा कि टीम के पास विदेशों में जीत दर्ज करने के लिए कौशल, जज्बा और मानसिक मजबूती है। इंग्लैंड के खिलाफ कल से शुरू हो रहीं पांच टेस्ट मैचों की श्रृंखला से पहले कोहली ने विदेशी हालात से निडर रहने का आत्मविश्वास जताते हुए कहा कि भारतीय टीम यहां की चुनौती से निपटने के लिए तैयार है। भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘ हमारे पास टेस्ट मैच जीतने के लिए जरूरी कौशल, जज्बा और मानसिक मजबूती है। दक्षिण अफ्रीका में हमने जैसा खेल दिखाया उससे हमारा आत्मविश्वास बढ़ा है। हम मुश्किल हालात में खुद को परखने को लेकर तैयार हैं। जाहिर है आॅस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसे देश में आपको मुश्किल परिस्थिति का समाना करना पड़ता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हमारी तैयारियां अच्छी हैं। जो खिलाड़ी एकदिवसीय टीम का हिस्सा थे उनके पास यहां के हालात से सामंजस्य बैठाने का काफी समय था। टेस्ट टीम के खिलाड़ियों को भी तैयारी का प्रयाप्त मौका मिला। उन्हें भारत ए और अभ्यास मैच में खेलने का मौका मिला। हम सबकी सोच सकारात्म है। बल्लेबाज और गेंदबाज दोनों आत्मविश्वास से भरे हैं। हम सब उत्साहित हैं।
कोहली ने कहा की लंबी श्रृंखला के कारण दोनों टीमों के पास योजना में बदलाव कर वापसी का मौका होगा। उन्होंने कहा, ‘‘ यह पांच मैचों की श्रृंखला है, अगर किसी मैच में आपकी योजना गलत हो जाती है तो निराश होने की जरूरत नहीं। इतनी लंबी श्रृंखला में चीजों को बदलने के लिए आपको धैर्य रखना होगा। हम सब सहज हैं। गेंदबाजी, बल्लेबाजी और यहां तक कि क्षेत्ररक्षण में भी सब सकारात्मक हैं।’’ भारतीय कप्तान ने कहा कि इंग्लैंड में श्रृंखला जीतने के प्रबल दावेदार या कमजोर टीम होने पर ध्यान देने के बजाय पेशेवर और निरंतर प्रदर्शन करना महत्वपूर्ण होगा। भारतीय टीम ने यहां 2007 में टेस्ट श्रृंखला में जीत दर्ज की थी जबकि 2011 और 2014 में उसे हार का समाना करना पड़ा था। कोहली और भारतीय टीम की कोशिश इंग्लैंड के 1000वें टेस्ट मैच के जश्न को फीका करने की होगी।

उन्होंने कहा, ‘‘ यह मायने नहीं रखता कि आप टूर्नामेंट जीतने के दावेदार हैं या कमजोर टीम हैं। आपको मैदान में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। ऐसा नहीं है कि आप कमजोर टीम होंगे तो विपक्षी टीम पर दबाव नहीं होगा। अगर आप टूर्नामेंट जीतने के दावेदार है तो कमजोर टीम हमेशा निडर होकर खेलेगी।’’ इंग्लैंड ने अपने 11 खिलाड़ियों के नाम की घोषणा कर दी है तो वहीं भारतीय टीम ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं। भुवनेश्वर कुमार की अनुपस्थिति में भी टीम चयन की चुनौती होगी। कोहली ने कहा कि हम जिस खिलाड़ी का चयन करेंगे उसका समर्थन करेंगे। बाद में उस पर पछतावा नहीं करेंगे। भारतीय तेज आक्रमण पर उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे लगता है हमारा तेज आक्रमण पिछले कुछ वर्षों में परिपक्व हुआ है। उन्हें दुनियाभर में खेलने के अनुभव से फायदा हुआ है। वे अपने खेल को लेकर सहज हैं वैसे ही जैसे बल्लेबाजों के साथ होता है।’

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि वह इंग्लैंड के 2014 दौरे की विफलता से परेशान नहीं है और उन्हें किसी देश में खुद को साबित नहीं करना। कोहली ने कहा कि 2014 में मैं पांच टेस्ट की श्रृंखला में 134 रन ही बना सका था जिसे भारत ने लार्ड्स में बढ़त बनाने के बावजूद 1-3 से गंवाया था। कोहली ने कहा, ‘‘पहले जब मैं इन चीजों को बेहतर नहीं जानता था तब ये चीजें मुझे परेशान करती थी क्योंकि मैं काफी पढ़ा करता था। लेकिन ईमानदारी से कहूं और यह मैं आप लोगों के सामने बैठे होने के कारण नहीं कह रहा- मैं वास्तव में कुछ नहीं पढ़ता। मुझे कुछ नहीं पता कि क्या हो रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दक्षिण अफ्रीका में पहले दो टेस्ट के बाद मुझे नहीं पता कि क्या चल रहा है। मेरा ध्यान पूरी तरह से अपनी तैयारी पर है और टीम पर है। अगर मैं अपनी ऊर्जा इन चीजों पर व्यर्थ कर दूंगा तो मैं अपनी मनोस्थिति के साथ समझौता करूंगा।’’ कोहली ने कहा, ‘‘मुझे सबसे अधिक आश्वस्त और मानसिक रूप से स्पष्ट होने की जरूरत है और यह तभी होगा जब मैं उस पर ध्यान लगाऊंगा जिस पर लगाने की जरूरत है।

जल्द ही मैं 10 साल पूरे करने वाला हूं। 10 साल पहले मैंने नहीं सोचा था कि मैं अपने करियर में यहां पहुंचूंगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए मुझे कोई शिकायत नहीं है और मैं इस मनोस्थिति में नहीं हूं कि मुझे किसी देश में खुद को साबित करने की जरूरत है। मैं सिर्फ टीम के लिए प्रदर्शन करना चाहता हूं और रन बनाना चाहता हूं और भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाना चाहता हूं। यही मेरा एकमात्र इरादा है।’’ कोहली को पिछले दौरे पर अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने काफी परेशान किया था और मेजबान टीम के इस गेंदबाज की चुनौती पर कोहली ने कहा, ‘‘यह बेहद सामान्य है। आपको उन चीजों पर ध्यान देना होगा जो आपको बल्लेबाज के रूप में करने की जरूरत है। क्रीज पर आप जिन योजनाओं के साथ उतरना चाहते हैं और आप अपने मन की आवाज सुनते हैं। आपको अपनी क्षमता पर पूरा विश्वास होना चाहिए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App